यहां आपके दरवाजे पर मिलेगा खाना, सरकार घर तक पहुंचाएगी ये सुविधा…

कोरोना वायरस के खात्मे के लिए इस समय पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया है। इस फैसले से दूसरे शहरों और राज्यों में रह रहे लोगों में भय का माहौल है। लोग अपने घर लौटने को लेकर बेहद परेशान हैं…

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खात्मे के लिए इस समय पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया है। इस फैसले से दूसरे शहरों और राज्यों में रह रहे लोगों में भय का माहौल है। लोग अपने घर लौटने को लेकर बेहद परेशान हैं। इस बीच बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने अपने राज्य लोगों से आह्वान किया कि जो लोग जहां हैं वहीं रहें, उनके खाने-पीने की व्यवस्था की जाएगी।

ये भी पढ़ें: बागपत: कोरोना से संक्रमित युवक मिला, दुबई में करता था नौकरी

पीएम के निर्देश के बाद लोग सड़क पर आ गए

पीएम मोदी के लॉकडाउन के ऐलान के बाद लोगों में अफरातफरी मच गई। लोग अपने घर की ओर कूच करने लगे थे। असल में यह निर्देश कोरोना को खत्म करने के लिए हुआ था, जिससे लोगों के बीच सामाजिक दूरी बनी रहे। पीएम के इस निर्देश के बाद लोग सड़क पर ही आ गए। कैसे भी करके घर पहुंचने की कोशिश करने लगे।

घर जाने की मची होड़

यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों में प्रवासी लोगों की भारी भीड़ दिखी। अब कई राज्य अपने यहां के लोगों को जहां पर हैं वहीं पर ठहरने की सलाह दे रहे हैं। अब बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने लोगों से आह्वान किया है कि जो जहां है वहीं रहें, उन्हें बिहार आने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार उनके खाने-पीने की व्यवस्था करेगी।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में 3 घंटों की छूट: यहां उमड़ी इतनी भीड़, नजारा देख रह जाएंगे दंग

सिर्फ बिहार ही नहीं अन्य राज्यों की सरकारें भी ऐसा ही उपाय कर रही हैं। मध्य प्रदेश में भी कोरोना के नियंत्रण तथा लॉकडाउन के कारण लोगों के लिए खाने का प्रबंध कराया जा रहा है। मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने जहां भी लोगों को भोजन या आश्रय की व्यवस्था करना हो खर्च की अनुमति दी है। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिया है कि अगले 21 दिनों तक प्रदेश में कहीं भी मेले या समारोह आदि का आयोजन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा।

 

मध्य प्रदेश में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हो सकते हैं, जिन्हें लॉकडाउन के कारण भोजन की व्यवस्था करने में कठिनाई आ रही हो। ऐसी स्थिति में स्वयंसेवी संस्थाओं आदि को प्रेरित कर भोजन के पैकेट बनवाए जाएं और वितरण की व्यवस्था की जाए ताकि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे।

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस के टीके के लिए सिंगापुर ने अपनाया नया रास्ता