एक और नटवरलाल एसटीएफ की गिरफ्त में, 500 करोड़ की ठगी का है आरोप

लखनऊ के गोमतीनगर इलाके से हेलो राइड कंपनी के निदेशक व अभय के सगे छोटे भाई निखिल कुशवाहा को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है।

नई दिल्ली: लखनऊ के गोमतीनगर इलाके से हेलो राइड कंपनी के निदेशक व अभय के सगे छोटे भाई निखिल कुशवाहा को एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है।

एसटीएफ की पूछताछ में उन्होंने बताया कि बाइक किराए पर लगाने का झांसा देकर 500 करोड़ रुपये से अधिक ठगकर भागी हेलो राइड कंपनी का चेयरमैन अभय कुशवाहा इस वक्त सऊदी अरब में है।

एसटीएफ की पूछताछ में सच आया सामने…

एसटीएफ की पूछताछ में फरार अभय समेत कंपनी के अन्य अधिकारियों-कर्मचारियों के बारे में जानकारी दी। विभूतिखंड पुलिस उसे रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है।

यह भी पढ़ें- सनी से ऐसा सवाल! तो इस शख्स को देना पड़ा इनको गोल-गोल जवाब

एसटीएफ ने बताया…

एसटीएफ के एसएसपी राजीव नारायण मिश्र ने बताया कि निखिल कुशवाहा मूलरूप से कौशांबी का है और यहां जानकीपुरम में 60 फिटा रोड स्थित जानकीविहार में रह रहा था।

वह बड़े भाई अभय कुशवाहा की कंपनी हेलो राइड में निदेशक के पद पर था। कंपनी का ऑफिस विभूतिखंड के साइबर हाइट्स टॉवर में था।

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अभय और निखिल ने बाइक किराए पर चलाने का झांसा देकर प्रदेश के विभिन्न जनपद के लोगों से 500 करोड़ रुपये से अधिक रकम बटोरी और भाग गए।

 यह भी पढ़ें-  सलमान अकेले में करते थे ये! गम था इस बात का, वजह थी ये हीरोइन

हजारों पीड़ित, कईयों के साथ धोखा…

इस मामले में हजारों पीड़ितों ने अभय, निखिल कुशवाहा, नीलम वर्मा, राजेश पांडेय, राम जनम मौर्या, आजम सिद्दीकी, शकील अहमद खान समेत अन्य लोगों के खिलाफ विभिन्न थानों में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

इसके बाद विभूतिखंड पुलिस ने 12 मार्च 2019 की शाम शातिर अभय को गिरफ्तार करके जेल भेजा। हालांकि, दो महीने बाद जमानत पर बाहर आया और कुछ दिन बाद जनता का सारा रुपया बटोरकर सऊदी चला गया। पुलिस अभय के सऊदी में होने की पड़ताल कर रही है।

 यह भी पढ़ें- वाह! कुछ ऐसा है ताज होटल, इतने रूपये में मिलेगा एक वेज थाली

यह है पूरा मामला….

हेलो राइड कंपनी के चेयरमैन अभय कुशवाहा ने नौ जुलाई 2018 को इंदिरागांधी प्रतिष्ठान में कंपनी की शुरुआत की थी। विभूतिखंड के साइबर हाइट्स टॉवर और नोएडा में ऑफिस खोलकर एक बाइक का 61 हजार रुपया कंपनी में जमा करने पर हर महीने 9585 रुपये देने की योजना शुरू की। अभय कुशवाहा ने इस योजना से उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में लोगों से करोड़ों रुपये जुटाए और ऑफिस बंद करके भाग गया।

 यह भी पढ़ें- बहुत महंगी ये हिरोईन! सलमान और शाहरुख भी नहीं टिकते इनके आगे

इस नाम की कंपनी बनाकर किया फ्राड…

एसटीएफ के एएसपी विशाल विक्रम सिंह इस मसले पर जानकारी देते हुए बताया कि धोखाधड़ी के सैकड़ों मुकदमों में वांछित शातिर निखिल कुशवाहा लखनऊ में चोरी-छिपे ओजोन इनफिनिटी वर्ल्ड एग्रो नाम से दूसरी कंपनी बनाकर डेली डिपॉजिट स्कीम चला रहा था।