BJP में शामिल 5 दिग्गज: कांग्रेस को लगा तगड़ा झटका, पार्टी में मचा हड़कंप

कांग्रेस पार्टी के तमाम सदस्यों का पार्टी के प्रति रूझान लगातार कम होता दिखाई दे रहा है। ऐसे में कांग्रेस को एक बार फिर तगड़ा झटका लगा है। शनिवार को गुजरात में कांग्रेस के 5 पूर्व विधायक भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) में शामिल हो गए हैं।

अहमदाबाद: कांग्रेस पार्टी के तमाम सदस्यों का पार्टी के प्रति रूझान लगातार कम होता दिखाई दे रहा है। ऐसे में कांग्रेस को एक बार फिर तगड़ा झटका लगा है। शनिवार को गुजरात में कांग्रेस के 5 पूर्व विधायक भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) में शामिल हो गए हैं। राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी के 8 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था। जिनमें से 5 विधायकों ने आज भाजपा से अपना साथ जोड़ लिया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जीतू वाघाणी और अन्य सीनियर नेताओं की उपस्थिति में जीतू चौधरी, प्रद्युम्नसिंह जाडेजा, जेवी काकड़िया, अक्षय पटेल और बृजेश मेरजा ने आज भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है।

ये भी पढ़ें… हाई-अलर्ट जारी: बड़ी घटना को अंजाम देने का प्लान, चप्पे-चप्पे पर तैनात सेना

पटेल, मेरजा और चौधरी ने इस्तीफा

इसके साथ ही निर्वाचन आयोग ने जैसे ही राज्यसभा चुनाव की नई तारीख 19 जून का ऐलान किया था, उसके कुछ दिन के बाद ही पटेल, मेरजा और चौधरी ने इस्तीफा दे दिया था।

भाजपा की सदस्यता आज ग्रहण करने वाले जाडेजा और जेवी काकड़िया ने मार्च में विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था। गुजरात में राज्यसभा चुनाव पहले 26 मार्च को होना था, लेकिन महामारी को ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन के चलते इसे टाल दिया गया था।

ऐसे में पूर्व विधायकों का पार्टी में स्वागत करते हुए वाघाणी ने कहा कि उनकी मौजूदगी स्थानीय स्तर पर पार्टी को मजबूती प्रदान करेगी। उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि इन सभी विधायकों के इस्तीफे से रिक्त हुई विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा अपनी जीत का परचम लहराएगी।

ये भी पढ़ें…चीन की हरकतों पर मोदी का कुछ बड़ा है प्लान, चुप्पी से मिल रहे ऐसे संकेत

कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी

आगे उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी और राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर कमजोर नेतृत्व के चलते इन विधायकों ने कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया।

इसी सिलसिले में उन्होंने कहा, ‘‘यह पहला मौका नहीं है. इससे पहले भी कई मौकों पर राज्य में कांग्रेस के विधायकों ने भाजपा का दामन थामा है। लगातार ऐसा होने के बावजूद, कांग्रेस यदि बीजेपी को जिम्मदार ठहराती है तो मैं उन्हें कहना चाहूंगा कि वे गुजरात में अपनी दुकान बंद कर दें।’’

वहीं उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस में नेतृत्व का अभाव है और गुटबाजी भी है। विधायकों के इस्तीफे के लिए कांग्रेस खुद जिम्मेदार है।’’

ये भी पढ़ें…खुल रहा करतारपुर कॉरिडोर: तेजी से चल रही तैयारियां, 103 दिन से था बंद