Top

जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, सरकार ने दिया ये जवाब

सरकार की ओर से केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जस्टिस मुरलीधर का तबादला सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर हुआ, जिसमें पूरी प्रक्रिया का पालन किया गया।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 27 Feb 2020 7:56 AM GMT

जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, सरकार ने दिया ये जवाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई करने वाले दिल्ली हाईकोर्ट के जज एस मुरलीधर के तबादले पर जारी विवाद के बीच सरकार की प्रतिक्रिया आई है। सरकार की ओर से केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जस्टिस मुरलीधर का तबादला सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की सिफारिश पर हुआ, जिसमें पूरी प्रक्रिया का पालन किया गया।

कांग्रेस नेताओं के सवाल के बाद कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान आया है। बता दें कि जज मुरलीधर के तबादले पर कांग्रेस हमलावर और राहुल गांधी, प्रियंका गांधी ने सरकार पर हमला बोला है।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट कर कहा कि जस्टिस मुरलीधर का तबादला 12 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली कॉलेजियम की सिफारिश पर हुई है। इसके लिए जज की सहमति भी ली गई।

दिल्ली हिंसा पर इमरान ने पीएम मोदी को निशाने पर लिया, कही ये बड़ी बात

पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में तबादला

दरअसल, दिल्ली हिंसा में घायलों को समुचित इलाज और सुरक्षा मुहैया कराने की मांग वाली याचिका पर आधी रात सुनवाई करने और भाजपा नेताओं के खिलाफ दंगा भड़काने के आरोप में मुकदमा दर्ज करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के जज जस्टिस एस मुरलीधर का तबादला पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में कर दिया गया है।

बुधवार (26 फरवरी) को उन्होंने इस मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया था। बाद में इस मामले की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष स्थान्तरित कर दिया गया।

यहां यह ध्यान देने वाली बात है कि सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने 12 फरवरी को ही जस्टिस मुरलीधर के तबादले की सिफारिश की थी। हालांकि पिछले सप्ताह हाईकोर्ट के बार एसोसिएशन ने जस्टिस मुरलीधरन के तबादले पर पुनर्विचार की अपील की थी।

दिल्ली हिंसा: बढ़ता जा रहा मौत का आंकड़ा, आज हाईकोर्ट में जवाब देगी पुलिस

ये भी पढ़ें...दिल्ली हिंसा मास्टरमाइंड ताहिर! जानें दिल्ली ‘सुलगाने’ के पीछे कौन है ये शख्स

रणदीप सुरजेवाला ने तबादले को बताया शर्मनाक

जैसे ही मुरलीधर के तबादले की अधिसूचना जारी हुई, कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गई। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसे शर्मनाक बताया है और कहा कि रातों-रात हुए इस तबादले से हम हैरान हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा नेताओं को बचाने के लिए उनका तबादला किया गया है, इससे पूरा देश हैरान है। आखिरकार सरकार कितने जजों का तबादला करेगी।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने दिल्ली हिंसा मामले में सुनवाई करने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस मुरलीधर के तबादले पर सवाल खड़े करते हुए गुरुवार को आरोप लगाया कि सरकार ने न्याय अवरुद्ध करने का प्रयास किया है।

राहुल को जज के तबादले से जस्टिस लोया की आई याद

राहुल गांधी ने दिवंगत न्यायाधीश लोया के मामले का उल्लेख किया और सरकार पर तंज करते हुए ट्वीट किया, 'बहादुर न्यायाधीश लोया को याद कर रहा हूं कि जिनका तबादला नहीं किया गया था।'



दिल्ली हिंसा पर गृह मंत्री अमित शाह ने लिया बड़ा एक्शन, कांप उठे दंगाई

प्रियंका ने जज के तबादले पर उठाए सवाल

वहीं, प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, 'न्यायमूर्ति मुरलीधर का मध्यरात्रि में तबादला मौजूदा शासन को देखते हुए चौंकाने वाला नहीं है। लेकिन यह निश्चित तौर पर दुखद और शर्मनाक है।' उन्होंने आरोप लगाया, 'करोड़ों भारतीय नागरिकों को न्यायपालिका पर आस्था है। न्याय को अवरुद्ध करने और लोगों का विश्वास तोड़ने का सरकार का प्रयास निंदनीय है।'

आधी रात हुए जज के तबादले पर प्रियंका गांधी ने खड़े किए सवाल

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story