कोरोना से निपटने की तैयारियों पर सीएम योगी खफा, डीएम-सीएमओ की लगाई क्लास

प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार बैठकें कर रहे हैं। इसी सिलसिले में सोमवार को उन्होंने नोएडा के अधिकारियों के साथ बैठक कर किये जा रहे उपायों पर चर्चा की।

Published by Aditya Mishra Published: March 30, 2020 | 5:07 pm
Modified: March 30, 2020 | 6:09 pm

लखनऊ: प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को रोकने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार बैठकें कर रहे हैं। इसी सिलसिले में सोमवार को उन्होंने नोएडा के अधिकारियों के साथ बैठक कर किये जा रहे उपायों पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने कुछ अधिकारियों की क्लास भी लगाई।

समीक्षा बैठक में सीएम योगी ने जिलाधिकारी बीएन सिंह, और मुख्य चिकित्साधिकारी से नाराजगी जताई। जिलाधिकारी से उन्होंने कहा कि विदेश से आये लोगों की प्रॉपर निगरानी होनी चाहिए थी। मुख्यमंत्री ने सीएमओ की कार्यप्रणाली पर भी नाराजगी जताई है। बता दें कि गौतमबुद्ध नगर में कोरोना पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 37 हो गई है।

ये भी पढ़ें…सीएम के दौरे से पहले नोएडा में सख्त फरमान, घर से निकले तो…

अधिकारियों को कड़े कदम उठाने के निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लॉकडाउन के बीच सोमवार दोपहर हेलीकॉप्टर से सीधे ग्रेटर नोएडा के गौतमबुद्ध नगर विश्वविद्यालय पहुंचे। यहाँ से वे ग्रेटर नोएडा कार्यालय पहुंचे।

वहाँ उन्होंने, तीनों प्राधिकरण प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। सबसे अधिक फटकार डीएम बीएन सिंह और सीएमओ अनुराग भार्गव को पड़ी। बैठक के बाद नोएडा प्राधिकरण की सीईओ ऋतु माहेश्वरी ने प्राधिकरण की तरफ से सीएम को मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए का चेक सौंपा।

मुख्यमंत्री ने इस दौरान जिम्स का भी दौरा किया। उन्होंने साफतौर पर स्वास्थ्य विभाग और प्रशासनिक अधिकारियों को वायरस संक्रमण से बढ़ रहे मरीजों की संख्या को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने का आदेश दिया है। साथ ही मुख्यमंत्री ने जनपद में दूसरे प्रदेश के लोगों की हर संभव सहायता किए जाने का निर्देश दिया है।

नोएडा अथॉरिटी के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह गिरफ्तार, जानिए क्या है पूरा मामला 

प्राधिकरण पर फूटा गुस्सा तो सीईओ ने आनन-फानन में सौंपा 51 लाख चेक

सूत्रों के मुताबिक बैठक में मुख्यमंत्री ने तीनों प्राधिकरण के प्रमुखों को काफी खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने फटकार लगाते हुए कहा कि जनपद में हर तरह के साधन मौजूद हैं। जो देश के कई बड़े शहरों के पास नहीं हैं। इसके बावजूद हालात बिगड़ गए। आखिर ऐसे कैसे चलेगा। उन्होंने प्राधिकरण प्रमुखों को हालात सुधारने का निर्देश दिया है।

साथ ही चेतावनी भी दी कि अगर जल्द हालात में सुधार नही होता है तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। बैठक समाप्त होने के थोड़ी देर बाद ही नोएडा प्राधिकरण की सीईओ ने आनन-फानन में सीएम को मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए का चेक सौंप दिया।

 

नोएडा के कुत्ते पहनेंगे I-CARD: सरकार ने किया ये ऐलान, नहीं किया तो लगेगा जुर्माना

मुख्यमंत्री आज गाजियाबाद और मेरठ जाएंगे

मुख्यमंत्री बैठक के बाद सड़क मार्ग से डीएनडी होते हुए दिल्ली चले गए। मुख्यमंत्री ने दिल्ली में स्थित नियंत्रण कक्ष का भी निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री योगी सोमवार रात दिल्ली में ही निवास करेंगे। मंगलवार को वह गाजियाबाद और मेरठ का दौरा करेंगे।

 नोएडा के डीएम ने मांगी 3 महीने की छुट्टी

सोशल मीडिया में एक लेटर तेजी से वायरल हो रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये लेटर खुद नोएडा के डीएम ने लिखा है। जिसमें उन्होंने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए खुद को नोएडा के डीएम पद से हटाने और तीन महीने के अवकाश की मांग की है। इस बाबत उन्होंने शासन को पत्र भी लिखा है।