बरसाने में शुरु हुई होली की धूम, कुछ ऐसा होगा यहां का नजारा

इस बार रंगों का त्योहार यानि होली 10 मार्च को मनाई जाएगी। लेकिन हर बार की तरह ब्रज में होली की धूम 7 दिन पहले से ही शुरू हो चुकी है। ब्रज में आज यानि 3 मार्च को लड्डू फेक होली खेली जाएगी।

Published by Shreya Published: March 3, 2020 | 12:02 pm
Modified: March 3, 2020 | 12:03 pm
बरसाने में शुरु हुई होली की धूम, कुछ ऐसा होगा यहां का नजारा

बरसाने में शुरु हुई होली की धूम, कुछ ऐसा होगा यहां का नजारा

लखनऊ: इस बार रंगों का त्योहार यानि होली 10 मार्च को मनाई जाएगी। लेकिन हर बार की तरह ब्रज में होली की धूम 7 दिन पहले से ही शुरू हो चुकी है। ब्रज में आज यानि 3 मार्च को लड्डू फेक होली खेली जाएगी। गोकुल, वृंदावन और मथुरा में होली महोत्सव की खासा धूम देखने को मिलती है। यहां पर लड्डू फेक होली, फूल वाली होली और छड़ी वाली होली मनाई जाती है। इसके बाद बरसाने और नंदगांव में लठमार होली की धूम देखने को मिलती है। यहां की होली दुनियाभर में फेमस है और इस होली में शामिल होने के लिए दुनियाभर से श्रद्धालु आते हैं।

आज बरसाने में खेली जाएगी लड्‌डू होली

आज बरसाने में लड्डू होली खेली जाएगी। इसकी शुरुआत लाडली मंदिर से होती है। यहां होली में शामिल होने के लिए देश-विदेश से भक्त आते हैं और आज के दिन एक दूसरे पर लड्डू और अबीर-गुलाल उड़ा कर होली का पर्व मनाते हैं। लोगों की मान्यता है कि लड्डू होली खेलने की परंपरा श्रीकृष्ण के बालपन से जुड़ी हुई है।

यह भी पढ़ें: रील ही नहीं रियल लाइफ में भी श्रद्धा को था इस एक्टर से प्यार, जानें क्यों नहीं बनी बात

लड्‌डू होली के पीछे क्या है मान्यता?

ऐसा माना जाता है कि जब भगवान श्रीकृष्ण और नंद गांव के सखाओं ने बरसाना में होली खेलने का न्योता स्वीकार कर लिया था, तब वहां सबसे पहले लड्डू की होली खेली गई थी। जिसके बाद से ये परंपरा चली आ रही है। परंपरा के अनुसार राधा-कृष्ण के भक्त पहले राधा रानी मंदिर के पुजारियों पर लड्डू फेंकते हैं और उसके बाद एक दूसरे पर लड्‌डुओं को फेंकते हैं। साथ ही एक-दूसरे पर गुलाल उड़ाते हैं।

4 और 5 मार्च को खेली जाएगी लठमार होली

उसके बाद 4 और 5 मार्च को लठमार होली खेली जाएगी। 4 मार्च को बरसाने में और 5 मार्च को नंदगांव में लठमार होली खेली जाएगी। इस होली के पीछे मान्यता ये है कि नंदगांव से सखा बरसाने आते हैं और वहां की गोपियां उन पर लाठियां बरसाती है। तब से ही इस होली की परंपरा चली आ रही है। इस होली को बरसाना के अलावा मथुरा, वृंदावन, नंदगांव में खेला जाता है। लेकिन इस होली में अपने गांव वालों पर लाठियां नहीं चलाई जाती बल्कि दूसरे गांव से आए लोगों पर लाठियां बरसाई जाती हैं।

यह भी पढ़ें: निर्भया केस: खत्म हुए दोषियों के पैंतरे, अब नहीं टलेगी फांसी

कौन से दिन कौन-सी होली

3 मार्च को बरसाने में लड्डू की होली

4 और 5 मार्च को बरसाने और नंदगांव में लठमार होली

6 मार्च को वृंदावन में फूलों की होली

7 मार्च को गोकुल की छड़ीमार होली

8 से 10 मार्च तक रंगों की होली

यह भी पढ़ें: अब नहीं चला सकेंगे मारुति की सबसे ज्यादा बिकने वाली कार, ये है वजह…