शिवसेना Vs राज्यपाल: बयान पर मचा घमासान, कहा वो अब BJP नेता नहीं

शिवसेना ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने आ बैल मुझे मार जैसा व्यवहार किया, लेकिन वो ये भूल गए कि यहां पर शेर है। 

Published by Shreya Published: October 15, 2020 | 1:20 pm
CM Uddhav Thackeray

शिवसेना Vs राज्यपाल: बयान पर मचा घमासान, कहा वो अब BJP नेता नहीं (फोटो- सोशल मीडिया)

मुंबई: बुधवार को महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने अनलॉक 5 (Unlock- 5) के लिए दिशानिर्देश किया, जिसमें उसने मंदिर और अन्य धार्मिक स्थल को बंद रखने का फैसला किया है। जिसके बाद प्रदेश के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को राज्य में मंदिर खोलने को लेकर पत्र लिखा। जिसके जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें गवर्नर (Governor) से अपने हिंदुत्व का प्रमाण नहीं चाहिए। वहीं अब पार्टी ने अपने मुखपत्र सामना में राज्यपाल कोश्यारी पर सवाल खड़े किए हैं।

वो ये भूल गए हैं कि आज वे महाराष्ट्र के राज्यपाल हैं

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि राज्यपाल के पद पर विराजमान व्यक्ति को किस प्रकार का बर्ताव करना चाहिए, यह भगत सिंह कोश्यारी ने साबित कर दिया। सामना में लिखा गया है कि राज्यपाल कोश्यारी ने आ बैल मुझे मार जैसा व्यवहार किया, लेकिन वो ये भूल गए कि यहां पर शेर है। आगे शिवसेना लिखती है कि श्रीमान कोश्यारी कभी संघ के प्रचारक या बीजेपी के नेता रहे होंगे, लेकिन वे इस बात को भूल गए हैं कि आज वे महाराष्ट्र के राज्यपाल हैं।

यह भी पढ़ें: कितने अमीर हैं PM मोदी: कमाई का बड़ा हिस्सा करते हैं निवेश, प्रॉपर्टी की दी जानकारी

राज्यपाल को इस आंदोलन में सहभागी होने की जरुरत नहीं थी

शिवसेना ने राज्यपाल पर निशाना कसते हुए कहा कि हर रोज सुबह महाराष्ट्र बीजेपी के नेता सरकार बदनामी करने की मुहिम शुरू कर देते हैं। लेकिन उस मुहिम का कीचड़ राज्यपाल कोश्यारी अपने ऊपर क्यों उड़वा लेते हैं। सामना में आगे लिखा गया कि महाराष्ट्र में भाजपा अपनी सत्ता गंवा चुकी है। यह एक बड़ी पीड़ा है, जो आगामी चार साल तक रहने ही वाली है। शिवसेना ने कहा कि भाजपा द्वारा महाराष्ट्र में मंदिर को खुलवाने के लिए आंदोलन शुरू किया गया है, लेकिन उस आंदोलन में राज्यपाल को सहभागी होने की जरुरत नहीं थी।

यह भी पढ़ें: वरिष्ठ भाजपा नेता के घर पर हमले से सनसनी, भगवाधारी मठाधीश पर आरोप

Governor Bhagat Singh Koshyari
(फोटो- ट्विटर)

राज्यपाल ने मुख्यमंत्री से पूछे थे ये सवाल

पार्टी ने मुखपत्र में लिखा कि राज्यपाल द्वारा मुख्यमंत्री ठाकरे को लिखा गया पत्र CM तक पहुंचने की यात्रा के दौरान ही अखबारों तक पहुंच गया। इसमें राज्यपाल द्वारा पूछा गया है कि महाराष्ट्र में बार व रेस्त्रां शुरू हो गए हैं, लेकिन धार्मिक स्थल बंद क्यों हैं। राज्यपाल ने सरकार से सवाल किया कि क्या आपको मंदिरों को बंद रखने के लिए कोई दैवीय संकेत मिल रहा है? या आप अचानक धर्मनिरपेक्ष हो गए हैं। वहीं मुख्यमंत्री द्वारा इस पत्र का कड़ा जवाब दिया गया है।

यह भी पढ़ें: गैंगरेप का आरोप निकला झूठा, बक्सर कांड में पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा

मुख्यमंत्री ठाकरे ने दिया कड़ा जवाब

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल के पत्र का सख्त जवाब देते हुए कहा कि आपने संविधान के अनुसार राज्यपाल पद की शपथ ली है। क्या आपको देश का संविधान व धर्मनिरपेक्षता स्वीकार नहीं है? आपको हमारे हिंदुत्व पर बोलने की जरुरत नहीं है। मेरे हिंदुत्ववाद को आपके प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है। सामना में लिखा गया है कि मुख्यमंत्री ठाकरे ने कड़ा जवाब देते हुए यह दिखा दिया है कि महाराष्ट्र का स्वाभिमान, अभिमान और तेवर क्या होता है?

यह भी पढ़ें: आतंकी का बेटा अफसर: पक्के इरादों से बदल दी किस्मत की लकीरें, देश में कमाया नाम

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App