Top

जब भारत और पाक मैच के दौरान बेकाबू हो गई भीड़, फिर ऐसे कराना पड़ा खेल

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन हारे हुए मैच को भी जीताने का हुनर रखते थे। लेकिन मैच के बीच सचिन का आउट होना किसी को भी रास नहीं आता था।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 28 April 2020 5:21 AM GMT

जब भारत और पाक मैच के दौरान बेकाबू हो गई भीड़, फिर ऐसे कराना पड़ा खेल
X
जब भारत और पाक मैच के दौरान बेकाबू हो गई भीड़, फिर ऐसा हुआ खेल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: क्रिकेट जगत में 'फादर ऑफ क्रिकेट' कह जाने वाले क्रिकेटर सचिन तेंदूलकर की लोकप्रियता किसी से छिपी नहीं है। उनके धुआंधार बल्लेबाजी ने सभी के दिलों में अपनी जगह इस कदर बनाई की लोग आज तक उनके लिए वहीं प्यार जिंदा है। यहां तक कि इनकी लोकप्रियता लोगों के बीच इतनी थी कि इनके मैच खलने या ना खलने से मैच के टिकटों के दाम तय हुआ करते थे।

लोगों में सचिन का क्रेज

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन हारे हुए मैच को भी जीताने का हुनर रखते थे। लेकिन मैच के बीच सचिन का आउट होना किसी को भी रास नहीं आता था। इनको आउट करार देने पर स्टेडियम में मौजूद दर्शक हंगामा करने पर भी उतारू हो जाया करते थे।

एशियन टेस्ट चैम्पिनयशिप का मुकाबला (1999)

ऐसा ही किस्सा हुआ था 1999 में हुए भारत और पाकिस्तान के मैच के दौरान। दरअसल, फरवरी 1999 में कोलकाता के ईडन गार्डन्स में भारत और पाकिस्तान के बीच एशियन टेस्ट चैम्पिनयशिप का मुकाबला जारी था। इस मैच में सचिन विवादास्पद तरीके से रन आउट हो गए, जिसके बाद गुस्साए दर्शकों ने जमकर हंगामा किया। हालात इतने बिगड़े कि 65 हजार दर्शकों को निकालकर खाली स्टेडियम में ये मैच कराना पड़ा।

यह भी पढ़ें: WHO ने बच्चों पर जताई चिंता, कहा- लॉकडाउन की वजह से इन बीमारियों का बढ़ा खतरा

16-20 फरवरी 1999 तक खचाखच भरा रहा स्टेडियम

भारत और पाकिस्तान के बीच कोई भी मुकाबला हो, दर्शकों का जोश हमेशा उच्च स्तर पर ही रहता। 16-20 फरवरी 1999 तक यानि टेस्ट मैच के पहले चार दिन तक स्टेडियम में 1 लाख दर्शकों की भीड़ उमड़ती रही। लेकिन जब आखिरी दिन भारत की दूसरी पारी में जब केवल चार विकेट बचे तो लोगों की भीड़ थोड़ी कम हो गई, लेकिन फिर भी स्टेडियम में 65 हजार दर्शक स्टेडियम में मौजूद थे। दर्शकों की मौजूदगी ने टेस्ट मैच में 63 साल के रिकॉर्ड को तोड़ दिया था।

185 रनों पर ही सिमट कर रह गया पाकिस्तान

मैच के पहले तीन दिन पाकिस्तान 6 विकेट के साथ 26 रन बनाकर ही ढेर हो गई। लेकिन फिर पाकिस्तान के विकेटकीपर बल्लेबाज मोईन खान ने 70 रन की पारी से टीम की ढहती पारी बचाई। लेकिन मोईन का विकेट सचिन ने ले लिया। उसके बाद पाकिस्तान की टीम महज 185 रनों पर ही सिमट कर रह गई। मैच के दौरान भारत की तेज गेंदबाजों की जोड़ी जवागल श्रीनाथ और वेंकटेश प्रसाद ने गजब का प्रदर्शन किया। उस पारी में दोनों ने क्रमश: 5 और 2 विकेट निकाले।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन से इकॉनमी को 10 लाख करोड़ का नुकसान, 29 साल पीछे गया भारत

भारत ने पहली पारी में बनाए 223 रन

उसके बाद भारत को पाकिस्तान ने पहली पारी में 223 रनों पर रोक दिया। भारत के लगातार विकेट गिरते गए। 'रावलपिंडी एक्सप्रेस' कहे जाने वाले शोएब अख्तर ने भारतीय क्रिकेट टीम के 'दीवार' राहुल द्रविड़ का विकेट ले लिया था। उसके बाद सचिन तेंदुलकर लोगों की उम्मीद बनकर स्टेडियम में उतरे। लेकिन अगली ही गेंद पर सचिन रन आउट हो गए। जिसके बाद चारों ओर दर्शकों के चेहरों पर मायूसी ने जगह ले ली।

