water

बुन्देलखण्ड हमेशा से किसानों की आत्महत्या, सूखा, पलायन और पेयजल संकट के लिए जाना जाता रहा है। इन समस्यायों में सबसे अहम है पेयजल समस्या, जिसे अगर समय रहते दूर किया जाए तो हर समस्या का अंत किया जा सकता है। यहां जल ही जीवन जैसी लोकोक्ति चरितार्थ होती है। गौरतलब है कि बुन्देलखण्ड के चित्रकूट जिले का पाठा इलाका पेयजल संकट से हमेशा परेशान रहता है।

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में बारिश के पानी के बीच एक स्कूल में 350 बच्चे और 50 शिक्षक फंस गए हैं। राणा प्रताप डैम से पानी छोड़े जाने के बाद नदियों में पानी का उफान है।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य सरकार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की पहल पर चलाये जा रहे जल शक्ति अभियान की सफलता के लिए कार्य कर रही है। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में जल शक्ति विभाग का गठन किया गया है। ऐसा करने वाला उत्तर प्रदेश पहला राज्य है।

पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने से काफी बौखलाया हुआ है। इस मामले में उनसे तमाम देशों से मदद की गुहार भी लगाई थी लेकिन चीन के अलावा किसी भी देश ने उसका साथ नहीं दिया।

भारत में एक ऐसा शहर बसता है जहां आज लोगों को प्लास्टिक की बोतलों में नहीं बल्कि तांबे के लोटे में पानी मिल रहा है। ये शहर कोई और नहीं बल्कि मध्य प्रदेश की व्यावसायिक नगरी इंदौर है।

लखनऊ: भाईसाहब, हम एक ऐसे देश में रह रहे हैं जहां पर हम लोग इंटिमेट होने पर कभी खुलकर बात नहीं करते लेकिन यहां आबादी लगातार बढ़ती जा रही है। यह भी पढ़ें: हनीमून मनाना हो या फिर गर्लफ्रेंड के साथ मस्ती, ये शहर देगा फुल्टू मजा यही नहीं, हम एजुकेशन सिस्टम में भी ‘सेक्स एजुकेशन’ …

वैसे तो स्वस्थ रहने लिए कब खाएं, कैसे खाएं ये बताने के लिए टीवी पेपर वाले तैयार रहते हैं, लेकिन कब पीएं कैसे पीए कोई नहीं बताता।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अगर केंद्र सरकार मदद करे तो अगले दो साल में हम हर गांव और हर घर तक पाइप लाइन के जरिए पानी पहुंचा देंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के लिए पेयजल की समस्या से जूझ रहे प्रदेश के इलाकों को 4 भागों में बांटा गया है। पहले चरण में बुन्देलखंड के जिले, दूसरे चरण में विंध्याचल के जिले, तीसरे चरण में जेई और एईएस से प्रभावित पूर्वांचल के जिले और चौथे चरण के तहत गंगा और यमुना बेसिन के आर्सेनिक और फ्लोराइड प्रभावित जिलों को चुना गया है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कुछ ऐसा करने जा रही है जो अब तक किसी सरकार ने नहीं किया। न तो पिछली सरकारें इन नदियों को जानती थीं और न ही इन पौरोणिक काल की नदियों की कभी सुध ली। योगी सरकार ऐसी 15 नदियों केा फिर से जीवन देगी जो पानी के अभाव में दम तोड चुकी है।