बीजेपी सांसद ने किया बड़ा खुलासा, इसलिए फडणवीस को बनाया 80 घंटे का मुख्यमंत्री

पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने बड़ा खुलासा किया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया है कि महाराष्ट्र में बीजेपी ने फडणवीस को 40 हजार करोड़ का फंड बचाने के लिए बहुमत न होने के बावजूद देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाया गया था।

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने बड़ा खुलासा किया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया है कि महाराष्ट्र में बीजेपी ने फडणवीस को 40 हजार करोड़ का फंड बचाने के लिए बहुमत न होने के बावजूद देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाया गया था।

उत्तरा कन्नड़ से बीजेपी सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने कहा कि आप सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस 80 घंटे के लिए मुख्यमंत्री बने और उसके बाद इस्तीफा दे दिया। उन्होंने यह नाटक क्यों किया? क्या हमें नहीं पता था कि हमारे पास बहुमत नहीं था और फिर भी वह मुख्यमंत्री बन गए। उन्होंने कहा कि यह वह सवाल है जो हर कोई पूछता है।

यह भी पढ़ें…निर्मला सीतारमण ने राहुल बजाज को दिया करार जवाब, इस बात की दिलाई याद

बीजेपी सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री के पास करीब 40 हजार करोड़ की केंद्र सरकार की राशि थी। अगर कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना सत्ता में आते तो वे 40 हजार करोड़ का दुरुपयोग करते। इस वजह से यह पूरा नाटक किया गया। फडणवीस मुख्यमंत्री बने और 15 घंटे में केंद्र को 40 हजार करोड़ रुपये वापस कर दिए गए।

यह भी पढ़ें…पूर्व केंद्रीय मंत्री और पत्रकार अरुण शौरी की तबियत खराब, अस्पताल में भर्ती

अनंत कुमार हेगड़े ने दावा किया कि बहुत पहले से बीजेपी की यह योजना थी। इसलिए यह तय किया गया कि एक नाटक होना चाहिए और इसी के तहत फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। शपथ लेने के 15 घंटे के अंदर फडणवीस ने सभी 40 हजार करोड़ रुपयों को उस जगह पर पहुंचा दिया जहां से वो आए थे। इस तरह फडणवीस ने पूरा पैसा वापस केंद्र सरकार को देकर बचा लिया।  हेगड़े के बयान के बाद शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा कि ये महाराष्ट्र के साथ गद्दारी है।

यह भी पढ़ें…यहां तीन मकान जमींदोज, 15 की मौत, अगले दो दिन में भारी बारिश का अलर्ट

बता दें कि महाराष्ट्र में तय हो चुका था कि कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना मिलकर सरकार बनाने जा रहे हैं और उद्धव ठाकरे सीएम होंगे, लेकिन रातो रात प्रदेश की राजनीति में बड़ा उलटफेर देखने को मिला और बीजेपी ने एनसीपी के वरिष्ठ नेता अजित पवार के साथ मिलकर सरकान ली। देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और अजित पवार उपमुख्यमंत्री बने।

इसके बाद कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना सुप्रीम कोर्ट चली गईं और कोर्ट ने आदेश दिया देवेंद्र फडणवीस को बहुमत साबित करना होगा। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने इस्तीफा दे दिया।