Top

15 साल की लड़कीः बाली उमर में दुनिया को हिला दिया, आज भी मौत के चर्चे

एडिथ और ओटो एनी फ्रैंक के धर्मनिष्ठ माता-पिता थे, जो विद्वानों की खोज में रुचि रखते थे और उनके पास एक व्यापक पुस्तकालय था; दोनों माता-पिता ने बच्चों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया।

राम केवी

राम केवीBy राम केवी

Published on 25 Jun 2020 8:33 AM GMT

15 साल की लड़कीः बाली उमर में दुनिया को हिला दिया, आज भी मौत के चर्चे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रामकृष्ण वाजपेयी

एनी फ्रैंक वह लड़की है जो मात्र 15 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कहने के बावजूद अपनी लिखी एक डायरी से अमर हो गई। डायरी ऑफ ए यंग गर्ल या द डायरी को उसके पिता ने उसके निधन के तकरीबन दो साल बाद आज के ही दिन य़ानी 25 जून 1947 को प्रकाशित किया और इस डायरी की लगभग तीन करोड़ प्रतियां बिकीं और दुनिया की 67 भाषाओं में इसका अनुवाद हुआ।

एनी फ्रैंक का ध्येय वाक्य आज भी बहुतों के लिए प्रेरणा दायक है, 'मैं परेशानियों के बारे में कभी नहीं सोचती , बल्कि उन अच्‍छे पलों को याद करती हूं जो अब भी बाकी हैं.' यह डायरी एनी को 13वें जन्मदिन पर उपहार में मिली थी और इस डायरी में 12 जून 1942 से 1 अगस्त 1944 के बीच उसकी जिंदगी में जो कुछ घटा उसका ब्योरा है।

ये थी एनी की इच्छा

इस सबसे अलग एनी फ्रैंक अपने लिए क्या चाहती थी। एनी फ्रैंक, एक पत्रकार बनना चाहती थी। 5 अप्रैल 1944 बुधवार को उसने अपनी डायरी में लिखा:

मुझे अंत में एहसास हुआ कि मुझे अनजान बनने से बचने के लिए, जीवन में आगे बढ़ने के लिए, पत्रकार बनने के लिए अपना स्कूलवर्क अवश्य करना चाहिए, क्योंकि यही मैं चाहती हूँ! मुझे पता है कि मैं लिख सकती हूं ... लेकिन यह देखना बाकी है कि क्या मेरे पास वास्तव में प्रतिभा है ...

और अगर मेरे पास किताबें या अखबार के लेख लिखने की प्रतिभा नहीं है, तो मैं हमेशा अपने लिए लिख सकती हूं। लेकिन मैं इससे ज्यादा हासिल करना चाहता हूं।

मैं माँ, श्रीमती वैन दान और उन सभी महिलाओं की तरह जीने की कल्पना नहीं कर सकती जो अपने काम के बारे में जानती हैं और फिर भूल जाती हैं।

मुझे खुद को समर्पित करने के लिए एक पति और बच्चों के अलावा कुछ चाहिए! ...

मैं उपयोगी होना चाहती हूं या सभी लोगों के लिए आनंद लाना चाहती हूं, यहां तक ​​कि जिन लोगों से मैं कभी नहीं मिला हूं।

मैं अपनी मृत्यु के बाद भी जीवित रहना चाहती हूं! और इसीलिए मैं ईश्वर की बहुत आभारी हूँ कि उसने मुझे यह उपहार दिया, जिसका उपयोग मैं अपने आप को विकसित करने के लिए कर सकती हूँ और अपने अंदर वह सब व्यक्त कर सकती हूँ।

जब मैं लिखती हूं तो मैं अपनी परवाह कर सकती हूं। मेरा दुःख मिटे, मेरी आत्माएँ पुनर्जीवित हों! लेकिन, और यह एक बड़ा सवाल है कि क्या मैं कभी कुछ महान लिख पाऊंगी, क्या मैं कभी पत्रकार या लेखक बन पाऊंगी?

और एनी ने 1 अगस्त 1944 को अपनी अंतिम प्रविष्टि तक नियमित रूप से लिखना जारी रखा।

दुनिया की अच्छी पु्स्तकों में डायरी

इस डायरी में एनी फ्रैंक का द्वितीय विश्व युद्ध में नीदरलैंड के जर्मन कब्जे के दौरान, 1942 से 1944 तक का जीवन दर्ज है। यह डायरी दुनिया की सबसे अच्छी पुस्तकों में से एक है और कई नाटकों और फिल्मों का इसके आधार पर निर्माण हुआ है।

