हर गरीब के खाते में 6 महीने तक प्रति माह 7500 रुपये डाले मोदी सरकार: राहुल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लॉकडाउन के दौरान बदइंतजामी को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है। स्पीक अप इंडिया ऑनलाइन कैंपेन को एड्रेस करते हुए राहुल ने वीडियो संदेश जारी किया और कहा कि, ‘कोविड के कारण देश में आज एक तूफान आया है, गरीब जनता को चोट लगी है।

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लॉकडाउन के दौरान बदइंतजामी को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है। स्पीक अप इंडिया ऑनलाइन कैंपेन को एड्रेस करते हुए राहुल ने वीडियो संदेश जारी किया और कहा कि, ‘कोविड के कारण देश में आज एक तूफान आया है, गरीब जनता को चोट लगी है।

मजदूरों को भूखा-प्यासा सड़कों पर रात-दिन पैदल यात्रा करनी पड़ रही है। छोटे कारोबार रीढ़ की हड्डी हैं, जो बंद हो रहे हैं। ऐसे में आज देश के लोगों को कर्ज की नहीं बल्कि पैसे की जरूरत है। राहुल गांधी ने लॉकडाउन पर सवाल उठाते हुए मोदी सरकार के आगे अपनी चार मांगे रखी।

घर लौटते हुए मजदूरों को जरूरी सुविधा दी जाए।
हर गरीब परिवार के खाते में 7500 रुपये प्रति महीना 6 महीने तक दिया जाए।
मनरेगा को सौ दिन की बजाय दो सौ दिन तक किया जाए।
छोटे कारोबारियों के लिए एक पैकेज का ऐलान किया जाए।

हाय रे लॉकडाउन: भूख से तड़प-तड़प कर हार गए मजदूर, फिर उठाया ये खौफनाक कदम

It's time for every Indian to stand together & speak up in one voice. #SpeakUpIndia for our brothers & sisters struggling for survival;for those whose voice has been silenced;for those in despair & are fearful. We are India. Together we can make a difference.

Rahul Gandhi ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಗುರುವಾರ, ಮೇ 28, 2020

प्रियंका ने भी वीडियो अपलोड कर सरकार के सामने रखी ये चार मांगे

राहुल गांधी के अलावा प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर इस तरह का वीडियो डाला। प्रियंका ने कहा कि आज गरीब मजदूर मुसीबत में है और सरकार उसकी सहायता नहीं कर रही है। प्रियंका गांधी ने भी सरकार के सामने चार मांग रखीं।

 

मायावती ने राहुल गांधी पर बोला हमला

कांग्रेस पर लगातार हमलावर बसपा नेत्री मायावती ने आज एक बार फिर कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने राहुल गांधी के आज सुबह जारी किए गए वीडियो पर तंज कसा और कहा कि यह पूरी तरह से नाटकबाजी है। आज मजदूरों की जो दुर्दशा है उसके लिए खुद कांग्रेस ही जिम्मेदार है।

बताते चलें कि आज सुबह ही पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रवासी मजदूरों से बातचीत का एक वीडियो अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया है। इस वीडियो में राहुल गांधी ने दिल्ली के सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास मजदूरों से बातचीत के कुछ क्लिपिंग डाली हैं। जिस पर मायावती का यह बड़ा बयान आया है।

आज राज्यों से बात करेंगे कैबिनेट सचिव, लॉकडाउन-5 के स्वरूप पर होगी चर्चा

श्रमिकों की दुर्दशा का उठाया मुद्दा

आज कल मायावती आए दिन कुछ न कुछ राजनीतिक बयानबाजी ट्विट के माध्यम से कर रही है।  मायावती ने अपने ट्विटर हैंडल पर कई ट्वीट किए हैं, पहले ट्वीट में उन्होंने श्रमिकों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताते हुए लिखा।

उन्होंने कहा कि आज पूरे देश में कोरोना लॉकडाउन के कारण करोड़ों प्रवासी श्रमिकों की जो दुर्दशा दिख रही है उसकी असली कसूरवार कांग्रेस। आजादी के बाद इनके लंबे शासनकाल के दौरान अगर रोजी-रोटी की सही व्यवस्था गांव शहरों में की गई होती तो इन्हें दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करना पड़ता।

राहुल गांधी ने एक वीडियो पोस्ट किया है। 17 मिनट के इस वीडियो की शुरुआत प्रवासी मजदूरों के पलायन के दर्द को दिखाने वाले दृश्यों से की गई है। वहीं दूसरे ट्वीट में यूट्यूब पर जारी किए गए वीडियो को लेकर मायावती ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, वैसे ही वर्तमान में कांग्रेसी नेता द्वारा लॉकडाउन त्रासदी के शिकार कुछ श्रमिकों के दुःख-दर्द बांटने संबंधी जो वीडियो दिखाया जा रहा है वह हमदर्दी वाला कम व नाटक ज्यादा लगता है।

मायावती

क्या लॉकडाउन का 5वां चरण भी होगा, अगर हां, तो कैसा होगा इसका स्वरूप, यहां जानें