गांधी परिवार पर ED का बड़ा एक्शन: यूपी- दिल्ली तक हड़कंप, खंगाले जा रहे ये रिकार्ड

यूपी के सभी जिलों में संबंधित ट्रस्ट को आवंटित जमीन की तलाश की जा रही है। इसमें भी खासतौर से कांग्रेसी गढ़ माने जाने वाले अमेठी, सुल्तानपुर व रायबरेली में इस बिंदु पर जांच हो रही है।

Soniya Gandhi And Rahul

सोनिया गांधी और राहुल गांधी की फोटो(सोशल मीडिया)

लखनऊ: कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के साथ इनके बाकी नेता भी नरेद्र मोदी सरकार की नीतियों को लेकर लगातार सवाल उठा रहे हैं। इसी बीच प्रवर्तन निदेशालय की ओर से ऐसा पैना तीर निकला है, जिसके सहारे कांग्रेस को प्रदेश में भी घेरने की जोरदार तैयारी है।

गांधी परिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तगड़ा झटका दिया है। ईडी ने यूपी में राजीव गांधी फाउंडेशन, राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट को आवंटित जमीन की जांच शुरू कर दी है।

यूपी के सभी जिलों में संबंधित ट्रस्ट को आवंटित जमीन की तलाश की जा रही है। इसमें भी खासतौर से कांग्रेसी गढ़ माने जाने वाले अमेठी, सुल्तानपुर व रायबरेली में इस बिंदु पर जांच हो रही है।

गांधी परिवार से जुड़ी सभी ट्रस्टों को आवंटित जमीन की जांच से दिल्ली से लेकर यूपी तक कांग्रेस पार्टी में हड़कंप मचा हुआ है।

यह भी पढ़ें…मुख्यमंत्री को धमकी: हुआ बड़ा खुलासा, इस शख्स ने कही थी मारने की बात, ये है वजह

Ajay lallu
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू(फोटो: सोशल मीडिया)

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जताई अनभिज्ञता

नौबत यहां तक आ पहुंची हैं कि यूपी कांग्रेस के नेताओं को मीडिया के सवालों का जवाब देते नहीं बन रहा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने तो यहां तक कह दिया कि उन्हें इस मामले में कोई जानकारी ही नहीं है।

वे इस मामले में पार्टी के शीर्ष नेताओं से बात करने के बाद इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया दें पाएंगे।
ऐसे में ये सवाल उठ रहा है कि क्या ऐसा भी भला हो सकता है जब कांग्रेस से जुड़ी जमीनों की ईडी ने उत्तर प्रदेश में

जांच शुरू कर दी हो और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष को इसकी सूचना तक हो। या इसे सवालों से बचने का एक तरीका मात्र कहा जा सकता है। वजह चाहे जो भी हो लेकिन कांग्रेस नेता ईडी की जांच से सकपकाए हुए हैं।

उन्हें जवाब देते नहीं बन रहा है। इस मामले में गांधी परिवार का बचाव करने के लिए यूपी कांग्रेस के कुछ बड़े नेता आगे आए हैं।

यह भी पढ़ें…चीन की जाल में फंस गया ये देश, ड्रैगन ने यहां सबकुछ पर कर लिया कब्जा

Pramod Tiwari
कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी की फोटो(सोशल मीडिया)

ट्रस्ट की जमीन की जांच कराना राजनीतिक विद्वेष की कार्रवाई : प्रमोद तिवारी

पूर्व सांसद और केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य प्रमोद तिवारी ने इस पूरे प्रकरण पर कहा कि यह तो राजनीतिक विद्वेष की कार्रवाई है। पीएम नरेंद्र मोदी बड़ी गलतफहमी में हैं। पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को जेल में रखकर भी अंग्रेज कांग्रेस या नेहरू परिवार को झुका नहीं पाए थे। तिवारी ने सवाल उठाया कि क्या अब उसी संस्था या सांसदों की समिति से भाजपा अपनी जांच कराएगी।

मोदी सरकार के पास कांग्रेस के किसी सवाल का कोई उत्तर नहीं: द्विजेंद्रराम त्रिपाठी

वहीं वरिष्ठ नेता व पूर्व प्रदेश महासचिव द्विजेंद्रराम त्रिपाठी ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार के पास कांग्रेस के किसी सवाल का कोई उत्तर नहीं है। राहुल गांधी ने जितने भी प्रश्न उठाए हैं, सरकार पूरी तरह से बैकफुट पर है। खास तौर पर राफेल डील को लेकर सीएजी रिपोर्ट आने के बाद सरकार पूरी तरह से बैकफुट पर आ गई है। अब तो मुद्दों को कैसे डायवर्ट किया जाए, उसकी वजह से यह कवायद चल रही है।

यह भी पढ़ें…NCB के सवालों से डर गई थीं दीपिका, कड़ाई से पूछताछ में किया ये बड़ा खुलासा

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App