Top

अखिलेश ने दिया योगी सरकार को सुझाव, यूपी कर्मचारियों से कराएं इतना काम

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार को सुझाव दिया है कि यूपी में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही...

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 12 July 2020 2:58 PM GMT

अखिलेश ने दिया योगी सरकार को सुझाव, यूपी कर्मचारियों से कराएं इतना काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार को सुझाव दिया है कि यूपी में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है इसलिए सरकार को अधिकारियों और कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सप्ताह में चार दिन ही उन्हें कार्यालय में बुलाना चाहिए। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि कोरोना के हल्के लक्षण के मरीजों को घर पर ही क्वारंटीन होने देने की अनुमति देनी चाहिए जिससे अस्पतालों में गम्भीर मरीजों के लिए बेड कम न पड़े और इलाज में भी दिक्कत न हो।

ये भी पढ़ें: बच्चन परिवार आया इन लोगों के संपर्क में, अब तक 28 की हुई कोरोना जांच

लापरवाही की शिकायतें आम

सपा अध्यक्ष ने रविवार कोे कहा कि अस्पतालों में कोरोना के नाम पर इन दिनों गम्भीर मरीजों को भी काफी परेशान किया जाता है। बाराबंकी के जिला महिला अस्पताल के मैटर्निटी वार्ड में कोविड ओटी, कोविड वार्ड, कोविड प्रसव कक्ष सब में सीलन और दूसरी निर्माण सम्बंधी खामियां मिली जबकि 100 बेड के इस अस्पताल के निर्माण पर 20 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ के नामी किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में भी मरीजों को व्यर्थ घंटों इंतजार कराने और इलाज में लापरवाही की शिकायतें आम है।

ये भी पढ़ें: दूसरी ‘विकास दुबे गैंग’ यहां हो रही तैयार, पुलिस-नेताओं का खुलेआम मिल रहा संरक्षण

गम्भीर मरीजों के प्रति रहनी चाहिए सरकार की संवेदना

सीतापुर के अयोध्या के पैर में फ्रैक्चर था पर कोरोना जांच के नाम पर उसका घंटो इलाज नहीं हुआ। रायबरेली के सुमित को 19 घंटे इलाज के लिए तड़पना पड़ा। अखिलेश ने कहा कि कोरोना संकट तो है ही पर अस्पतालों में इसकी वजह से अन्य गम्भीर मरीजों का इलाज न हो यह उचित नहीं। स्वास्थ्य विभाग को इस सम्बंध में मरीजों के लिए सुविधाजनक व्यवस्थाएं करनी चाहिए। गम्भीर मरीजों के प्रति भी सरकार की संवेदना रहनी चाहिए।

ये भी पढ़ें: लाखों जिंदगियां खतरे में: हर तरफ दिख रहा संकट, जनजीवन पूरी तरह तबाह

यूपी में स्वास्थ्य सेवाएं सपा सरकार की देन

सपा मुखिया ने कहा कि प्रदेश में भाजपा राज में एक नया मेडिकल काॅलेज नहीं बना। यूपी में जो भी स्वास्थ्य सेवाएं हैं वे सपा सरकार की ही व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में डाक्टरों, पैरा मेडिकल स्टाफ की कमी है। सपा सरकार में मुफ्त इलाज की व्यवस्था गम्भीर रोगों किडनी, दिल, लीवर और कैंसर की भी थी लखनऊ में कैंसर अस्पताल भी तभी बना। प्रदेश में एमबीबीएस की सीटें दुगनी की गईं। मरीजों को अस्पताल लाने के लिए 108 समाजवादी एम्बुलेंस सेवा शुरू की गई थी। गर्भवती महिलाओं को अस्पताल लाने के लिए 102 नम्बर सेवा शुरू की गई थी। इन सब सेवाओं को भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया। जनता की परेशानी से भाजपा सरकार का कुछ लेना देना नहीं।

ये भी पढ़ें: इस एक्टर को हुआ कोरोना: सेट पर मचा हड़कंप, रोकी गयी शूटिंग

Newstrack

Newstrack

Next Story