इलाज के लिए विदेश जाएंगे नवाज शरीफ, क्या इमरान और सेना की है कोई नई साजिश

पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए विदेश जाएंगे। डॉक्‍टरों ने उनको इलाज के लिए विदेश जाने की सलाह दी है। माना जा सकता है कि डॉक्‍टरों ने पाकिस्तान के पूर्व पीएम को विदेश जाने की सलाह देकर जीवनदान देने का काम किया है।

नई दिल्ली: पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए विदेश जाएंगे। डॉक्‍टरों ने उनको इलाज के लिए विदेश जाने की सलाह दी है। माना जा सकता है कि डॉक्‍टरों ने पाकिस्तान के पूर्व पीएम को विदेश जाने की सलाह देकर जीवनदान देने का काम किया है।

नवाज शरीफ ने डॉक्‍टरों की सलाह मान ली है। उनकी बीमारी और उनके गिरते स्वास्थ्य को लेकर कई बातें सामने आईं। मीडिया रिपोर्ट में कई ऐसी बाते कही गईं जिसे सुनकर लोग चौंक गए। नवाज को धीमा जहर देने तक की बात कही गई थी। उनकी बेटी मरियम ने कई बार कहा कि उन्‍हें जान से मारने की साजिश रची जा रही है।

यह भी पढ़ें…SPG: सरकार ने क्यों लिया गांधी परिवार की सुरक्षा में कटौती का फैसला? यहां जानें

उनके प्‍लेटलेट्स खतरनाक स्‍तर तक गिरावट आई है। कहा जा रहा है कि डाक्‍टरों की सलाह पर इमरान सरकार उनका नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्‍ट (Exit Control List /ECL) से हटा सकती है। अगर ऐसा होता है तो वह इसी हफ्ते लंदन जा सकते हैं। इस सूची में उनका नाम शामिल होता है जिनके विदेश जाने पर सरकार बैन लगाती है।

ICU में भर्ती हैं नवाज शरीफ

बता दें कि इससे नवाज शरीफ और उनके परिवार ने विदेश जाकर इलाज कराने से इंकार कर दिया था। अब वह इलाज के लिए विदेश जाने को तैयार हैं, लेकिन उनकी बेटी मरियम नवाज पाकिस्तान में ही रहेंगी। नवाज की प्‍‍‍‍लेटलेट्स काउंट 24 हजार से कम होई हैं।

यह भी पढ़ें…करतारपुर कॉरीडोर: अंतिम क्षणों में पाकिस्तान ने फिर बदला पैंतरा

इलाज करने वाले डाक्‍टरों का कहना है कि 50 हजार से कम प्‍लेटलेट्स काउंट वाला व्‍यक्ति विदेश जाने के लिए फिट नहीं होता है। अभी नवाज को उनके घर में बनाए गए आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। इसके लिए पंजाब सरकार ने खास इजाजत दी है। डॉक्‍टरों का कहना है कि नवाज की हालत बेहद खराब है।

इमरान के सपनों को झटका

नवाज शरीफ की बीमारी और इमरान सरकार की खींचतान को देखें कुछ बातें सामने आई हैं। नवाज शरीफ के जेल जाने के बाद भी उनकी पार्टी पीएमएल-एन की स्थिति खराब नहीं हुई। इमरान की सोच थी कि नवाज के जेल जाने के बाद पीएमएल-एन बर्बाद हो जाएगी। लेकिन नवाज की पार्टी और मजबूत हो गई। नवाज की बीमारी की और उनको जहर देनें की खबरों से उनको और मजबूती मिली है।

नवाज पर सहानुभूति बन सकती है मुसीबत

मौलाना फजलुर रहमान के विरोध प्रदर्शन को लेकर पीएमएल-एन के नेता और नवाज के भाई शाहबाज शरीफ ने इमरान पर तीखा हमला किया था। इस विरोध प्रदर्शन से इमरान सरकार परेशान हो गई थी। अब इमरान खान को डर सता रहा है कि कहीं नवाज को कुछ हो गया तो वह और ज्यादा परेशान हो जाएंगे। इमरान खान नहीं चाहते हैं कि नवाज की वजह से वह परेशान हों।

यह भी पढ़ें…अयोध्या केस: CJI ने UP के मुख्य सचिव-डीजीपी से कानून-व्यवस्था की ली जानकारी

इमरान जानते हैं कि नवाज के साथ कोई अनहोनी हुई तो वह निशाने पर आ जाएंगे। नवाज को लोगों की सहानुभूति मिलेगी जो इमरान पर भारी पड़ सकती है।

सरकार और सेना

दुनिया को पता है कि पाकिस्‍तान में हमेशा सेना सरकार को चलाती है। पाकिस्‍तान के जानकार लोग मानते हैं कि इमरान को सत्‍ता पर सेना ने ही बैठाया है। इस बात इंकार नहीं करते हैं कि इमरान सेना का मुखौटा है। इसीलिए इमरान खान नवाज शरीफ के नाम का रिस्‍क न लेकर उनको दूसरे दरवाजे से पाकिस्‍तान की राजनीति से बाहर कर देना चाहते हैं। अगर नवाज विदेश जाते हैं तो उन सवालों से बच जाएंग और नवाज को जीवनदान मिल जाएगा। यह भी कहा जा रहा है कि इस पर दोनों दलों में पर्दे के पीछे कोई समझौता हुआ हो।

यह भी पढ़ें…2022 में सपा की सरकार बनने से कोई नहीं रोक सकता: अखिलेश यादव

जीवन को बचाने की है प्राथमिकता

नवाज सेना और सरकार के गठजोड़ को जानते हैं। इसलिए नवाज सबसे पहले अपना जीवन बचाना चाहते हैं। पाकिस्‍तान में रहते हुए संभव नहीं है। नवाज विदेश जाने का यह मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहते हैं। जानकारों का मानना है कि वह एक बाद देश से सुरक्षित चले गए तभी वापस लौटेंगे जब देश का सियासी माहौल उनके हक में होगा। इन सभी के लिए लंदन सबसे बेहतर जगह है।