lord vishnu

भगवान विष्णु को संसार का पालनहार कहा जाता है। विष्णुपुराण के अनुसार जब दुनिया खतरे में होती है तो बुरी शक्तियों से संसार को बचाने के लिए भगवान विष्णु पृथ्वी पर अवतार लेते हैं। 12 नवम्बर को कार्तिक पूर्णिमा है।

कार्तिक मास का व्रत करने वालों को चाहिए कि वह तपस्वियों के समान व्यवहार करें अर्थात कम बोले, किसी की निंदा या विवाद न करें, मन पर संयम रखें आदि।

जयपुर:पौष मास में शुक्ल पक्ष एकादशी को पुत्रदा एकादशी कहते हैं।माना जाता है कि इस एकादशी के व्रत के समान दूसरा कोई व्रत नहीं है। जिन्हें संतान होने में बाधाएं आती हैं उन्हें पुत्रदा एकादशी का व्रत जरूर रखना चाहिए। इस उपवास को रखने से संतान संबंधी हर चिंता और समस्या का निवारण हो जाता …

जयपुर: शास्त्रों में एकादशी का बड़ा महत्व है इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा कर उन्हें प्रसन्न किया जाता है। दिवाली से पहले कार्त‌िक कृष्‍ण एकादशी का बड़ा महत्व है क्योंकि यह चतुर्मास की अंत‌िम एकदशी है। भगवान व‌िष्‍णु की पत्नी देवी लक्ष्मी ज‌िनका एक नाम रमा भी हैं उन्हें यह एकादशी …

जयपुर: भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष, रविवार 23 सितंबर को अनन्त चतुर्दशी है। अनंत, जिसका न आदि का पता है और न ही अंत का अर्थात श्री हरि। इस व्रत में स्नानादि करने के पश्चात अक्षत, दूर्वा, शुद्ध रेशम या कपास के सूत से बने और हल्दी से रंगे हुई चौदह गांठ के अनंत को सामने …

जयपुर:ओणम का त्योहार केरल में मनाया जाता है। यह केरल का प्रमुख त्योहार है। इस महीने 25 अगस्त को ओणम मनाया जाएगा। राजा महाबली के स्वागत में हर साल ओणम त्योहार को मनाया जाता है। दस दिनों तक चलने वाले इस त्योहार में राजा महाबली के स्वागत में प्रत्येक घर को फूलों और सुंदर रंगोली …

सहारनपुर: बुध ग्रह को ग्रहों में राजकुमार की उपाधि दी गई है। बुध ग्रह को भगवान विष्णु का प्रतिनिधि कहा जा सकता है। इसीलिए धन, वैभव आदि का संबंध बुध से है। बुध की दिशा उत्तर है तथा उत्तर दिशा कुबेर का स्थान भी है। बुध से जु़डा सर्वाधिक महत्वपूर्ण गुण धर्म है। अनुकूलनशीलता हर …

जयपुर:हिंदू धर्म में पौराणिक और प्राचीन ग्रंथों का विशेष महत्व है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस पूरे कार्तिक मास में व्रत व तप का विशेष महत्व है। उसके अनुसार, जो मनुष्य कार्तिक मास में व्रत व तप करता है उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। पुराणों में कहा है कि भगवान नारायण ने ब्रह्मा को, ब्रह्मा …

सहारनपुर: श्राद्ध पक्ष चल रहा है और सभी लोग अपने अपने पितृ को तर्पण देने के लिए घर से लेकर विभिन्न तीर्थ स्थलों पर जाकर तर्पण कर रहे हैं। आज हम आपको बता रहे हैं कि भारत में तीन ऐसे स्थान हैं, जहां पर एक बार जाकर तर्पण करने के बाद दिवंगत का श्राद्ध करने …

जयपुर: भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इसी चतुर्दशी के दिन भगवान गणेश की विदाई की जाती है। साथ ही इसी दिन अनंत चतुर्दशी का व्रत भी रखा जाता है और इस दिन अनंत भगवान की पूजा की जाती है।