यूपी: मंत्रिमंडल विस्तार उपचुनाव व संगठन में फेरबदल की चुनौती

अब भाजपा हाईकमान की नजर अब यूपी में है। कुछ मंत्रियों की कारगुजारियों, 13 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशियों के चयन तथा प्रदेश कार्यकारिणी के गठन को लेकर इन दिनों मंथन चल रहा है।

Published by Roshni Khan Published: August 17, 2019 | 12:51 pm
Modified: August 17, 2019 | 1:11 pm

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: अब भाजपा हाईकमान की नजर अब यूपी में है। कुछ मंत्रियों की कारगुजारियों, 13 विधानसभा सीटों के उपचुनाव में प्रत्याशियों के चयन तथा प्रदेश कार्यकारिणी के गठन को लेकर इन दिनों मंथन चल रहा है। कहा जा रहा है कि जल्द ही सरकार से लेकर संगठन तक बदलाव दिखाई पड़ेगा। कई राउंड की बैठके हो चुकी हैं जबकि अभी कई और बैठके होनी हैं।

ये भी देखें:भूटान पहुंचे पीएम मोदी, एयरपोर्ट पर मिला गार्ड ऑफ ऑनर

इस सबको लेकर सत्ता के गलियारों में कयासबाजी का दौर चल रहा है। लेकिन इतना तो है कि मंत्रिमंडल विस्तार राजनीतिक दृष्टि से गुणाभाग लगाकर ही किया जाएगा। इसके अलावा कई ऐसे विधायकों को मौका दिया जाएगा जिन्होंने दो से अधिक बार चुनाव जीता है लेकिन अबतक उन्हे उचित सम्मान नहीं मिल सका है। खास बात यह है कि मंत्रिमडल विस्तार के समय इस बात पर गौर किया जाएगा कि सांगठनिक तौर पर बंटे छह क्षेत्रों में जीत हार के प्रदर्शन पर ही मंत्रियों का आकलन किया जाएगा।

योगी सरकार में ओमप्रकाश राजभर को बर्खास्त किया गया

लोकसभा चुनाव के बाद योगी सरकार में ओमप्रकाश राजभर को बर्खास्त किया गया जिसके बाद से मंत्रिमण्डल में फेरबदल की बात कही जा रही है। वहीं दूसरी तरफ प्रदेश के नवनियुक्त अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह को भी अपनी नई टीम का गठन करना है। प्रदेश में इन दिनों सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है। 20 अगस्त तक सदस्यता अभियान चलने के बाद फिर सितम्बर महीने में संगठन के चुनाव होने है।

ये भी देखें:क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो के आगे फेल हो गया था अमेरिका

46 सदस्यीय मंत्रिमंडल बचे है

वहीं सरकार में मुख्यमंत्री समेत 47 सदस्यीय मंत्रिमंडल में राजभर को बाहर किए जाने के बाद अब 46 मंत्री हैं। मुख्यमंत्री अपने मंत्रिमंडल की संख्या 60 तक रख सकते हैं। चुनाव लड़ रहे चार मंत्रियों में तीन मंत्री डा रीता बहुगुणा जोशी एसपी सिंह बघेल और सत्यदेव पचौरी सांसद बन चुके है। भाजपा को जिन 16 सीटों पर हार झेलनी पड़ी है। उनमे 7 सीटे पश्चिमी उत्तर प्रदेश की हैं। इस लिहाज से बुंदेलखंड के नेताओं ने अपने परिश्रम से ज्यादा अच्छा प्रदर्शन किया है। उससे जुड़े कानपुर क्षेत्र का भी प्रदर्शन ठीक ठाक रहा है। सांगठनिक तौर पर बंटे अवध क्षेत्र में पार्टी का प्रदर्शन सबसे बेहतर रहा। रायबरेली सीट भले ही उसके हाथ से फिसल गई हो पर अमेठी सीट जीतकर पार्टी ने बड़ा करिश्मा किया है।

