कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने की योगी आदित्यनाथ से मुलाकात

इसके बाद कांग्रेस की तरफ से उन्हें कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया। हालांकि, अभी तक अदिति सिंह ने इस नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया है। अदिति सिंह लगातार पार्टी कार्यक्रमों से भी दूरी बनाए हुए हैं।

लखनऊ: नेहरू -इंदिरा परिवार से जुडी लोकसभा सीट से कांग्रेस के विधायक अदिति सिंह ने हाल ही में हुए विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान पार्टी के व्हिप का उल्लंघन कर कांग्रेस को चौंका दिया था, लेकिन आज एक बार फिर उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर भाजपा में शामिल होने के संकेत दे दिए।

यह भी पढ़ें: रिलायंस ने बनाया सबसे बड़ा रिकॉर्ड, इसके सामने सरकार भी रह गई पीछे

इस मुलाकात के बाद सत्ता के गलियारों में सुगुबुगाहट अदिति सिंह को लेकर राजनीतिक अटकले तेज हो गयी है। हांलाकि इस बारे में विधायक अदिति सिंह की तरफ से कुछ नहीं कहा गया है लेकिन सत्ता के गलियारों में तरह तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

इसलिए की थी मुलाक़ात

वहीं दूसरी तरफ अदिति सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हुई अपनी इस मुलाकात पर कहा कि वो अपने क्षेत्र की समस्या को लेकर मिलने गई थीं और वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत ही मिलने आइ थी।

यह भी पढ़ें: आजम औरतों के आंसुओं की सजा ही भुगत रहे हैं, जयाप्रदा का बड़ा बयान

उनका इस मुलाकात के कोइ राजनीतिक मायने न निकाले जाएं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री विकास कार्यों को लेकर हमेशा बेहद संजीदा रहते हैं और विपक्ष के विधायकों को भी विकास के मुद्दे पर पूरी तरजीह देते हैं।

भाजपा से बढ़ रही नजदीकियां

दरअसल पिछले कुछ दिनों से पार्टी से नाराज अदिति सिंह की नजदीकियां भाजपा से बढ़ी हैं। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 2 अक्टूबर की 150वीं जयंती के मौके पर सरकार द्वारा बुलाए गए विधानसभा के विशेष सत्र में भी वो शामिल हुई थीं, जबकि उनकी पार्टी कांग्रेस ने इस सत्र का बहिष्कार किया था।

यह भी पढ़ें: रहें सावधान: खतरे में ये राज्य, बहुत तेजी से दूषित होते जा रहे शहर

इसके बाद कांग्रेस की तरफ से उन्हें कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया। हालांकि, अभी तक अदिति सिंह ने इस नोटिस का कोई जवाब नहीं दिया है। अदिति सिंह लगातार पार्टी कार्यक्रमों से भी दूरी बनाए हुए हैं।

रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह कांग्रेस की महासचिव और पूर्वी यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी के करीबियों में हैं। लेकिन गांधी जयंती पर बुलाए गए विधानसभा के विशेष सत्र में शामिल होकर उन्होंने बगावती संकेत दिए थे। इस दौरान उन्होंने भाजपा सरकार की नीतियों की भी जमकर सराहना की थी जिसके बाद से उनके राजनीतिक भविष्य के बारे में तरह तरह की बातें चलती रही है।