तबलीगी जमात पर जमकर बरसे पवार,पूछा-क्यों दी गई कार्यक्रम की अनुमति

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने सोमवार को पूछा कि नयी दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन के लिए अनुमति किसने दी थी। यह कार्यक्रम देश में कोरोना वायरस के बड़े केंद्र के रूप में उभरा है।

मुंबई: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने सोमवार को पूछा कि नयी दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन के लिए अनुमति किसने दी थी। यह कार्यक्रम देश में कोरोना वायरस के बड़े केंद्र के रूप में उभरा है।

पवार ने फेसबुक पर लोगों के साथ लाइव संवाद में कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने इससे पहले यहां इस तरह के आयोजन की अनुमति नहीं दी थी।

शरद पवार ने सवाल किया अगर महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इस तरह का निर्णय ले सकते हैं, तो दिल्ली में इसकी अनुमति क्यों दी गई।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने निजामुद्दीन कार्यक्रम को लेकर मीडिया के प्रचार के बारे में अपने विचार रखें। उन्होंने कहा- मीडिया इस मामले को अनावश्यक ही प्रचारित कर रही है? यह देश में एक विशेष समुदाय को चोट करता है।

ये भी पढ़ें…यूपी से चौंकाने वाला मामला, इतने साल का मरीज कोरोना पीड़ित

तबलीगी जमात के कार्यक्रम को टालना चाहिए था: पवार

इससे पहले भी शरद पवार ने कहा था- ‘दिल्ली की मरकज में जो हुआ उसके बाद सब लोग अपने-अपने गांव गए हैं इससे खतरा बढ़ रहा है। तबलीगी जमात के कार्यक्रम को टालना चाहिए था, लेकिन टाला नहीं गया।’

ज्ञात हो कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात का मरकज लगा हुआ था। मरकज में 21 मार्च को 1746 लोग थे। इनमें 216 विदेशी और 1530 लोग भारतीय थे। इनमें से कुछ के कोरोना संक्रमित पाए जाने की पुष्टि होने के बाद से देश में चिंता बढ़ गई है क्योंकि यहां से निकलकर लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में गए।

कोरोना वायरस: योगी सरकार ने गठित की स्पेशल सेल, यहां जानें इनके कार्यों के बारें में

 तब्लीगी जमात के कारण चार दिन में दोगुने हो गए हैं कोरोना केस

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि निजामुद्दीन स्थित मरकज से निकले तब्लीगी जमात के लोगों से देश में कोरोना संक्रमण के मामले चार दिन में दोगुने हो गए हैं।

बात करें महाराष्ट्र की तो कोरोना का सबसे ज्यादा कहर इसी राज्य में देखने को मिला है। यहां कुल संक्रमितों की संख्या 781 पहुंच गई है वहीं कोरोना से मौत के मामले में भी ये राज्य सबसे आगे है।

महाराष्ट्र में सोमवार को 33 और मामलों की पुष्टि हुई है। नए मामलों में 19 पुणे से, 11 मुंबई से और सतारा, अहमदनगर तथा वसई (पालघर जिले) से एक-एक मामले आए हैं।

तो क्या मौसमी बीमारी बन जाएगा कोरोना! US एक्सपर्ट ने दी ये चेतावनी