Top

Lockdown: राज्यों को भरोसे में लेकर फैसला ले केंद्र सरकार- अशोत गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि केंद्र सरकार को 14 अप्रैल को खत्म होने वाले देशव्यापी लॉकडाउन के बारे में कोई भी फैसला राज्यों को भरोसे में लेकर लेना चाहिए।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 8 April 2020 1:18 PM GMT

Lockdown: राज्यों को भरोसे में लेकर फैसला ले केंद्र सरकार- अशोत गहलोत
X
Lockdown: राज्यों को भरोसे में लेकर फैसला ले केंद्र सरकार- अशोत गहलोत
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते देश को 21 दिनों तक लॉकडाउन रखा गया है, जो कि 14 अप्रैल को खत्म होने वाला है। हालांकि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों ने 14 अप्रैल को लॉकडाउन हटाने पर असहमति जताई है। वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी लॉकडाउन को हटाने के पक्ष में नहीं है।

राज्यों को भरोसे में लेकर लेना चाहिए फैसला

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि केंद्र सरकार को 14 अप्रैल को खत्म होने वाले देशव्यापी लॉकडाउन के बारे में कोई भी फैसला राज्यों को भरोसे में लेकर लेना चाहिए। राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र को लॉकडाउन खत्म हटाने या बढ़ाने का अधिकार राज्यों को देना चाहिए। क्योंकि हर राज्य में कोरोना की स्थिति और आंकड़े अलग-अलग है। इसलिए लॉकडाउन को हटाने का फैसला राज्यों पर छोड़ देना चाहिए।

केंद्र सरकार का पालन किया जाएगा- गहलोत

उन्होंने कहा कि केंद्र को राज्यों को यह फैसला लेने देना चाहिए कि वह अपने-अपने राज्यों में कोरोना की परिस्थितियों और जरूरतों के अनुसार किस सीमा तक पाबंदियां लगाएं। हालांकि अशोक गहलोत ने यह भी कहा कि यह उनकी अपनी राय है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से जो भी फैसला लिया जाएगा, राजस्थान सरकार उसका पालन करेगी।

यह भी पढ़ें: Paytm का बड़ा ऐलान: हजारों लोगों को मिलेगी राहत, नहीं सोएगा कोई भी भूखा

CM अशोक गहलोत का कहना है कि केंद्र सरकार 14 अप्रैल को खत्म होने वाले देशव्यापी लॉकडाउन के बारे में जो भी फैसला ले, उसे राज्यों को भरोसे में लेकर लेना चाहिए। क्योंकि अंतत: जमीनी स्तर पर केंद्र सरकार के निर्णय को लागू करना और कोरोना से निपटने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की ही है।

राज्य में जल्द पा लिया जाएगा कोरोना पर नियंत्रण

CM अशोक गहलोत में उम्मीद जताई कि राज्य में कोरोना वायरस पर नियंत्रण पा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा में जिस तरह से स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस और स्थानीय प्रशासन ने काम किया है, वह न सिर्फ राजस्थान के लिए बल्कि पूरे देश के लिए कोरोना की लड़ाई का एक मॉडल है। उन्होंने कहा कि राज्य में जिस तरह पुलिस प्रशासन और स्वास्थ्यकर्मी काम कर रहे हैं उससे उन्हें पूरी उम्मीद है कि कोरोना से छुटकारा मिल जाएगा।

यह भी पढ़ें: PM मोदी का संदेश: मेरे सम्मान से जरूरी ये काम, तो सभी करें इसे

तबलीगी जमात की वजह से बढ़े मामले

CM गहलोत ने कहा कि राज्य में स्थितियां लगभग कंट्रोल में आ गई थी, लेकिन दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित तब्लीगी जमात के मरकज के कार्यक्रम में शामिल हुए कुछ लोगों के लौटने से यहां हालात फिर बिगड़े। लेकिन प्रशासन ने चुस्ती के साथ काम कर संक्रमित लोगों को क्वारंटीन करके हालात पर कंट्रोल कर लिया है।

CM गहलोत ने उम्मीद जताई है कि केंद्र की तरफ से उनके बकाए का जल्दी भुगतान कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कोरोना की इस लड़ाई को लड़ने के लिए उनके बकाए का भुगतान जल्दी करेगी और अतिरिक्त धन व संसाधन मुहैया कराएगी।

यह भी पढ़ें: पंद्रह जिलों को सील करने की खबर से बाजार में अफरातफरी, डीएम ने किया खंडन

Shreya

Shreya

Next Story