Top

Father's Day स्पेशल: किसी के लिए फरिश्ता तो किसी के दिल का सुकून हैं Papa

फादर्स डे पर अपने पापा को स्पेशल फील कराने के बहुत से तरीके हैं लेकिन कभी-कभी शब्दों में बयां की गई बात उनके दिल में उतर जाती है  तो इस फादर्स डे अपने पापा के लिए  कुछ बच्चे मैसेज दे रहे है जिनके लिए उनकी दुनिया है उनके पापा, कुछ लोगों  के लिए उनके पापा  हीरो हैं अपने पापा को लेकर उनके क्या जज्बात हैं जानते हैं...

suman

sumanBy suman

Published on 21 Jun 2020 3:45 AM GMT

Fathers Day स्पेशल: किसी के लिए फरिश्ता तो किसी के दिल का सुकून हैं  Papa
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सुमन मिश्रा

जयपुर: पापा यह शब्द एक ऐसे अनमोल रिश्ते का अहसास कराता है जिसके बिना जिन्दगी की कल्पना अधूरी है। एक ऐसा पवित्र रिश्ता जिसका मुकाबला किसी और रिश्ते के साथ नहीं किया जा सकता। वह पापा ही होता है जो अपने बच्चों की हर ख्वाहिश को पूरा करने की कोशिश में अपनी पूरी जिंदगी लगा देता है। बचपन में छोटी से छोटी चीज से लेकर जवान होने तक हमारी हर मांग को पूरा करता है पिता। पिता का साथ होता है तो बच्चे को कोई असुविधा या असुरक्षा महसूस ही नहीं होती। पिता की छत्रछाया में बड़ी से बड़ी परेशानी छोटी और सहज लगने लगती है।

यह पढ़ें...बस लगने वाला है ग्रहण, इस दौरान न करें SEX, जानें इस पर क्या कहता है धर्म-विज्ञान

फादर्स डे" का सैलिब्रेशन

यदि मां घर की रौनक होती है तो पिता घर का गौरव। मां के आंचल में प्यार और भावनाओं का खजाना मिलता है तो पिता के पास पुरुषार्थ व संयम। भले ही मां हमारे स्वाद और सेहत का ध्यान रख प्यार से हमारे लिए भोजन बनाती है मगर उस भोजन की व्यवस्था का जिम्मा पिता के कंधों पर होता है।

हमारी सनातन संस्कृति में माता-पिता का स्थान सदा से ही सर्वोपरि रहा है किन्तु बीते कुछ सालों में वैश्वीकरण के गहराते प्रभाव में हमारे यहां भी विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय दिवसों के आयोजन का चलन खासा लोकप्रिय हो चला है। पाश्चात्य संस्कृति की रस्मों का अनुसरण करते हुए आज हम सब भी अपने पिता को खास फील कराने के लिए "फादर्स डे" का सैलिब्रेशन करते हैं।हर बच्चे के लिए उसके पापा सुपर हीरो की तरह होते हैं। पिता, जो कभी प्‍यार देते हैं तो कभी टीचर बनकर गलतियां बताते हैं तो कभी दोस्‍त बनकर कहते हैं कि 'मैं तुम्‍हारे साथ हूं।' अगर मां परिवार की धुरी होती है तो पिता एक ऐसा आवरण जिसके पहलू में रहकर हम अपने जीवन को एक दिशा देने की कोशिश करते हैं।

फादर्स डे पर अपने पापा को स्पेशल फील कराने के बहुत से तरीके हैं लेकिन कभी-कभी शब्दों में बयां की गई बात उनके दिल में उतर जाती है तो इस फादर्स डे अपने पापा के लिए कुछ बच्चे मैसेज दे रहे है जिनके लिए उनकी दुनिया है उनके पापा, कुछ लोगों के लिए उनके पापा हीरो हैं अपने पापा को लेकर उनके क्या जज्बात हैं जानते हैं...

