अगर ऐसा है आपका रिलेशनशिप तो अपनाए ये बातें, रहेंगे खुश

आज-कल अक्सर हर रिश्ते में कपल की लड़ाई करने की संख्या बढ़ती जा रही हैं। अमेरिका में टेनेसी विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर एवं अध्ययन लेखक एमी राउर ने कहा, “खुशहाल जोड़े विवाद की स्थिति में एक समाधान वाला दृष्टिकोण अपनाते हैं और यह उन विषयों पर भी लागू होता है, जिन पर वे चर्चा करते हैं।”

लखनऊ: आज-कल अक्सर हर रिश्ते में कपल की लड़ाई करने की संख्या बढ़ती जा रही हैं। अमेरिका में टेनेसी विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर एवं अध्ययन लेखक एमी राउर ने कहा, “खुशहाल जोड़े विवाद की स्थिति में एक समाधान वाला दृष्टिकोण अपनाते हैं और यह उन विषयों पर भी लागू होता है, जिन पर वे चर्चा करते हैं।”

ये भी देखें:अभी-अभी भीषण हादसे का शिकार हो गए बीजेपी के ये बड़े नेता, 2 की मौत

जर्नल फैमिली प्रोसेस में प्रकाशित अध्ययन के लिए, टीम ने दो अलग-अलग वर्ग बनाकर जोड़ों के मुद्दों पर गौर किया, जिनमें ज्यादातर शिक्षित कपल थे। उन्होंने खुद को खुशहाल बताया।

इनमें से 57 कपल मध्य उम्र के थे, जिनकी शादी हुए औसतन नौ साल हो गए थे। इसके अलावा 64 जोड़े ऐसे लिए गए, जिनकी उम्र लगभग 70 वर्ष के आसपास थी और उनकी शादी को औसतन 42 साल हो चुके थे। जोड़ों को उनके सबसे गंभीर व सबसे छोटे मुद्दों को एक क्रम में बताने को कहा गया।

ये भी देखें:अमित शाह का इशारा! तो क्या मिलेगा इन कार्ड से छुटकारा

इस दौरान बुजुर्ग कपल के बीच अंतरंगता, अवकाश, घरेलू, स्वास्थ्य, संचार और पैसा झगड़े के लिए गंभीर व बड़े मुद्दे सामने आए। दोनों ही वर्ग के जोड़ों ने ईर्ष्या, धर्म और परिवार के मुद्दे को कम गंभीरता की श्रेणी का बताया।

जब शोधकर्ताओं ने कपल की वैवाहिक समस्याओं पर चर्चा की, तो सभी जोड़ों ने स्पष्ट समाधान वाले मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया, जैसे कि घर के कामों का बंटवारा और अवकाश का समय कैसे व्यतीत करने जैसी बात शामिल रही।

ये भी देखें:विराट-तेंदुलकर हैं बहुत पीछे, मोदी के बाद इस मामले में आगे है इनका नाम

अनुसंधान करनेवाले ने पाया कि कपल ने ऐसे मुद्दों को बहुत ही कम चुना, जिन्हें हल करना अधिक कठिन है। अनुसंधान करनेवाले ने कहा कि यही बिंदु उनकी वैवाहिक सफलता की एक कुंजी हो सकता है। राउर ने कहा, “अगर जोड़ों को महसूस होता है कि वह मिलकर अपने मुद्दों को सुलझा लेंगे, तो उन्हें बड़े व गंभीर मुद्दों को सुलझाने का आत्मविश्वास भी मिलता है।”