मंत्री ने दी मौत को मात: किए चौंकाने वाले खुलासे, 30 प्रतिशत थी बचने की उम्मीद

महाराष्ट्र के आवास मंत्री जितेंद्र आव्हाड कोरोना वायरस को मात देकर वापस अपने घर लौट चुके हैं। कोरोना को हराने के बाद घर लौट चुके जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि वो डॉक्टर्स और नर्सों की मेहनत की वजह से ही कोरोना को मात दे पाए हैं।

Published by Shreya Published: May 19, 2020 | 1:29 pm
Modified: May 19, 2020 | 1:33 pm

मुंबई: महाराष्ट्र के आवास मंत्री जितेंद्र आव्हाड कोरोना वायरस को मात देकर वापस अपने घर लौट चुके हैं। वो बीते दिनों कोरोना की चपेट में आ गए थे। कोरोना को हराने के बाद घर लौट चुके जितेंद्र आव्हाड ने कहा कि वो डॉक्टर्स और नर्सों की मेहनत की वजह से ही कोरोना को मात दे पाए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते उनकी हालत काफी गंभीर थी। यहां तक डॉक्टरों ने ये तक कह दिया था कि उनके बचने की उम्मीद काफी कम है।

यह भी पढ़ें: चीन ने भारत को दिखाई आंख, सरकार ने भेजी भारी फोर्स, सेना पीछे हटने को तैयार नहीं

मेरी बेटी से कहा गया था कि मेरे बचने के चांसेस काफी कम हैं

एक इंग्लिश अखबार से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि, मैं तीन दिनों तक वेंटिलेटर पर था। उन्होंने बताया कि उनकी हालत काफी गंभीर थी। डॉक्टरों ने मेरी बेटी को बुलाकर उससे कहा था कि मेरे बचने की उम्मीद के केवल 30 फीसदी तक ही है। साथ ही बेटी से यह भी कहा कि अब वो मेरे बचने के लिए भगवान से प्रार्थना करें। आवास मंत्री ने कहा कि डॉक्टरों और नर्सों ने मेरी बहुत देखभाल की और मेरा हौसला बढ़ाया। जिसकी वजह से ही आज मैं ठीक हूं।

यह भी पढ़ें: सोना सस्ता: बहुत तेजी से कम हुए दाम, फटाफट चेक करें रेट

19 अप्रैल को एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती हुए आव्हाड

बता दें कि जितेंद्र आव्हाड मुम्ब्रा-कौसा क्षेत्र से विधायक हैं। उनके कुछ सुरक्षाकर्मी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्होंने 13 अप्रैल को खुद को सावधानी बरतते हुए क्वारनटीन कर लिया था। आव्हाड 19 अप्रैल को एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती हुए थे। भर्ती होने के कुछ दिनों बाद उनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। 22 अप्रैल से 10 मई के बीच उन्हें कई बार ICU में भी रखा गया। इसके अलावा वो आखिरी तीन दिनों तक वेंटिलेटर पर भी रहे थे।

यह भी पढ़ें: ठेले पर फल बेचने को मजबूर ये मशहूर एक्टर, आयुष्मान के साथ कर चुका है काम

ये वक्त मेरे जिंदगी के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा

बता दें कि जितेंद्र आव्हाड को पहले से ही हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज की समस्या थी। लेकिन आखिरकार तमाम प्रयासों के बाद उन्होंने कोरोना की लड़ाई को जीत लिया। उन्हें 10 मई को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उन्होंने कहा कि बेहद आत्मविश्वास के साथ कोरोना से संक्रमित हुआ था। उन्होंने कहा कि 23 अप्रैल से 26 अप्रैल तक का वक्त मेरे जिंदगी के लिए काफी महत्वपूर्ण रहे। मेरे परिवार को बता दिया गया था कि मेरे बचने के चांसेस काफी कम हैं। उन्होंने कहा कि मैं अपनी जान के लिए काफी चिंतित था। हर पल मैंने जीवन और मौत के बारे में सोच कर गुजारा।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में बीवी रह गई मायके, पति ने कर दिया ये कांड, मचा बवाल

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App