पिछले लोकसभा चुनाव में पश्चिमी यूपी में भाजपा अपने वेहतर प्रदर्शन को दोहरा नही पाई। 14 सीटों में से 7 सीट ही उसके खाते में आई है। इसलिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश किसी मंत्री के कद की बढ़ोतरी की संभावना कम है। भाजपा यहां से मुरादाबाद, संभल बिजनौर मैगजीन अमरोहा रामपुर और सहारनपुर की सीटें गंवा चुकी है। पर गाजियाबाद, मेरठ, बागपत, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, कैराना और मुजफ्फर नगर की सीट फिर से अपनी झोली में डाल चुकी है।

ये भी देखें:World News : सरकारी सुविधा लेने वालों को नहीं मिलेगी अमेरिकी नागरिकता

18 सीटों में से 15 सीटे पर भाजपा की जीत 

अवध क्षेत्र में 18 सीटों में से 15 सीटे जीतने वाली भाजपा केवल अम्बेडकर नगर और श्रावस्ती सीट ही हारी है। मोहनलालगंज, उन्नाव, सीतापुर, हरदोई, सुल्तानपुर, धौरहरा, खीरी, मिश्रिख, बाराबंकी, बहराइच, फैजाबाद, गोंडा, कैसरगंज में भाजपा को सफलता मिली है। इसी तरह कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र से भाजपा सभी 10 सीटे जीत गई है। पहली बार उसने कन्नौज सीट जीती। इसके अलावा कानपुर, अकबरपुर, हमीरपुर, फतेहपुर, फर्रूखाबाद इटावा, झांसी, जालौन, बाँदा जीती।

जबकि गोरखपुर क्षेत्र में 13 सीटों मे से 10 सीटे भाजपा ने जीती हैं। हांलाकि पहले इसके पास 12 सीट थी। इस बार भाजपा लालगंज, और घोसी सीट चुनाव हार गई। भाजपा ने इस चुनाव में देवरिया, गोरखपुर, बांसगांव, कुशीनगर, महराजगंज, बस्ती, डुमरियागंज, संत कबीरनगर ,बलिया और सलेमपुर सीट जीती है।

जबकि काशी क्षेत्र की 12 सीटों में सहयोगी अपना दल में रॉबर्ट्सगंज और मिर्जापुर तथा भाजपा ने वाराणसी, चंदौली, प्रतापगढ़, कौशाम्बी इलाहाबाद, फूलपुर, मछलीशहर और भदोही में जीत का परचम लहराया है।

ये भी देखें:केन्या के सेक्स टूरिज्म में फंसती एशियाई लड़कियां

अगर इन सभी क्षेत्रों का तुलनात्मक अध्ययन किया जाए तो पार्टी का सबसे बेहतर प्रदर्शन कानपुर बुंदेलखंड क्षेत्र में रह है जहां उसने 10 में से 10 सीटे जीती हैं।

कुछ मंत्रियों का होगा प्रमोशन

कुछ मंत्रियों का प्रमोशन किया जा सकता है। जिनमे सतीश महाना स्वतंत्र देव सिंह, महेंद्र सिंह, भूपेंद्र चौधरी और सुरेश राणा समेत धर्म सिंह सैनी, मोहसिन रजा और अनिल राजभर का भी प्रमोशन हो सकता है।

योगी मंत्रिमंडल में 12 नए मंत्रियों को जगह दी जा सकती है। बताया जा रहा है कि पंकज सिंह भी नए मंत्री बन सकते हैं। जबकि अन्य लोगों में करन सिंह पटेल कृष्णा पासवान रामचन्द्र यादव सत्यप्रकाश अग्रवाल डेरी वाले विक्रमाजीत मौर्य का नाम चर्चा में है। इनके अलावा भाजपा के विधानपरिषद सदस्य और संगठन में महती भूमिका निभाने वाले विजय बहादुर पाठक राकेश कटारिया और विद्यसगार सोनकर को भी मंत्रिमंण्डल विस्तार में स्थान मिल सकता है।