खुशियों का खजाना

गुजरात के गांधीनगर में रहने वाला ईशू (देवव्रत मिश्रा)। 7 साल के इशू अपने पापा को प्यार से पापी कहते हैं। वैसे इशू अपनी मम्मी के करीब है लेकिन वो अपने पापा के साथ मस्ती, लड़ना झगड़ना और फ्रेंडली रहते हैं। उसे अपने पापा में ही रियल हीरो देखता हैं। पापा के साथ मिलकर शैतानियां करने और मम्मी को परेशान करने में इशू को मजा आता है। इशू कहते हैं कि उनके पापा उनके लिए सबकुछ है। उनके आंखों की चमक और खुशियों का खजाना है।

पापा सुकून हो

मुंबई का रहने वाला जिशान अपने पापा को अपना सुकून मानते हैं। 12 साल के जिशान का रिश्ता उसके पापा से दोस्ताना है। उसे अपने पापा को परेशान करना ,उनके साथ घूमना और खेलना बहुत पसंद है। उसका कहना है कि उसके पापा उसे कभी किसी चीज के लिए नहीं रोकते हैं। हर ख्वाहिश पूरी करते हैं, मम्मी जब डांटती है तो उससे बचाते हैं। तो ऐसे पापा को प्यार करना उसका फर्ज है। इसलिए जिशान इस बार अपने पापा के लिए दो लाइन लिखते है- सुपरहीरो हो पापा, पहाड़ सी मुश्किल को तिनका कर देते।मम्मी से मेरी शैतानियों को छिपाते, तो गलतियों पर हमें समझाते।

पापा स्पाइडरमैन

जयपुर के रहने वाले झलक और कान्हा के लिए उनके पापा स्पाइडरमैन है। दोनों अपने पापा से बहुत प्यार करते हैं। पापा के साथ उन्हें ज्यादा अच्छा लगता है। कान्हा अपनी मीठी आवाज में कहते है कि उनके पापा जैसा कोई नहीं है वो सबसे अच्छे है। तो झलक खुद को पापा की परी कहलाना पसंद करती है। दोनों बच्चे कहते हैं अपने पापा के लिए चंद लाइने-मम्मी तुम तो मम्मी हो, पापा मेरे संग आप बच्चे हो, मम्मी से छुप कर कार्टून दिखाया,दुनिया से लड़ना सिखाया।

पापा फरिश्ता हैं

लखनऊ की यशस्वी और तुषार भी अपने पापा से बहुत प्यार करते हैं। आज फादर्स डे पर अपने पापा के लिए सरप्राइज केक मम्मी की मदद से बनवाने वाले है । दोनों कहते हैं कि वो किस देकर पापा को विश करेंगे, क्योंकि अभी कोरोना की वजह से गिफ्ट नहीं मिलेगा। इनका कहना है कि जब भी मम्मी से मार पड़ती है तो पापा ही बचाते हैं और मम्मी को डांटते भी है तो इन्हें अच्छा लगता है। अपने पापा के लिए ये दो लाइने कहते हैं- दीपक बनकर अंधेरे में रौशनी देते हैं, पापा के रुप में हमने फरिश्ता देखे है।

उनका वजूद

मुंबई से मीनू कहती है कि उनके पापा वो इंसान है, जिससे वो बिना किसी कारण के प्यार करती है। उनके पापा उनके पहले लव साइट है। जो उनकी केयर बिना किसी स्वार्थ के करते हैं। आज जो भी उनका वजूद है उसमें उनका पापा की शख्सियत का बहुत योगदान है।

प्राउड फील

झारखंड धनबाद से अनु अग्रवाल कहती हैं कि वो अपने पापा से बहुत प्यार करती हैं। तब और प्राउड फील करती थी, जब स्कूल में उनके दोस्त पापा को उनका भाई तक कह देते थे। उनके पापा बहुत फिट रहते हैं। उन्हें बागवानी का बहुत शौक है और पापा की वजह से ही उन्हें भी नेचर प्यार है। अनु अपनी विदाई को याद करते हुए कहती हैं कि विदाई से पहले पापा का सख्त दिल ज्यादा देखने को मिला था,पर उनकी विदाई पर सबसे ज्यादा रोने वाले भी उनके पापा ही थे। वो अपने पापा से बहुत प्यार करती हैं।

