Top

सांसद का निधन: पार्टी में शोक की लहर, फिल्म जगत का भी रहें हैं बड़ा नाम

तृणमूल कांग्रेस (TMC) में शोक की लहर है। दरअसल, पार्टी के पूर्व सांसद तापस पाल का मंगलवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 18 Feb 2020 4:40 AM GMT

सांसद का निधन: पार्टी में शोक की लहर, फिल्म जगत का भी रहें हैं बड़ा नाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC) में शोक की लहर है। दरअसल, पार्टी के पूर्व सांसद तापस पाल का मंगलवार सुबह दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि तापस काफी दिनों से बीमार चल रहे थे। उनका अंतिम संस्कार आज शाम कोलकाता में किया जायेगा। उनके निधन से फिल्म और राजनीति जगत शोक में है।

TMC के पूर्व सांसद तापस पाल का दिल का दौरा पड़ने से मौत:

तृणमूल कांग्रेस (TMC) के पूर्व सांसद तापस पाल का लंबी बिमारी के बाद मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गयी। बता दें कि तापस न केवल राजनीति बल्कि बांग्ला फिल्मों के मशहूर अभिनेता भी थे। 61 साल के तापस मुंबई में अपनी बेटी के साथ थे। वहीं सोमवार को बेटी से मिल कर लौट रहे थे।

ये भी पढ़ें: कांग्रेस नेता की गोली मारकर हत्या: पार्टी में मचा हड़कंप, जांच शुरू

कोलकाता लौटते समय मुंबई एयरपोर्ट पर उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की। जिसके बाद उन्हें जुहू के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां आज सुबह करीब 4 बजे उनका निधन हो गया। जानकारी के मुताबिक, तापस को हृदय संबंधी बीमारियां थीं और पिछले दो साल से लगातार उनका इलाज चल रहा था।

तापस का सफर:

तापस पाल का जन्म 20 सितंबर 1958 में हुआ था। 22 साल की उम्र में फ़िल्मी कैरियर की शुरुआत की और 1980 में दादा कीर्ति नाम की पहली बांगला फिल्म से डेब्यू किया। इसके बाद एक के बाद एक शानदार फिल्मों के काम कर अपना नाम बनाया। तापस की साहेब (1981), प्रभात प्रिया (1981), भालोबासा-भालोबासा (1985) अनुरागेर छोआं (1986), आमार बॉन्धोन (1986) फिल्में बॉक्स ऑफिस पर हिट रही।

ये भी पढ़ें: भयानक हादसे से सहमा यूपी: गाड़ी के उड़े परखच्चे, लाशें ही लाशें आईं नजर

उन्होंने बांग्ला फिल्मों के अलावा बॉलीवुड में भी काम किया। उन्होंने माधुरी दीक्षित के साथ भी काम किया था। वहीं तापस पाल ने साल 2014 के लोकसभा चुनाव में टीएमसी के टिकट पर बंगाल के कृष्णनगर से चुनाव लड़ा था और जीतके बाद लोकसभा पहुंचे थे।

इस स्कैम में आया था नाम:

बता दें कि उनका नाम रोज़ वैली चिट फंड स्कैम में भी सामने आया था। साल 2016 में तापस पॉल रोज़ वैली चिट फंड स्कैम मामले में कथित तौर पर कनेक्शन के कारण सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किये गये थे। 13 महीने बाद वह जमानत पर रिहा हुए थे।

ये भी पढ़ें: धमाके से दहला पाकिस्तान: बिछ गयी लाशें, सीमा पार मच गया हड़कंप

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story