प्रेग्नेंसी के बाद आखिर क्यों आते हैं महिलाओं में ये बदलाव, जानें यहां

महिलाओं के गर्भावस्था में आने से उनके शारीर में काफी बदलाव आ जाते हैं। और तो और डिलीवरी के बाद तो उनका अचानक से काफी वजन भी बढ़ जाता हैं।

लखनऊ: महिलाओं के गर्भावस्था में आने से उनके शारीर में काफी बदलाव आ जाते हैं। और तो और डिलीवरी के बाद तो उनका अचानक से काफी वजन भी बढ़ जाता हैं। ये बदलाव शरीर में हो रहे हॉर्मोन्स में चेंज के कारन होते हैं। प्रेग्नेंसी के टाइम महिलाएं अलग रूटीन चार्ट में बिताती हैं। ऐसे में वो अपनी लाइफस्टाइल में कुछ चीजें बदलाव करती है कुछ नई चीजें ऐड करती हैं। ये चेंज शरीर में हॉर्मोनल बैलेंस को थोड़ा गड़बड़ा देता है। ऐसे में डिलीवरी के बाद ही महिलाओं के शरीर में बदलाव नजर आते हैं। तो आज हम आपको बतातें हैं डिलीवरी के क्या बदलाव आतें हैं महिलाओं की बॉडी में।

ये भी देखें:फायदे ही फायदे! यहां करेंगे इन्वेस्टमेंट तो मिलेगा जबरदस्त ब्याज, होंगे मालामाल

महिलाओं के ब्रेस्ट में बदलाव

डिलीवरी के बाद महिलाओं के ब्रेस्ट में काफी चेंज आता है। इस दौरान ब्रेस्ट में दर्द और सूजन की परेशानी भी झेलनी पड़ सकती हैं। प्रेग्नेंसी में ब्रेस्ट, पेट और जांघों की स्किन खिंच जाती है। इस खिंचाव की वजह से स्किन पर हल्के रंग के दाग भी दिखाई पड़ने लगते हैं। वैसे तो, ये दाग नॉर्मल होते हैं लेकिन महिलाएं इन्हें लेकर कुछ टेंशन में आ जाती हैं। उन्हें किसी गंभीर बीमारी की आशंका होने लगती है जबिक आपको बता दें कि ऐसा कुछ नहीं है। ये प्रेग्नेंसी के बाद शरीर में होने वाला एक नार्मल चेंज है।

वजाइना में दर्द

बच्चे के जन्म के बाद वजाइना में दर्द और डिस्चार्ज जैसी प्रॉब्लम भी देखी जाती हैं। डिलीवरी के 7 से 9 महीने में फिर से पीरियड्स शुरू हो जाते हैं। हर महिला के फिर से पीरियड्स शुरू होने का टाइम अलग-अलग हो सकता है। ऐसे में डिलीवरी के बाद वजाइना में हल्का दर्द महसूस करना एक आम बात है। नॉर्मल डिलीवरी के बाद ये महिलाओं में ज्यादा देखा जाता है। इस प्रॉब्लम को महिलाएं काफी गंभीर रूप से ले लेती है और घबराकर डॉक्टर के पास पहुंच जाती हैं। इस तरह के लक्षण नार्मल हैं और स्थिति अपने आप ठीक हो जाती है। डिलीवरी के बाद ये चेंज नार्मल है।

वजन बढ़ने की शिकायत

डिलीवरी के बाद कुछ महिलाओं को ज्यादा गर्मी या फिर ठंड का अनुभव होने लगता है। महिलाओं को अचानक ही बहुत ज्यादा गर्मी लगने लगती हैं नहीं तो ठंड का एहसास होने लगता है। हम आपको बता दें कि ये सब हॉर्मोनल बदलाव के कारण होता है। कुछ महिलाएं वजन बढ़ने की भी शिकायत करती हैं। ये सब डिलीवरी के बाद बिल्कुल नार्मल है। डिलीवरी के बाद शारीरिक तौर पर इस तरह के चेंज देखे जाते हैं।

ये भी देखें:शादी में बुरा हाल: हुआ ऐसा कि 40 लोग हो गए बीमार, 10 की हालत गंभीर

महिलाओं के बाल झड़ने लगते हैं

बच्चे के जन्म के कुछ हफ्ते बाद ही महिलाओं के बाल झड़ने लगते हैं। आपको बता दें कि ये बॉडी में हॉर्मोनल चेंज की वजह से होता है। वैसे तो, डिलीवरी के 6 महीने तक औरतों को इस प्रॉब्लम से जूझना पड़ता है लेकिन बाद में बाल अपने पुराने ग्रोथ साइकिल पर लौट आते हैं। बालों का तेजी से झड़ना इस टाइम एक आम बात होती है। वैसे तो, कई महिलाएं इसे लेकर चिंता में पड़ जाती हैं और मानसिक तनाव से भी गुजरने लगती हैं।