ठंड ने तोड़ा 118 साल का रिकॉर्ड, जानें अपने राज्य का हाल

देश की दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में पिछले कई दिनों से कड़ाके की ठंड पड़ रही है। हड्डियों को जमा देने वाली हवा की वजह से लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। इ

नई दिल्ली: देश की दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में पिछले कई दिनों से कड़ाके की ठंड पड़ रही है। हड्डियों को जमा देने वाली हवा की वजह से लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। इस बार देश की राजधानी दिल्ली में ठंड ने 118 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। यहां शनिवार सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर दिल्ली में न्यूनतम तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। वहीं शुक्रवार को यहां 4.2 डिग्री न्यूनतम तापमान दर्ज हुआ था। यहां सर्दी की वजह से लोगों को गर्म रहने के लिए लगातार आग का सहारा लेना पड़ रहा है। इंसान के साथ-साथ जानवरों को भी मौसम की मार झेलनी पड़ रही हैं।

ये भी पढ़ें:इस खिलाड़ी ने फुटबॉल में भारत का बढ़ाया मान,जाने महिला टीम के लिए कैसा था 2019

मौसम विभाग के मुताबिक, इससे पहले वर्ष 1901 में इतनी ठंड पड़ी थी। ऐसा बताया जा रहा है कि 118 साल में ये दूसरा दिसंबर का महीना है जब दिल्ली में इतनी जबरदस्त ठंड पड़ रही है। विभाग के अनुसार फ़िलहाल तो कोई सुधार नहीं होने वाला है, क्योंकि नए साल के मौके पर यानी 31 दिसंबर से दो जनवरी के बीच दिल्ली में बारिश की संभावना है।

ऐसा बताया जा रहा है कि अभी ठंड से राहत मिलने के कोई आसार नहीं हैं। ठंड बढ़ने की वजह से ही दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर भी तेजी से बढ़ा है। शुक्रवार को दिल्ली के इंडिया गेट के आसपास के क्षेत्र में AQI 367 दर्ज किया है। जो बहुत ही खराब है।

तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया

वहीं 26 दिसंबर गुरुवार को राजधानी में अधिकतम तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। आपको बता दें कि दिल्ली में पिछले 13 दिनों से लगातार तापमान में गिरावट दर्ज की जा रही है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) के एक अधिकारी ने बताया कि दिसंबर में औसत अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से कम वर्ष 1919, 1929, 1961 और 1997 में रहा है। इस साल दिसंबर में औसत अधिकतम तापमान अब तक 19.85 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और यह 31 तारीख तक 19.15 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की संभावना है। यदि ऐसा होता है तो वर्ष 1901 के बाद यह दूसरा सबसे सर्द दिसंबर होगा। दिसंबर 1997 में औसत अधिकतम तापमान 17.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

ये भी पढ़ें:वाराणसी के विकास पर सीएम ने थपथपाई अधिकारियों की पीठ, बोले-नहीं आएगी पैसे की कमी

श्रीनगर में पारा शून्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस नीचे

वहीं उत्तर में कश्मीर में शीतलहर का प्रकोप जारी है और श्रीनगर में पारा शून्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस नीचे जाने के साथ ही अब तक इस मौसम की सबसे ठंडी रात दर्ज की गई। लद्दाख में शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 0 से कई डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया लेकिन आसमान साफ रहा।

भारतीय मौसम विभाग (IMD) के एक अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर में कल की रात इस मौसम की अब तक की सबसे ठंडी रात रही जब न्यूनतम तापमान शून्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया जिसकी वजह से बहुत सी जगहों पर जलापूर्ति लाइन जम गई। कश्मीर घाटी में सबसे ठंडा स्थान दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग जिले में स्थित पहलगाम रिसोर्ट रहा जहां रात का तापमान शून्य से 12 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अधिकारी ने कहा कि कि दक्षिणी कश्मीर के काजीगुंड में पारा शून्य से 10.5 कम रहा। कोकरनाग में तापमान शून्य से सात डिग्री कम रहा जबकि उत्तर कश्मीर में कुपवाड़ा में न्यूनतम तापमान शून्य से 6.3 डिग्री नीचे दर्ज किया गया।

लेह में -20.7 डिग्री सेल्सियस पारा

मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि केंद्र शासित क्षेत्र लदाख के लेह नगर में तापमान शून्य से 20.7 डिग्री सेल्सियस कम रहा। कश्मीर इस समय चिल्लई कलां की गिरफ्त में है। चिल्लई कलां 40 दिन चलने वाला बेहद ठंड का समय होता है क्योंकि वहां उस समय सबसे ज्यादा हिमपात होता है।

ये भी पढ़ें:बड़ा धमाका: दहल गया अमरीका, 12 लोग घायल

हिमालय क्षेत्र में लगातार हो रही बर्फबारी और तेज हवाओं के चलते मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ सकती है।

हरियाणा और पंजाब में ठंड का कहर जारी है। हिसार में पारा नीचे लुढ़ककर 0.3 डिग्री पर पहुंच गया। मौसम विभाग के मुताबिक हरियाणा के हिसार में पिछली रात मौसम की सबसे ठंडी रात रही, जब न्यूनतम तापमान 6 डिग्री नीचे गिर गया।