सावधान ऐसे फैल रहा कोरोनाः गन्दी नाक, मुंह में लार है खतरनाक, रहें साफ

जो लोग अपनी पर्सनल हाइजीन का ध्यान नहीं देते है तो ऐसे लोग सुपर स्प्रेडर की तरह कोरोना का वायरस स्वस्थ लोगों तक पहुंचाते है।

corona virus

सावधान ऐसे फैल रहा कोरोनाः गन्दी नाक, मुंह में लार है खतरनाक, रहें साफ photo (social media)

नई दिल्ली : पर्सनल हाइजीन हम सभी लोगों के लिए बेहद जरुरी है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस हाइजीन का ध्यान रखना और भी जरुरी हो गया है। आपको बता दें कि शोधकर्ताओं से पता चला है कि जिन लोगों की नाक गन्दी रहती है वे अन्य लोगों की तुलना में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैलाते हैं। अमेरिका स्थित सेंटर फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी में कोरोना पर की जा रही रिसर्च में यह बात सामने आई कि जिन लोगों के दांत, नाक और मुंह में लार बनती है उन्हें कोरोना का खतरा ज्यादा रहता है।

गन्दी नाक से फैलता है कोरोना

शोधकर्ताओं का कहना है कि जो लोग अपनी पर्सनल हाइजीन का ध्यान नहीं देते है तो ऐसे लोग सुपर स्प्रेडर की तरह कोरोना का वायरस स्वस्थ लोगों तक पहुंचाते है। वैज्ञानिक का कहना है कि जो अपनी नाक नहीं साफ रखते है छींक आने के दौरान नाक से निकले ड्रॉफलेट्स उनके मुंह और नाक के दबाव से दूर तक जाते हैं। जबकि जिन लोगों की नाक है उनके ड्रॉफलेट्स ज्यादा दूर तक नहीं जाते है।

मुंह में अधिक लार

इस शोध में सामने आया है कि कोरोना का संक्रमण फैलाने से जितनी भूमिका उन लोगों की होती है जिन लोगों की नाक गन्दी रहती है उसके साथ उतनी भूमिका उन लोगों की भी मानी गई है जिनके मुंह में लार ज्यादा बनती है। इसके साथ जिन लोगों के दांत काफी पतले होते हैं। कोरोना का खतरा इन लोगों में इसलिए ज्यादा होता है क्योकि छींकते समय मुंह की लार भी ड्रॉफलेट्स की तरह बाहर जाती है। आपको बता दें कि जिन लोगों में लार सामान्य मात्रा में बनती है उनके मुंह से निकले ड्रॉफलेट्स ज्यादा दूर तक नहीं जाते हैं।

यह भी पढ़ें: सर्दी-जुकाम से बचने के लिए सर्दियों में ना खाएं ये 4 चीजें, सेहत के लिए है फायदेमंद

पतले दांत भी बढ़ाते संक्रमण

शोधकर्ता का कहना है कि जिन लोगों के दांत पतले होते हैं। या जिन लोगों के दांतों के बीच ज्यादा स्थान रहता है। वे लोग सुपर स्प्रेडर की तरह संक्रमण फैलाते है। आपको बता दें कि ऐसा इसलिए होता है कि छींक आते समय नाक और मुंह पर जो दबाव पड़ता है उससे मुंह की निकलने वाली ड्रॉफलेट्स हवा में जाती है। जिससे लोगों में संक्रमण का खतरा काफी बढ़ जाता है।

यह भी पढ़ें: क्या है यूवाइटिस: जाने इस बीमारी के लक्षण, ऐसे बच सकते हैं आप इससे

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App