Top

मोदी ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, 20 करोड़ से अधिक लोगों ने सुना संबोधन

चौथी बार के संबोधन जिसमें पीएम मोदी ने देश में लॉकडाउन की अवधि तीन मई तक बढ़ाने का एलान किया, उसे रिकॉर्ड 20.3 करोड़ लोगों ने देखा। दर्शकों की इस संख्या ने मोदी के पिछले संबोधनों के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 17 April 2020 4:01 AM GMT

मोदी ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, 20 करोड़ से अधिक लोगों ने सुना संबोधन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली। देश में कोरोना संकट शुरू होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार बार राष्ट्र को संबोधित कर चुके हैं। उनके संबोधनों के साथ एक खास बात यह जुड़ी हुई है कि हर बार पिछली बार की अपेक्षा ज्यादा लोगों ने उनके संबोधन को सुना है। अपने चौथी बार के संबोधन जिसमें पीएम मोदी ने देश में लॉकडाउन की अवधि तीन मई तक बढ़ाने का एलान किया, उसे रिकॉर्ड 20.3 करोड़ लोगों ने देखा। दर्शकों की इस संख्या ने मोदी के पिछले संबोधनों के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए।

संबोधन का लोगों को बेसब्री से इंतजार था

मोदी के इस महत्वपूर्ण संबोधन का पूरे देश को बेसब्री से इंतजार था। हर कोई पीएम मोदी के संबोधन का इस बात के लिए इंतजार कर रहा था कि लॉकडउन बढ़ता है या नहीं और यदि बढ़ता है तो आखिर कब तक। वैसे अधिकांश लोगों को इस बात की उम्मीद थी कि मोदी लॉकडाउन बढ़ाने का एलान करेंगे। मोदी ने अपने 25 मिनट के संबोधन के दौरान लॉकडाउन की समय सीमा तीन मई तक बढ़ाने का एलान किया था। हालांकि इससे पहले यह उम्मीद जताई जा रही थी कि वे 30 अप्रैल तक लॉकडाउन का एलान करेंगे।

199 कंपनियों ने किया प्रसारण

ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनील लुल्ला ने इस बाबत बताया कि प्रधानमंत्री के राष्ट्र के नाम 25 मिनट के चौथे संबोधन का प्रसारण 199 प्रसारण कंपनियों ने किया। लुल्ला ने बताया कि दर्शकों की संख्या के आधार पर गणना की जाए तो इस प्रसारण को चार अरब मिनट देखा गया और यह एक रिकॉर्ड है।

ये भी पढ़ेंःमोदी के 7 वचन: हैं ‘जीवन-ए-वरदान’, मान लिया तो जीत जाएँगे जंग

चार बार किया राष्ट्र को संबोधित

देश में कोरोना संकट शुरू होने के बाद पीएम मोदी अभी तक चार बार राष्ट्र को संबोधित कर चुके हैं। पहली बार उन्होंने 22 मार्च को देश में जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था। इसके बाद अपने दूसरे संबोधन के दौरान उन्होंने 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी।

तीसरी बार के संबोधन के दौरान लोगों ने घरों में मोमबत्तियां और दिए जलाकर देश की एकजुटता का संदेश देने का आह्वान किया था। चौथी बार उन्होंने लॉकडाउन की समय सीमा को दूसरी बार बढ़ाने का एलान किया। जब पीएम मोदी ने पहली बार 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी तब उनके संबोधन को रिकॉर्ड 19.3 करोड़ लोगों ने देखा था।

ये भी पढ़ेंःप्रधानमंत्री ने संबोधन के लिए क्यों चुना 10 बजे का समय, समझिए पूरी गणित

टीवी देखने वालों में 38 दिन उछाल

कोरोना संकट के कारण देश में घोषित लॉकडाउन के कारण टीवी देखने वालों का आंकड़ा पहले की तुलना में 38 फ़ीसदी बढ़ा है। लुल्ला ने बताया कि दूरदर्शन के दर्शकों की संख्या में जबर्दस्त इजाफा हुआ है। लोगों की भारी मांग के बाद दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत सीरियल का प्रसारण दोबारा शुरू किया गया है और इसे दर्शकों के बीच काफी पसंद किया जा रहा है। इस कारण टीवी देखने वालों की संख्या काफी बढ़ी है।

विज्ञापनों में 26 फ़ीसदी की गिरावट

माना जा रहा है कि कोरोना वायरस की वजह से घोषित लॉकडाउन के कारण टीवी देखने वालों की संख्या में इजाफा दर्ज किया जा रहा है। लॉकडाउन के कारण लोग घरों के भीतर कैज हैं और अपना समय बिताने के लिए टीवी का सहारा ले रहा हैं। हालांकि एक उल्लेखनीय बात विज्ञापनों में गिरावट की भी दर्ज की गई है। देखने वालों की संख्या बढ़ने के बावजूद विज्ञापनों में 26 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story