भारत के पास थी 38 रनों की बढ़त

भारत के पास उस वक्त तक 38 रनों की बढ़त थी। पाकिस्तान ने फिर 316 रनों की पारी खेली, जिसमें सईद अनवर ने बेहतरीन प्रदर्शन दिखाते हुए 188 रन बनाए थे। भारत को जीत के लिए 279 रनों का टारगेट मिला, अब मैच में केवल दो दिन ही बचे थे।

यह भी पढ़ें: ये IPS बना मिसाल: कोरोना से जंग में भूला कैंसर का दर्द, ऐसे निभाता रहा ड्यूटी

लोगों की उम्मीद बन आए सचिन

भारत ने चौथे दिन अच्छी शुरुआत की और दो विकेट खोकर 143 रन बना लिया। वीवीएस के आउट होने के बाद सचिन चौथे नंबर पर उतरे थे। उसके वक्त स्टेडियम में करीब एक लाख दर्शकों को सचिन से बहुत उम्मीद थी। मैच का 43वां ओवर वसीम अकरम डाल रहे थे। सचिन तेंदुलकर ने उस वक्त तक 7 रन ही बनाए थे।

इस तरह आउट हुए सचिन

ओवर की तीसरी बॉल पर सचिन रन के लिए दौड़े और 2 रन बनाकर अपने टेस्ट करियर का 5 हजार रनों का आंकड़ा छू लिया। द्रविड़ के साथ वो मैदान पर थे और तीसरे रन के लिए भागे। लेकिन नदीम खान का बाउंड्री के पास से फेंका गया थ्रो सीधे स्टंप पर आकर लगा। वहीं सचिन रन के लिए दौड़ने के दौरान शोएब अख्तर से टकरा गए। जिसके बाद अकरम और कीपर मोईन ने खान ने सचिन के आउट होने की अपील कर दी। थर्ड अंपायर केटी फ्रांसिस ने सचिन को आउट करार दे दिया। उस वक्त भारत का स्कोर था 145 पर 3 विकेट।

हालात हो गए बेकाबू

सचिन के रन आउट होने के बाद द्रविड़ ने बाकी बची तीन गेंदें खेलीं, लेकिन ओवर खत्म होने के बाद माहौल खराब हो गया। स्टेडियम में सभी शोएब को चीटर कह कर चीखने लगे। अख्तर पर बोतलों के साथ-साथ कई चीजें फेंकी गईं। हालात को देखते हुए मैदान पर लिखा गया कि CALCUTTA LOVES CRICKET. PLEASE MAINTAIN EDENS TRADITION.

यह भी पढ़ें: दुनिया में 9 दिसंबर तक खत्म होगा कोरोना, जानिए भारत पर वैज्ञानिकों का दावा

सौरव गांगुली के आउट होने से दर्शक हुए बेकाबू

करीब 67 मिनट के बाद दोबारा खेल शुरू हो पाया था। फिर पांचवें दिन नौवीं गेंद पर सौरव गांगुली आउट हो गए। जिसके बाद तो दर्शक और बेकाबू हो गए। भारत का 231 के स्कोर पर का 9वां विकेट भी गिर गया था। विजडन की रिपोर्ट के मुताबिक, लोग ज्यादा आक्रामक हो गए थे और मैदान में पत्थर तक फेंकने लगे। दर्शक भारतीय टीम को ऑल आउट होते हुए नहीं देखना चाहती थी। वहां पर एकदम दंगे जैसे हालात हो गए थे।

स्टेडियम को खाली करा हुआ मैच

वहां मैच होना लगभग असंभव हो गया था। इसके बाद पुलिस को मोर्चा संभालना पड़ा। उसके बाद लाठीचार्ज, लात, घूंसे से जैसे संभव हो पाया 65 हजार दर्शकों को स्टेडियम से बाहर निकाला गया। उसके बाद करीब 3 घंटे बाद महज 200 लोगों की मौजूदगी में मैच फिर शुरू हुआ। ये मैच देखने वाले दर्शक अधिकारी, वीआईपी, पत्रकार और पुलिसवाले थे। हालांकि मैदान के बाहर किसी तरह की कोई हिंसा नहीं हुई। भारत का आखिरी विकेट वेंकटेश प्रसाद के रुप में गिरा और ये मैच भारत के हाथों से निकल गया। भारत का स्कोर था 232 और पाकिस्तान ने इस टेस्ट मैच को 46 रनों से जीत लिया था।

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट: PM इमरान खान का होगा तख्ता पलट! पाक सेना ने लिया ये बड़ा फैसला

Shreya

Shreya

Next Story