e-cigarette

बैटरी ऑपरेटेड निकोटिन के सेवन पर प्रतिबंध लगे होने के बाद भी ऑनलाइन ई-सिगरेट सप्लाई करने वाली एक कंपनी का नोएडा में खुलासा हुआ है।

ई-सिगरेट समेत इलेक्ट्रॉनिक निकोटीन डिलीवरी सिस्टम (ईएनडीएस) के तीन हजार से अधिक उपयोगकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे देश में इन उपकरणों को वैध बनाने का अनुरोध किया और कहा कि ये पारंपरिक सिगरेट के लिए अधिक सुरक्षित विकल्प हैं।

सिगरेट को लेकर यह शोधपत्र इंडियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल प्रैक्टिस (आईजेसीपी) में छापा गया है. इस शोध को करने वाले नॉर्थ-ईस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी, शिलांग के प्रोफेसर आर.एन. शरन और उनके ग्रुप ने इस संदर्भ में करीब 299 वैज्ञानिक साहित्य का गहन अध्यन और तुलनात्मक विवेचना की.