सिर्फ बछिया होंगी पैदा! नई तकनीक के बारे में बताया गिरिराज सिंह ने

यही वजह है कि अब केंद्र सरकार इस तकनीक को आगे बढ़ा रही है। इसकी मदद से किसानों को काफी मदद मिलेगी। बछिया पैसा होने से वह किसान को हर तरीके से लाभ देगी। वैसे इस तकनीक को अभी छोटे स्तर पर ही लागू किया गया है। इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का शहर गोरखपुर भी शामिल है।

सिर्फ बछिया होंगी पैदा! नई तकनीक के बारे में बताया गिरिराज सिंह ने

सिर्फ बछिया होंगी पैदा! नई तकनीक के बारे में बताया गिरिराज सिंह ने

मथुरा: उत्तर प्रदेश के मथुरा में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई योजनाओं की शुरुआत की है। इस दौरान पीएम मोदी ने जनता से 2 अक्टूबर अपील की है कि हर घर में सिंगल यूज प्लास्टिक खत्म हो जाए। इसके साथ ही, पीएम मोदी ने पशुओं के आरोग्य से जुड़ी योजना और टीकाकरण की कई परियोजनाओं का भी शुभारंभ किया।

यह भी पढ़ें: पीके मिश्रा बने पीएम मोदी के प्रधान सचिव, पीके सिन्हा प्रमुख सलाहकार

इन सबके बीच केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का बयान आया है, जिसमें उन्होंने कहा कि अब देश में ऐसी टेक्नॉलोजी का इस्तेमाल किया जाएगा, जिससे सिर्फ बछिया ही पैदा होंगी। सिंह ने ये भी कहा कि ऐसा पहली बार हो रहा है, जब इतने बड़े स्तर पर पशुओं का टीकाकरण किया जा रहा हो। उन्होंने ये भी कहा कि पशुपालकों का भी फायदा होगा।

यह भी पढ़ें: आईएसआई ने खुफिया जानकारी जुटाने के लिए नाबालिग को भेजा भारत, गिरफ्तार

इस मामले में गिरिराज सिंह ने कहा कि, ‘किसान के घर बछिया हो तो खुशी होती है, बाछा हो तो किसान दुखी होता है. आज आप (पीएम मोदी) ये टेक्नॉलोजी देश को समर्पित कर रहे हैं, इससे केवल बछिया ही किसानों के घर में पैदा होगी. हमने पशुओं के कल्याण के लिए टेक्नॉलोजी का सहारा लिया है।’

क्या कहती है योजना?

जब पीएम मोदी आज योजनाओं का शिलान्यास कर रहे थे, तब उन्होंने वर्गीकृत वीर्य गर्भाधान योजना (सेक्स सॉर्टेड सीमेन) और कृत्रिम गर्भाधान योजनाओं का शिलान्यास भी किया। अब इनके जरिये सिर्फ बछिया पैदा होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में इससे किसानों को काफी लाभ होगा।

यह भी पढ़ें: RSS की कार से दुर्घटना! मासूम बच्चे की हुई दर्दनाक मौत

यही वजह है कि अब केंद्र सरकार इस तकनीक को आगे बढ़ा रही है। इसकी मदद से किसानों को काफी मदद मिलेगी। बछिया पैसा होने से वह किसान को हर तरीके से लाभ देगी। वैसे इस तकनीक को अभी छोटे स्तर पर ही लागू किया गया है। इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का शहर गोरखपुर भी शामिल है।