Top

पीएम मोदी का तोहफा! जल्द ही देश को मिलेगा सबसे बड़ा ये शानदार स्टेडियम

आप सभी को मालूम होगा कि क्रिकेट का सबसे बड़ा मैदान ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में है, जो मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में यह मैदान, दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट मैदान है, जिसमें 100,024 की बैठने की क्षमता है। खास बात यह है कि यह मैदान 1956 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, 2006 के राष्ट्रमंडल खेलों और 2 क्रिकेट विश्व कप क्रमश: 1992 और 2015 का गवाह रहा है।

Harsh Pandey

Harsh PandeyBy Harsh Pandey

Published on 25 Oct 2019 11:10 AM GMT

पीएम मोदी का तोहफा! जल्द ही देश को मिलेगा सबसे बड़ा ये शानदार स्टेडियम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अहमदाबाद: आप सभी को मालूम होगा कि क्रिकेट का सबसे बड़ा मैदान ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में है, जो मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में यह मैदान, दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट मैदान है, जिसमें 100,024 की बैठने की क्षमता है। खास बात यह है कि यह मैदान 1956 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक, 2006 के राष्ट्रमंडल खेलों और 2 क्रिकेट विश्व कप क्रमश: 1992 और 2015 का गवाह रहा है।

मोटेरा स्थित नवनिर्मित सरदार पटेल स्टेडियम....

हालांकि, अगले साल एमसीजी को बड़े क्रिकेट स्टेडियम के रूप में अपना ताज छोड़ना होगा। क्योंकि अहमदाबाद के मोटेरा में नवनिर्मित सरदार पटेल स्टेडियम दर्शक क्षमता के लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम होगा।

यह भी पढ़ें. मोदी का मिशन Apple! अब दुनिया चखेगी कश्मीरी सेब का स्वाद

जनवरी 2020 में पूरा होगा मोटेरा स्थल...

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मोटेरा में सरदार पटेल स्टेडियम 63 एकड़ में फैला हुआ है, और इसे ऑस्ट्रेलियाई आर्टिकेट कंपनी 'पॉपुलस' द्वारा डिज़ाइन किया गया है, खास बात यह है कि कंपनी 'पॉपुलस' ने एमसीजी को डिज़ाइन किया था।

आपको बता दें कि नए स्टेडियम में दर्शकों के बैठने की क्षमता 1,10,000 होगी, जो पिछले मोटेरा मैदान की क्षमता को दोगुना करती है, और इसमें एमसीजी की वर्तमान में 10,000 से अधिक सीटें होंगी।

एक अन्य मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इन दर्शकों की सीटों के अलावा, इसमें 76 कॉरपोरेट बॉक्स, चार ड्रेसिंग रूम, तीन अभ्यास मैदान, इनडोर अभ्यास पिच, प्रशिक्षण केंद्र और एक 55-कमरा क्लब-हाउस है।

यह भी पढ़ें. 250 ग्राम का परमाणु बम! पाकिस्तान का ये दावा, सच्चा या झूठा

ये खास सुविधायें भी स्टेडियम में मौजूद...

इसके साथ ही स्टेडियम में ओलंपिक आकार का स्विमिंग पूल, बैडमिंटन और टेनिस होगा कोर्ट, स्क्वैश क्षेत्र, टेबल टेनिस क्षेत्र और एक 3 डी प्रोजेक्टर थियेटर मौजूद हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि स्टेडियम निर्माण कार्य 2020 जनवरी तक होगा।

नरेंद्र मोदी का विचार...

आपको बताते चलें कि नए स्टेडियम के निर्माण का विचार गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी के कार्यकाल के दौरान रखा गया था। गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के उपाध्यक्ष परिमल नाथवानी ने यह भी उल्लेख किया कि स्थल 300 मीटर की दूरी के भीतर एक मेट्रो स्टेशन से जुड़ा होगा। एक बार में 60,000 लोगों की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने के लिए एक विशाल रैंप बनाया गया है।

स्टेडियम परिसर में फ्लडलाइट्स के विपरीत, मोटेरा मैदान में पूरे स्थान पर एलईडी रोशनी होगी। इस स्थल में सौर ऊर्जा उत्पादन और 65 वर्षा जल संचयन गड्ढों के लिए भी प्रावधान है और टीम इंडिया और विश्व एकादश के बीच T20 मैच होने वाले इस नए स्टेडियम में पहले मैच की योजना है। 90 प्रतिशत से अधिक काम पूरा हो चुका है।

यह भी पढ़ें. एटम बम मतलब “परमाणु बम”, तो ऐसे दुनिया हो जायेगी खाक!

