पुलिस का सराहनीय कार्य, ATM से चोरी का सिर्फ 4 घंटे में किया खुलासा

उत्तर प्रदेश के आगरा की पुलिस ने वो कर कार्य दिखाया है जिसे जानने के बाद आप भी तारीफ करेंगे। आगरा पुलिस ने ऐसा सराहनीय कार्य पहली बार नहीं किया है वो इससे पहले भी ऐसे कई कार्य किए हैं।

आगरा: उत्तर प्रदेश के आगरा की पुलिस ने वो कर कार्य दिखाया है जिसे जानने के बाद आप भी तारीफ करेंगे। आगरा पुलिस ने ऐसा सराहनीय कार्य पहली बार नहीं किया है वो इससे पहले भी ऐसे कई कार्य किए हैं। शुक्रवार 12 जून 2020 को थाना क्षेत्र जगदीशपुरा में स्थित सिकंदरा बोदला रोड पर सिंडीकेट बैंक शाखा के ब्रांच मैनेजर द्वारा सूचना दी गई कि सिंडिकेट बैंक के एटीएम को लॉक खोल कर किसी अज्ञात के द्वारा एटीएम से पैसों से भरी ट्रेन जिसमें करीब ₹6,27,500 थे ,को चोरी कर लिए गया है।

स्थानीय पुलिस द्वारा तत्काल मौके पर पहुंचकर जांच की गई तो पाया कि किसी ने एटीएम का पासवर्ड डालकर एटीएम में रखें कैस कैबिनेट में से रुपए चोरी कर लिए हैं। सीसीटीवी फुटेज को चेक किया गया तो चोरों के द्वारा करीब 2 से 3 मिनट में चोरी की घटना होना पाया गया।

यह भी पढ़ें…मुख्यमंत्रियों संग पीएम मोदी की बैठक: लगातार दो दिन चर्चा, हो सकता है ये एलान

पुलिस टीम द्वारा तत्काल कार्रवाई करते हुए वादी ब्रांच मैनेजर उपरोक्त की तहरीर के आधार पर मुकदमा अपराध संख्या 286/20 धारा 457,380,427 आईपीसी बनाम अज्ञात पंजीकृत कर विवेचना शुरू की गई। इसी क्रम में गठित पुलिस टीमों के द्वारा सूचना संकलन के आधार पर उपरोक्त घटना का सफल अनावरण करते हुए मात्र 04 घंटे में तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई जिनके कब्जे से एटीएम से चोरी की गई ट्रे के साथ ₹5,28,000 बरामद किए गए।

यह भी पढ़ें…नकली सैनिटाइजर बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, तीन गिरफ्तार

गिरफ़्तार अभियुक्त—

1-शिवम सिंधु पुत्र अजय पाल निवासी सेक्टर 7 आवास विकास कॉलोनी थाना जगदीशपुरा जनपद आगरा
2- हिमांशु शर्मा उर्फ गोलू पंडित पुत्र निवासी सेक्टर 8 थाना जगदीशपुरा जनपद आगरा
3- बॉबी पुत्र निरंजन लाल निवासी सेक्टर 12 थाना जगदीशपुरा जनपद आगरा

यह भी पढ़ें…DM का दौरा: कोविड एल-1 हॉस्पिटल नहीं मिला तैयार, कर दी कड़ी कार्रवाई

गिरफ्तार अभियुक्तों से पुलिस टीम द्वारा गहनता से पूछताछ की गई तो बताया गया कि अभियुक्त शिवम सिंधु ब्रांच मैनेजर के साथ बैंक में टेंपरेरी अटेंडेंट था जिसने ब्रांच मैनेजर के साथ दिनांक 10 जून को एटीएम में 10,00,000 रुपए डालते हुए देखा था तथा पासवर्ड को भी चुरा लिया था। अपने दोनों साथियों के साथ मिलकर चोरी की घटना को अंजाम दिया गया|