मुख्तार पर योगी का डंडा: 48 करोड़ की सालाना कमाई बंद, बुरा फँसा ये माफिया

प्रदेश की योगी सरकार ने माफिया गिरोहों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। सरकार की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद पुलिस ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी और उसके गिरोह के आर्थिक साम्राज्य पर गहरी चोट की है।

Published by Vidushi Mishra Published: September 12, 2020 | 11:51 am
Bahubali MLA Mukhtar Ansari

फोटो-सोशल मीडिया

लखनऊ। प्रदेश की योगी सरकार ने माफिया गिरोहों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। सरकार की ओर से हरी झंडी मिलने के बाद पुलिस ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी और उसके गिरोह के आर्थिक साम्राज्य पर गहरी चोट की है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक अब तक की गई कार्रवाई में मुख्तार गिरोह की सालाना 48 करोड़ रुपए की कमाई बंद की जा चुकी है। मुख्तार गिरोह के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई अभी भी जारी है और पूर्वांचल में मुख्तार के गुर्गों पर पुलिस का शिकंजा लगातार करता जा रहा है।

ये भी पढ़ें… भूकंप से हिली मीनारें: ताबड़तोड़ झटकों से कांप उठा देश, प्रलय के संकेत

गिरोह के अवैध धंधों पर लगी रोक

पुलिस ने वाराणसी के अंतर्गत आने वाले विभिन्न जिलों में मुख्तार गिरोह के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। पुलिस की ओर से की गई कार्रवाई में प्रतिबंधित मछली कारोबार, गिरोह बनाकर वसूली, कोयला कारोबार, बूचड़खाना और स्टोरेज सहित अन्य अवैध धंधों पर रोक लगा दी गई है।

सूत्रों का कहना है कि मछली कारोबार से ही मुख्तार गिरोह साल भर में करीब 33 करोड रुपए की कमाई कर रहा था। बाकी कमाई अन्य अवैध धंधों से की जा रही थी। मुख्तार का पूरा गिरोह इन अवैध धंधों के संचालन में जुटा हुआ था।

Mukhtar Ansari
फोटो-सोशल मीडिया

ये भी पढ़ें…दुनियाभर में जारी है कोरोना वायरस का कहर, अब तक 28,331,121 लोग संक्रमित

अवैध कब्जे से मुक्त हुई 120 करोड़ की जमीन

पुलिस सूत्रों का कहना है कि गाजीपुर, मऊ, आजमगढ़ जिलों में मुख्तार गिरोह के कब्जे से काफी जमीन मुक्त कराई गई है। सूत्रों के मुताबिक करीब 120 करोड़ रुपए की संपत्ति गिरोह के अवैध कब्जे से मुक्त कराई गई है। वाराणसी के अलावा मऊ, आजमगढ़, गाजीपुर व जोन के अन्य जिलों गिरोह का अवैध धंधा संभालने वालों की गिरफ्तारी भी की गई है।

ये सभी लोग मुख्तार गिरोह के सक्रिय सदस्य हैं और उसके अवैध काम करने में जुटे हुए थे। अभी तक ऐसे 100 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है और इनमें से 78 बदमाशों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दायर किया गया है।

अब सरकारी ठेका नहीं ले पाएगा गिरोह

Mukhtar Ansari
फोटो-सोशल मीडिया

सरकारी ठेके लेने वाले मुख्तार के करीबियों पर भी शिकंजा कस दिया गया है। मुख्तार गिरोह से जुड़े लोग सरकारी ठेके बड़ी आसानी से हासिल कर लिया करते थे। इन ठेकेदारों के काम की गुणवत्ता बेहद खराब होने के बावजूद उनके खिलाफ कार्रवाई करने से अफसर डरते थे।

ये भी पढ़ें…सुसाइड वीडियो: कपल ने की आत्महत्या, मोबाइल में रिकॉर्ड करते रहे ये सब..

ऐसे 8 ठेकेदारों को चिन्हित किया गया है और उनका चरित्र प्रमाण पत्र रद्द करा दिया गया है। इस कदम को उठाए जाने के बाद अब ये लोग कोई भी सरकारी ठेका नहीं ले पाएंगे।

81 असलहों का लाइसेंस निरस्त

मुख्तार गिरोह के पास मौजूद असलहों को लेकर भी कार्रवाई शुरू कर दी गई है। मुख्तार के कई करीबियों ने अपने खिलाफ दर्ज मुकदमों को छुपाकर असलहों का लाइसेंस हासिल कर रखा था। पुलिस कार्रवाई में अभी तक ऐसे 81 असलहों के लाइसेंस रद्द कराए गए हैं। इस मामले में दोषियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया है।

ये भी पढ़ें…देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 97,570 नए केस मिले, 1,201 मरीजों की मौत

आगे भी जारी रहेगी कार्रवाई

वाराणसी जोन के एडीजी बृजभूषण का कहना है कि मुख्तार व उसके करीबियों के खिलाफ शिकंजा कस दिया गया है और पुलिस काफी तेजी से इस गिरोह के खिलाफ कार्रवाई करने में जुटी हुई है।

इस गिरोह की 48 करोड़ रुपए की सालाना आय बंद करने के साथ ही 120 करोड़ की संपत्ति इस गिरोह के कब्जे से मुक्त कराई की गई है। उन्होंने कहा कि अवैध कारोबार करने वाले गिरोह के सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई का दौर जारी है। पुलिस इस गिरोह के खिलाफ जांच पड़ताल में जुटी हुई है और अभी पुलिस की ओर से और कार्रवाई भी की जाएगी।

ये भी पढ़ें…वैक्सीन का अभी और इंतजार: नए ट्रायल पर मनाही, सामने आई ये वजह

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App