Top

जनता कर्फ्यू के लिए सब तैयार, सरकार ने मांगी धर्म गुरुओं से मदद

जनता कर्फ्यू को लेकर उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिलें में भी तैयारियां पूरी हैं। यहां डीएम ने धर्म गुरुओं के साथ बैठक कर लोगों से मदद मांगी

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 21 March 2020 6:08 AM GMT

जनता कर्फ्यू के लिए सब तैयार, सरकार ने मांगी धर्म गुरुओं से मदद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कन्नौज: जनता कर्फ्यू को लेकर भारतवासी तैयार हैं। इसे लेकर उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिलें में भी तैयारियां पूरी हैं। यहां डीएम ने धर्म गुरुओं के साथ बैठक कर लोगों से मदद मांगी। कोरोना वॉयरस से निपटने के लिए हम सब को मिलकर लड़ना होगा। सावधानियां बरतने से कोरोना से अपनी, परिवार और समाज की भी सुरक्षा की जा सकती है। इस वॉयरस का प्रकोप करीब दो से तीन सप्ताह तक रहने की आंशका है। तापमान 28 डिग्री से ऊपर बढ़ने पर ही इसके खुद समाप्त होने की संभावना है। यह बात डीएम राकेश मिश्र ने कही।

जनता कर्फ्यू के लिए सब तैयार, डीएम ने धर्म गुरुओं से मांगी मदद

शुक्रवार को शाम कलक्ट्रेट सभागार में डीएम पुजारियों तथा मौलानाओं की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से किए गए 22 मार्च को जनता कर्फ्यू को सुबह सात से रात नौ बजे तक सफल बनाने के लिए घर में रहने को कहा। इससे वॉयरस पर रोक लग सकेगी। डीएम ने कहा कि मंदिरों व मस्जिदों में भीड़ एकत्र न हो। वायरस बड़ी तेजी से फैलता है। यदि कोई व्यक्ति यह सोचता है कि यह वायरस प्रभावित नही कर सकता तो जिंदगी के साथ खिलवाड़ होगा।

ये भी पढ़ें: मजदूरों के लिए खुशखबरी: सीएम योगी का बड़ा एलान, तुरंत मिलेंगे 1 हजार रुपये

डीएम बोले, तापमान बढ़ने पर ही खुद समाप्त होने की संभावना, बचाव ही इलाज

डीएम ने कहा कि यह वॉयरस अपने देश से नहीं बल्कि विदेशों से आने वाले व्यक्तियों की वजह से फैल रहा है। इसका इलाज नही है, बचाव ही इसका इलाज है। एसपी अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने भी अपनी बात रखी। इस मौके पर एडीएम गजेंद्र कुमार, एफएफडीसी के प्रधान निदेशक शक्ति विनय शुक्ल, एसडीएम सदर शैलेष कुमार, पूर्व प्रधानाचार्य एनसी टण्डन, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी छोटेलाल, शेख सलाउद्दीन व धर्म स्थलों के गुरु मौजूद रहे।

घरों पर ही करें पूजा-पाठ

डीएम ने कहा कि धार्मिक स्थलों पर भीड़ एकत्र न हो। नवरात्र आदि में घरों पर ही पूजा-पाठ करें। अगर कोई व्यक्ति मंदिर में जाने की जबरदस्ती करता है तो उसकी सूचना अधिकारियों को दे।

ये भी पढ़ें: बहुत महंगी है कोरोना की जांच, सिर्फ टेस्ट के देने होंगे इतने पैसे

एक मीटर की दूरी बनाने की डालें आदत

सीएमओ डॉ. कृष्ण स्वरूप ने कहा कि बचाव के लिए अपने हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति से करीब एक मीटर की दूरी बनाए रखने की आदत डाले। उन्होनें कहा कि जीवन से बढ़कर कुछ नही है। नमाज अपने-अपने घरों पर भी पढ़ी जा सकती है। उन्होनें कोरोना के लक्षण बताए कि सूखी खासी, तेज बुखार तथा सांस लेने में तकलीफ होती है। साधारण जुकाम व खांसी को कोरोना न समझा जाए।

लोग बोले, देशहित में प्रधानमंत्री के साथ

बुजुर्ग महिला किरन मेहरोत्रा ने बताया कि प्रधानमंत्री का फैसला स्वागत योग्य कदम है। इससे लोगों में कोरोना से लड़ने की शक्ति मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की अपील पर वह घर में रह कर ही पूजा-अर्चना करेंगी।

ये भी पढ़ें: Live: जनता कर्फ्यू से पहले देश में ऐसा नजारा, मरीजों का आंकड़ा हुआ 285

जगदीश वर्मा ने कहा कि वह प्रधानमंत्री की अपील पर देशहित में उनके साथ हैं। कहा कि वह 22 मार्च को घर पर ही रहकर पूजा पाठ करेंगे। उस दिन घर से नहंीं निकलेंगे। सभी को ऐसा ही करना चाहिए।

देवेन्द्र मिश्रा ने बताया कि कोरोना के खिलाफ जंग में वह प्रधानमंत्री के साथ हैं। 22 मार्च को वह घर पर ही रहेंगे। पूजा भी घर पर ही करेंगे। परिवार के सदस्यों को भी घर से बाहर नहीं निकलने देंगे। सभी को साथ आना चाहिए।

आचार्य मथुरा प्रसाद त्रिवेदी ने कहा कि भयावह बीमारी से बचाव के लिए लोगों को अपनी दिनचर्या में बदलाव करना होगा। जब तक इसका प्रकोप है, तब तक लोग घर पर ही रहें, बाहर कम निकलें। पूजा भी घर से ही करें।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story