अगले कुछ महीनों में देश की आर्थिक राजधानी अहमदाबाद में 1.10 लाख की दर्शक क्षमता वाले नए स्टेडियम का उद्घाटन होगा, जो 1982 में मोटेरा में बने 50 हजार की क्षमता वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल स्टेडियम की जगह लेगा।

गौरतलब है कि मोटेरा में बनने वाला ये नया स्टेडियम दर्शक क्षमता के लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम होगा। गुजरात में बनने वाले इस नए स्टेडियम के 2023 वर्ल्ड कप की मेजबानी करने की संभावना है।

यह भी पढ़ें. 10 करोड़ की होगी मौत! भारत-पाकिस्तान में अगर हुआ ऐसा, बहुत घातक होंगे अंजाम

2013 में बनी थी मोटेरा में नए स्टेडियम निर्माण की योजना...

इस प्रोजेक्ट की परिकल्पना 2013 में तब के गुजरात क्रिकेट असोसिएशन के अध्यक्ष और राज्य के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में की गई थी। मोदी के बाद गुजरात क्रिकेट असोशिएशन के अध्यक्ष बने अमित शाह के लिए ये एक ड्रीम प्रोजेक्ट बन गया।

उल्लेखनीय है कि इसका निर्माण 2015 में शुरू हुआ था और पुराने स्टेडियम को गिराने में नौ महीने लग गए। मोटेरा के नए स्टेडियम के जनवरी 2020 तक बन जाने की संभावना है।

65 एकड़ में फैला होगा मोटेरा का नया स्टेडियम...

यह भी पढ़ें. झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

इस नए स्टेडियम को पुराने स्टेडियम को गिराकर बनाया जा रहा है। 65 एकड़ में बनने वाले साबरमती नदी के किनारे बनने वाले इस नए स्टेडियम में मुख्य स्टेडियम के अलावा-दो एक ही साइज की अतिरिक्त क्रिकेट पिचें, कई अन्य खेलों के लिए एक मल्टी-स्पोर्ट फैसिलिटी, एक समर्पिक मेट्रो स्टेशन, ओलंपिक साइज स्विमिंग पूल और एक स्पोर्ट्स ऐकैडमी बनाई जाएगी।

मोटेरे स्टेडियम है कई ऐतहासिक क्रिकेट रिकॉर्ड्स का गवाह....

अपने तीन दशक लंबे इतिहास के दौरान मोटेरा स्टेडियम भारतीय क्रिकेट के कई ऐतिहासिक पलों का साक्षी रहा है। इसी मैदान पर 1987 में सुनील गावस्कर ने अपना 10000 टेस्ट रन बनाया था, कपिल देव ने 1994 में रिचर्ड हैडली के 431 टेस्ट विकेटों का रिकॉर्ड यहीं तोड़ा था, सचिन तेंदुलकर ने 1999 में इसी मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में अपना पहला दोहरा शतक जड़ा था और भारत ने 2011 वर्ल्ड कप के क्वॉर्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को यहीं मात दी थी।

ग्लोबल डिजाइन फर्म पॉपुलस ने मोटेरा परियोजना पर काम किया और बुनियादी ढांचे को डिजाइन किया है। इसी फर्म ने मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) का निर्माण किया था, ऐतिहासिक लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड के अवसंरचना नवीकरण का काम भी इसी ने किया था, इसके अलावा इसने न्यू टॉटैनहम हॉत्स्पर स्टेडियम, द अलियांज एरीना, वेंबले का नवीकरण समेत दुनिया भर में कई प्रमुख स्टेडियमों के निर्माण कार्य से जुड़ा रहा है।

Harsh Pandey

Harsh Pandey

Next Story