Fake doctor

27 वर्षीय पत्नी नीतू को प्रसव के लिए गांव बावसा स्थित निरंकारी परिवार नामक एक झोलाछाप डॉक्टर अनिल कुशवाहा व तुल्शा देवी के क्लीनिक पर प्रसव के लिए लेकर आया तो चिकित्सक ने उसे भर्ती कर लिया और आज रात जब उसे प्रसव पीड़ा हुई तो प्रसव के दौरान चिकित्सक की लापरवाही के चलते नीतू की हालत गंभीर हो गई तो चिकित्सक ने बताया कि नीतू की बच्चेदानी की झिल्ली फट गयी है।

इन झोला छाप डॉक्टरों (वे डॉक्टर जो न तो पंजीकृत हैं और न ही उनके पास उचित डिग्री है) की संस्कृति हमारी स्वास्थ्य प्रणाली के लिये काफी खतरनाक है।

यूपी में मरीजों के इलाज के नाम पर जान के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। ताजा मामला यूपी के आगरा शहर का है। यहां ग्वालियर रोड पर इंटरपास झोलाछाप स्त्री रोग विशेषज्ञ बनकर इलाज कर रहा था।

12वीं पास मानसिंह पिछले पांच महीने से सीकर में तैनात था। इससे पहले उसने 9 साल तक आगरा में क्लीनिक चलाया। डॉक्टर इतना शातिर है कि वह कन्हैया केयर अस्पताल से हर महीने एक लाख रुपये का वेतन भी ले रहा था।

यहां इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां पांच बच्चों की मां के साथ सामूहिक दुष्कर्म को अंजाम दिया गया। उसके बाद आरोपी तमंचा दिखाकर वहां से फरार हो गये। पुलिस ने सूचना मिलने के बाद जांच कराने की बात कही है।