Top

बैलेट पर लौटो, लोकतंत्र बचाओ, हमें ईवीएम नहीं चाहिए : ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल में जारी सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर नए आरोप लगाए हैं। ममता ने कहा कि भाजपा पश्चिम बंगाल के बारे में झूठी खबरें फैला रही है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 3 Jun 2019 1:30 PM GMT

बैलेट पर लौटो, लोकतंत्र बचाओ, हमें ईवीएम नहीं चाहिए : ममता बनर्जी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में जारी सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा पर नए आरोप लगाए हैं। ममता ने कहा कि भाजपा पश्चिम बंगाल के बारे में झूठी खबरें फैला रही है। टीएमसी घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करेगी। लोकतंत्र बचाओ, हमें ईवीएम नहीं चाहिए, बैलेट पर लौटो। ईवीएम पर एक तथ्य खोज समिति बननी चाहिए।

ये भी पढ़ें...जब ममता ने जय श्रीराम का नारा लगाने वालों को कहा- मैं तुम लोगों की चमड़ी उधेड़ दूंगी

बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले ही बंगाल में टीएमसी और भाजपा में सियासी घमासान जोर पकड़ चुका था। मतदान के समय इसने हिंसा का रूप ले लिया। यहां सभी सातों चरणों में जमकर हिंसा हुई। चुनाव आयोग को यहां भारी संख्या में केंद्रीय सुरक्षा बलों को तैनात करना पड़ा था।

23 मई को घोषित हुए चुनाव नतीजे में भाजपा को जबरदस्त सफलता मिली। उसने 18 सीटों पर कब्जा जमाया। टीएमसी को 22 सीटें ही मिल सकीं। यहां कुल 42 लोकसभा सीटें हैं। इसके बाद भी दोनों दलों के बीच घमासान रुकने का नाम नहीं ले रहा है।

जहां भाजपा ने ममता बनर्जी को जय श्री राम लिखे हजारों खत भेजने का फैसला किया है, वहीं ममता ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को आदेश दिया है कि वो भाजपा द्वारा कथित रूप से कब्जाए गए टीएमसी दफ्तरों पर दोबारा कब्जा करें। ऐसे ही एक दफ्तर का ताला तुड़वाने खुद ममता पहुंची थीं।

ये भी पढ़ें...टीएमसी विधायकों के बीजेपी में शामिल होने पर ममता सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

टीएमसी का अभियान

24 परगना के नैहाटी में ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनकी पार्टी के कार्यालय पर कब्जा कर लिया है। इसके बाद कार्यालय में बने भाजपा के कमल निशान को मिटाकर उन्होंने खुद अपनी तृणमूल पार्टी का चिह्न बनाया। कमल का निशान मिटाने के बाद ममता ने कहा कि नैहाटी का वह दफ्तर तृणमूल का ही था, जिसे लोकसभा चुनाव के बाद बैरकपुर से जीते भाजपा सांसद अर्जुन सिंह और उनके समर्थकों ने हथिया लिया था।

ये भी पढ़ें...बंगाल में BJP की धमाकेदार जीत के बाद इनकी तलाश कर रही हैं ममता बनर्जी

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story