इसे भी पढ़ें साहित्य समाज का दर्पण ही नहीं अपितु पूरक है: नीलिमा कटियार

एडिथ व ओटो फ्रैंक की संतान एनी फ्रैंक का जन्म 12 जून 1929 को फ्रैंकफर्ट, जर्मनी के एडिंग में हुआ था। उसकी एक बड़ी बहन मार्गोट थी। फ्रैंक्स उदार यहूदी थे और यहूदी धर्म के रीति-रिवाजों और परंपराओं का कट्टरता से पालन नहीं करते थे।

जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में जन्मी, एनी फ्रैंक ने अपने अपने संक्षिप्त जीवन का अधिकांश हिस्सा एम्स्टर्डम, नीदरलैंड्स में या उसके आस-पास गुजारा, वह साढ़े चार साल की उम्र में अपने परिवार के साथ वहां से चली गई जब नाजियों ने जर्मनी पर नियंत्रण हासिल कर लिया।

खुफिया ठिकाने में कैद जिंदगी

एनी का जन्म एक जर्मन नागरिक के रूप में हुआ था लेकिन उसने 1941 में अपनी नागरिकता खो दी और इस तरह से उसका कोई देश ही नहीं रहा। नीदरलैंड पर जर्मनी के कब्जे से मई 1940 में फ्रैंक्स एम्स्टर्डम में फंस गए।

इसे भी पढ़ें साहित्य अकादमी और पदमश्री प्राप्त नवनीता सेन का लंबी बीमारी से निधन

जुलाई 1942 में जब यहूदी आबादी का उत्पीड़न बढ़ा, फ्रैंक्स एक इमारत में किताबों की अलमारी के पीछे बने कुछ खुफिया कमरों में छिप गए, यहां ऐनी के पिता ओटो फ्रैंक ने काम किया। अगस्त 1944 में गेस्टापो द्वारा परिवार की गिरफ्तारी तक वह यहीं रहे।

एनी के पास एक डायरी थी जो उसे जन्मदिन पर तोहफे के रूप में मिली थी। वह इस डायरी को नियमित रूप से लिखा करती थी। गिरफ्तारी के बाद इन लोगों को शिविरों में ले जाया गया। अक्टूबर या नवंबर 1944 में, ऐनी और उसकी बहन मार्गोट को ऑस्चिट्ज़ से बर्गेन-बेलसेन शिविर में भेजा गया, जहां कुछ महीनों बाद इनकी शायद टाइफस से मौत हो गई।

मृत्यु की तारीख अज्ञात

रेड क्रॉस द्वारा मार्च में उनकी मृत्यु होने का अनुमान लगाया गया, डच अधिकारियों ने 31 मार्च को उनकी मृत्यु की आधिकारिक तारीख के रूप में निर्धारित किया, लेकिन 2015 में ऐनी फ्रैंक हाउस द्वारा किए गए शोध से यह पता चलता है कि फरवरी में उनकी मृत्यु होने की अधिक संभावना है।

इसे भी पढ़ें लखनऊ के बाल साहित्यकार लायक राम ‘मानव‘ कानपुर में हुए सम्मानित

फ्रैंक्स के एकमात्र उत्तरजीवी, ओटो, युद्ध के बाद एम्स्टर्डम लौट आए, उन्हें इस बीच पता चला कि एनी की डायरी को उनके साथी मिप गीज़ ने बचा लिया था और उनके प्रयासों से 1947 में इसका प्रकाशन हुआ। इसका मूल डच संस्करण से अनुवाद किया गया और सबसे पहले 1952 में अंग्रेजी में द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल के रूप में ये प्रकाशित हुई और तब से इसका 70 से अधिक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।

दुनिया को जीना सिखाया

16 बरस की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कहने के बावजूद जीना सिखाने वाली एनी फ्रैंक करीब दो साल तक अपने परिवार के साथ छिपकर रही थी। इस डायरी में 12 जून 1942 से 1 अगस्‍त 1944 के बीच उनकी जिंदगी में जो घटा उसका ब्‍योरा है।

इसे भी पढ़ें इस कवि की रचनाएं देशभक्ति से भरी हैं, ठुकरा दिया था नेपाल के इस सम्मान को

एडिथ और ओटो एनी फ्रैंक के धर्मनिष्ठ माता-पिता थे, जो विद्वानों की खोज में रुचि रखते थे और उनके पास एक व्यापक पुस्तकालय था; दोनों माता-पिता ने बच्चों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया।

एनी के जन्म के समय परिवार फ्रैंकफर्ट-डॉर्नबस के मारकब्वेग के एक घर में रहता था, जहाँ उन्होंने दो मंजिलें किराए पर ली थीं। 1931 में परिवार डोरबसॉच के एक फैशनेबल उदार क्षेत्र में गैंगहोफर्स्ट्रस 24 में चला गया, जिसे डाइचरवेरटेल (पॉइट्स क्वार्टर) कहा जाता है। दोनों घर अभी भी मौजूद हैं।

राम केवी

राम केवी

Next Story