यह पढ़ें...Father’s Day: पिता के प्यार को बयां करतीं ये 6 फिल्में, छोड़ती हैं दिलों पर छाप

गलत को गलत कहना

रांची से बलजीत कौर कहती हैं कि पापा ने ही उन्हें मजबूत बनाया है। स्कूटी, बाइक चलाना भी पापा ने ही सिखाया। उनकी गैर हाजिरी में किसी से नहीं डरना है। गलत को गलत कहना ये पापा ने ही सिखाया। जीवन के हर उतार-चढ़ाव में बस पापा ही थे। जो हंसना सिखाते थे। बलजीत अपने पापा से बहुत प्यार करती हैं। उनकी तरह ही अपने जीवनसाथी को देखती हैं।

सफलता में पापा का हाथ

रामगढ़ से रितू सिंह का कहना है कि उनके पापा बहुत अच्छे थे। आज वो इस दुनिय़ा में नहीं हैं पर उनकी यादें उनके साथ गुजरा वक्त सब याद है। रितु का खुद बिजनेस है और ये सफलता भी उनके पापा की ही देन है। पापा की वजह से ही वह इतनी मजबूत हैं और खुद डिसीजन लेने में सक्षम भी।

खुशनसीब हैं वो लोग, जिनके पापा

शिलांग से अर्चना पापा को लेकर अपनी फीलिंग्स शेयर करते हुए इस तरह अपने जज्बात बयान कर रही हैं ... जब भी कोई मुश्किल वक्त है आता, तब आप बहुत याद आते हो पापा , भले ही लगते हो सख्त, पर अपने बच्चों को हमेशा देते वक्त, बुरी संगत में न जाने देते, हमेशा अच्छी राह दिखाते, जब भी वह बाजार जाते, बच्चों के लिए जरूर कुछ न कुछ लाते, हर बच्चे को अपने पापा पर गर्व है, खुशनसीब हैं वो लोग, जिनके पापा हैं।

यह पढ़ें...सूर्य ग्रहण में करें इन महामंत्रों का जाप, टल जाएगा बड़े से बड़ा संकट

पापा को सरप्राइज

पटना से अनवेषा रंजन कहती है कि वो अपनी मम्मी से ज्यादा पापा के क्लोज है। उनके पापा वर्ल्ड के बेस्ट पापा है। वो फादर्स डे को बहुत अच्छे से सेलिब्रेट करती है। इसमें खुद उनके पापा बी शामिल होते है। वो अपने पापा के साथ इस दिन बहुत मस्ती करती है। इस दिन वो अपने भाई के साथ मिलकर पापा को सरप्राइज देती है।

मुश्किल का समाधान

बिहार के बक्सर की संध्या सिंह कहती है कि उनके पापा उनके लिए जादूगर से कम नहीं है। हर मुश्किल का समाधान रहता है पापा के पास। चाहे वो जितनी भी दूर रहे पर पापा हर समस्या का हल निकला देते है। उनके पापा उनके लिए जादूगर है।

यह पढ़ें...सुशांत सिंह की मौत पर सलमान खान ने तोड़ी चुप्पी, फैंस से की ये अपील

सुपरहीरो की तरह

झारखंड रांची से पुष्पिता पांडे कहती है कि उनकी पापा उनके लिए सुपरहीरो की तरह है। बचपन से लेकर बड़े होने तक हर फैसला उनके लिए पापा ने ही लिया और हर तरह से वह फैसला सही रहा है। चाहे कोई भी परेशानी हो पापा का हाथ हर वक्त सर पर रहता है। कभी अमिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता, कभी धरती तो कभी आसमान है पिता।

suman

suman

Next Story