पं बंगाल: भाटपारा हिंसा की जांच करने पहुंची भाजपा की केंद्रीय टीम

पं बंगाल में हिंसा से स्थिति अब भी तनावपूर्ण बनी हुई है। उत्तर परगना के भाटपारा शहर में हुई हिंसा के बाद अब बीजेपी ममता बनर्जी को घेरने में जुट गई है। भाटपारा हिंसा के विरोध में  बीजेपी के तीन सांसदों का दल शनिवार

Published by Anoop Ojha Published: June 22, 2019 | 9:23 am
Modified: June 22, 2019 | 2:57 pm

पं बंगाल में हिंसा: BJP शिष्टमंडल आज करेगा भाटपाड़ा का दौरा

नई दिल्लीः पं बंगाल में हिंसा से स्थिति अब भी तनावपूर्ण बनी हुई है। उत्तर परगना के भाटपारा शहर में हुई हिंसा के बाद अब बीजेपी ममता बनर्जी को घेरने में जुट गई है। भाटपारा हिंसा के विरोध में  बीजेपी के तीन सांसदों का दल शनिवार को कोलकाता में पहुंचेगा और हिंसा के खिलाफ विरोध जताएगा।

आज जो शिष्टमंडल भाटपाड़ा का दौरा करेगा उसकी अगुवाई सांसद एसएस अहलूवालिया के नेतृत्व में एक टीम  कोलकाता पहुंच रही है।टीम में उनके अलावा सांसद सत्यपाल सिंह और बी डी राम होंगे। सांसद टीएमसी सरकार के खिलाफ मार्च भी करेंगे।

 

यह भी पढ़ें ……इस वजह से महीने के अंत तक यूपी का दौरा करेंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत

दरअसल गुरुवार को भाटपारा के नए पुलिस स्टेशन के पास तृणमूल कांग्रेस(टीएमसी) और बीजेपी समर्थकों में हिंसक झड़पें हुई थीं। इस दौरान दोनों पक्षों में कथित तौर पर न केवल बमबाजी बल्कि गोलियां भी चलाई गई थीं।  इस हिंसक झड़प में दो लोगों की मौत हो गई थी।

वहीं  तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा शिष्टमंडल के दौरे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उनका उद्देश्य है कि क्षेत्र में हिंसा जारी रहे। इससे पहले हिंसा के विरोध में भाजपा ने शुक्रवार को पूरे राज्य में व्यापक विरोध प्रदर्शन किया और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ नारेबाजी की। दरअसल बंगाल में हिंसा का दौर पंचायत चुनाव से ही चला आ रहा है जो लोकसभा चुनावों में भी जारी रहा। इस दौरान बीजेपी और टीएमसी के कई कार्यकर्ताओं की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें ……ओमान की खाड़ी: भारतीय तेल टैंकरों की सुरक्षा में जवानों को तैनात करेगी नौसेना

भाटपाड़ा एक समय टीएमसी का गढ़ माना जाता था लेकिन लोकसभा चुनाव में जिस तरह से बीजेपी ने यहां सेंध लगाई है वो विधानसभा चुनावों को देखते हुए ममता के लिए चिंता का विषय है। भाटपाड़ा विधानसभा बैरकपुर लोकसभा क्षेत्र के तहत आता है। लोकसभा चुनाव के साथ हीं भाटपाड़ा विधानसभा के लिए भी उपचुनाव कराया गया था और दोनों में टीएमसी को शिकस्त का सामना करना पड़ा था।