विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के सम्मेलन में राज्यपाल ने कही ये बड़ी बात

प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 20वें अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया।

लखनऊः प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 20वें अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया। इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति वसुधैव कुटुम्बकम के उच्च आदर्शों पर आधारित है और यही व्यापक सोच हमारे संविधान के अनुच्छेद 51 में निहित है।

यह भी पढ़ें…SPG: सरकार ने क्यों लिया गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती का फैसला? यहां जानें

भारत के संविधान का अनुच्छेद 51 विश्व में एकता, शांति और मानवता की भलाई करने एवं संसार के बच्चों के भविष्य को सुरक्षित रखने की बात करता है। हमारे देश की संस्कृति एवं सभ्यता ही ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की रही है, जिसमें हम सम्पूर्ण पृथ्वी को अपना घर और इसके समस्त मानव जाति को अपने परिवार का सदस्य मानते हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में हमारा यह नैतिक कर्तव्य बनता है कि हम विश्व कल्याण एवं मानव जाति की भलाई के लिए काम करें।

यह भी पढ़ें…इलाज के लिए विदेश जाएंगे नवाज शरीफ, क्या इमरान और सेना की है कोई नई साजिश

राज्यपाल ने कहा कि विश्व के 2.5 अरब बच्चों का भविष्य सुरक्षित करना पहली प्राथमिकता होनी चाहिए और इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ‘प्रभावशाली अन्तरराष्ट्रीय कानून व्यवस्था’ सबसे सशक्त माध्यम है, जिसका रास्ता भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 से निकलता है।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 51 की भावना को आत्मसात करके ही ‘विश्व संसद’, ‘विश्व सरकार’ व प्रभावशाली अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय का गठन सम्भव है।

यह भी पढ़ें…नोटबंदी के तीन साल! सड़क पर कांग्रेसी, राहुल ने कही ये बड़ी बात

आनंदीबेन पटेल ने विश्वास व्यक्त किया कि न्यायाधीशों के इस अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन के आयोजन से आगे आने वाली पीढ़ी को एक सुन्दर एवं सुरक्षित भविष्य प्राप्त होगा। इस अवसर पर 71 देशों से आये स्पीकर, मंत्री मुख्य न्यायाधीश, न्यायाधीश एवं कानूनविद् उपस्थित थे।