nitish kumar

कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश में लॉकडाउन किया गया है। इस बीच बिहार में सोमवार को 50 हजार प्रवासी अपने-अपने गांव पहुंच गए। अभ गांव के लोग बाहर से आने वालों को शंका की नजर से देखने लगे हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा एलान किया है। मुख्यमंत्री नीतीश ने दूसरे राज्यों से बिहार आ रहे प्रवासी मजदूरों के रहने के लिए कैंप बनाने के निर्देश दिए हैं।

कोरोना वायरस संकट के बीच केंद्र सरकार और राज्य सरकारें अपने सिरे से हरसंभव मदद के लिए तैयार हैं। कोई सरकार कड़े कदम उठा रही है तो कोई बड़े कदम। इस बीच बिहार सरकार ने अपने राज्य में कोरोना से मरने वालों के परिवारीजनों को...

कोरोना वायरस से इन दिनों पूरी दुनिया में खौफ का माहौल है। इस खतरनाक वायरस से अभी तक 7 हजार से ज्यादा लोगों की जान चली गई है। भारत में भी इस वायरस से 150 लोग संक्रमित हो चुकी हैं। इसी क्रम में बिहार सरकार ने कोरोना वायरस को लेकर कई एहतियाती कदम उठाए हैं। इसके साथ ही सरकार ने राज्य के कई मंदिरों को 31 मार्च तक बंद कर दिया है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर सोमवार को कहा कि इससे हमें भयभीत होने की जरुरत नहीं है बल्कि इसको लेकर सजग रहें। अभी तक बिहार में एक भी मरीज कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं मिला है।

इसी साल के अंत में बिहार में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं और मुख्यमंत्री पद के लिए बिहार के सभी नेताओं ने तैयारी अभी से शुरू कर दी है। लेकिन अब बिहार की राजनीति में एक नया अध्याय जुड़ने वाला है।

पार्टी के एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान नवादा से जेडीयू विधायक कौशल यादव सम्मेलन के दौरान अपने ही कार्यकर्ताओं से पैर दबवाते दिखे।

बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने रविवार को जेडीयू कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि..