congress

राज्यपाल ने आपातकाल को याद करते हुये कहा कि अगर आपातकाल न होता वे चुनावी राजनीति के क्षेत्र में न होते। आपातकाल के कारण देश का काफी नुकसान हुआ। 25-26 जून, 1975 में देश में आपातकाल घोषित कर दिया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज के सामान्य वातावरण में, भारत जैसे विशाल लोकतंत्र में सबके लिए गौरव करने की बात है कि हमारा मतदाता कितना जागरूक है। अपने से ज्यादा वो अपने देश से कैसे प्यार करता है, ये इस चुनाव में देखने को मिला है। इस बात के लिए देश का मतदाता अभिनंदन का पात्र है।

सुप्रीम कोर्ट ने राज्यसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस को झटका देते हुए मंगलवार को याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता गुजरात प्रदेश कांग्रेस के वकील विवेक तंखा से कहा कि निर्वाचन आयोग के सामने याचिका लगाएं।

दिग्विजय ने कहा कि प्रधानमंत्री में क्या ये परिवर्तन सच में है या सिर्फ एक जुमला ही है। देश में आज सांप्रदायिकता का जहर कूट-कूटकर भर दिया गया है, अब इसे वापस निकालना आसान नहीं है।

विंग कमांडर अभिनंदन की बहादुरी के चलते उनकी मूंछों पर चर्चा अभी तक बंद नहीं हुई है। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने भी उनकी तारीफ करते हुए कई बातें कहीं। उन्होंने अभिनंदन के साहस और शौर्य को देखते हुए उन्हें वीरता का पुरस्कार देने की वकालत की।

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस अब ऐक्शन मोड में आ गई है। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने सभी जिला समितियों को भंग कर दिया है। साथ ही कांग्रेस विधायक अजय कुमार लल्लू को पूर्वी उत्तर प्रदेश के संगठन के फेरबदल का प्रभारी नियुक्त किया गया है।

दरअसल, कांग्रेस नेता ने इंदिरा गांधी और पीएम मोदी की तुलना के संदर्भ में कहा, ''कहां मां गंगा और कहां गंदी नाली।''इस दौरान सदन में बीजेपी सांसदों ने काफी हंगामा किया।

23 जून 1980 की सुबह सबसे पहले यह खबर बीबीसी ने दी थी कि संजय गांधी नहीं रहे। तब यह अफवाह आम थी कि अचानक हुए इस हादसे के पीछे किसी का हाथ है। अफवाहों के इस जंगल में इंदिरा की भूमिका को लेकर भी तमाम तरह के सवाल लोगों के जेहन में घुमड़ रहे थे। सवाल एक था कि संजय की मौत एक दुर्घटना थी या सोची समझी साजिश जिसमें थी किसी खास की भूमिका।

सरकार को आया असंवेदनशीलता का बुखार, इंसानियत हुई शर्मसार! ' खबरों के मुताबिक मुजफ्फरपुर के श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के पीछे मानव कंकाल मिले हैं। इसी अस्पताल में इंसेफेलाइटिस के चलते कई बच्चों की मौत हो चुकी है।

मोदी कैबिनेट में दुबारा मंत्री बनने और अमेठी से सांसद चुने जाने के बाद शनिवार को पहली बार स्मृति ईरानी अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंची। जिले को तीस करोड़ सताइस लाख की सड़कों की सौगात देते हुए उन्होंने तिलोई के मंच से कहा कि अमेठी की जनता ने जाति धर्म की बेड़ियों को तोड़ते हुए मात्र क्षेत्र के विकास के लिए बार वोट दिया।