जानिए कौन हैं सावरकर, जयंती पर PM मोदी समेत इन दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

आज भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सेनानी और प्रखर राष्ट्रवादी नेता विनायक दामोदर सावरकर जयंती है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

नई दिल्ली: आज भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सेनानी और प्रखर राष्ट्रवादी नेता विनायक दामोदर सावरकर जयंती है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है। पीएम मोदी ने सावरकर की जयंती के मौके पर उन्हें नमन किया और उनकी बहादुरी के लिए उन्हें याद किया है।

PM मोदी ने सावरकर को किया नमन

उन्होंने एक वीडियो पोस्ट करते हुए ट्वीट किया कि उनकी जयंती पर, मैं साहसी वीर सावरकर को नमन करता हूं। हम उन्हें उनकी बहादुरी के लिए याद करते हैं, जो कई अन्य लोगों को स्वतंत्रता संग्राम में शामिल होने और सामाजिक सुधार पर जोर देने के लिए प्रेरित करते हैं।

यह भी पढ़ें: आज राज्यों से बात करेंगे कैबिनेट सचिव, लॉकडाउन-5 के स्वरूप पर होगी चर्चा

राजनाथ सिंह ने भी वीर सावरकर को दी श्रद्धांजलि

उनके अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी उनकी नमन की है। राजनाथ सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि वीर सावरकर भारत माता के ऐसे सपूत थे जिन्होंने अदभुत जीवट और राष्ट्रप्रेम का परिचय देते हुए इस देश को आज़ाद कराने में बड़ी भूमिका निभाई।

उन्होंने एक भारत और मज़बूत भारत की कल्पना की जिसे साकार करने का संकल्प हर भारतीय के मन में है। सावरकरजी की जयंती पर मैं उन्हें नमन करता हूँ!

राष्ट्रभक्ति का एक मंत्र, एक विचार बन गया है वीर सावरकर का नाम

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, अपनी अभिजात देशभक्ति से वीर सावरकर बस एक नाम भर नहीं रहा वह राष्ट्रभक्ति का एक मंत्र, एक विचार बन गया है।

भारत की अखंडता के प्रबल पक्षधर वीर सावरकर का महामंत्र था एक राष्ट्र-एक संस्कृति भाव। देश की स्वतंत्रता के लिए उनका संघर्ष व राष्ट्रप्रेम हर भारतीय के लिए प्रेरणास्त्रोत है।

यह भी पढ़ें: चीन के खिलाफ हांगकांग में भड़का गुस्सा, विरोध प्रदर्शन पर चीन ने उठाया ये बड़ा कदम

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि वीर सावरकर ने भारत की स्वतंत्रता के लिए अनेकों यातनायें सहीं। देश के लिए इतने कष्ट सहने वाला विश्व में सावरकर जैसा शायद ही कोई हो।

उन्होंने अस्पृश्यता के खिलाफ भी लड़ाई लड़ी और मंदिरों में दलित समाज के प्रवेश के लिए संघर्ष किया। ऐसे महान राष्ट्रभक्त के चरणों में कोटि-कोटि नमन।

उद्धव ठाकरे ने भी किया उनका याद

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने विनायक दामोदर सावरकर को याद किया।  ठाकरे ने सावरकर को एक प्रखर देशभक्त, उत्कृष्ट लेखक और प्रभावी वक्ता बताया है।

जानिए कौन थे वीर सावरकर?

28 मई 1883 में मुंबई में जन्मे वीर सावरकर का पूरा नाम विनायक दामोदर सावरकर था, भारतीय इतिहास में उनको न सिर्फ स्वाधितनता संग्राम का तेजस्वी सेनानी माना जाता है बल्कि उन्हे महान क्रान्तिकारी, चिन्तक, सिद्धहस्त लेखक, कवि, ओजस्वी वक्ता और दूरदर्शी राजनेता भी कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: जानिए कितना महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, चेक करें आपके शहर में क्या है दाम

इतना ही नहीं हिन्दू राष्ट्र की राजनीतिक विचारधारा को विकसित करने का बहुत बड़ा श्रेय भी सावरकर को ही जाता है। वे एक वकील, राजनीतिज्ञ, कवि, लेखक और नाटककार थे जिन्होंने ब्रटिश शासन को हिला कर रख दिया था।

उनका जन्म नासिक के भांगुर गांव में हुआ था। उनके दो भाई एक बहन थी। 1904 में उन्होंने एक क्रांतिकारी संगठन की स्थापना की जिसका नाम रखा गया ‘अभिनव भारत’।

आंदोलन के दौरान अंग्रेजों द्वारा नासिक जिले के कलेक्टर जैकसन की हत्या के लिए नासिक षडयंत्र काण्ड के अंतर्गत सावरकर को 11 अप्रैल को काला पानी की सजा दे दी गई। विनायक दामोदर सावरकर का निधन 26 फरवरी 1966 को हुआ था।

यह भी पढ़ें: श्रमिकों के लिए नया कानून: बदल देगा मजदूरों की परिभाषा, मिलेंगी ये सुविधाएं

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।