CM योगी का निर्देश, टेस्टिंग लैब व्यवस्था को और बेहतर बनाया जाए

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि क्वारंटीन सेन्टर पर स्क्रीनिंग में स्वस्थ पाए गए श्रमिकों को राशन किट के साथ होम क्वारंटीन के लिए घर भेजा जाए।

yogi adityanath

yogi adityanath

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि क्वारंटीन सेन्टर पर स्क्रीनिंग में स्वस्थ पाए गए श्रमिकों को राशन किट के साथ होम क्वारंटीन के लिए घर भेजा जाए। राशन कार्ड विहीन श्रमिकों के राशन कार्ड बनाए जाएं, जिससे इनके लिए नियमित खाद्यान्न की व्यवस्था सुनिश्चित हो सके। उन्होंने ग्रामीण तथा शहरी इलाकों में गठित निगरानी समितियों के सदस्यों से नियमित संवाद के माध्यम से इनके कार्यों का फीडबैक प्राप्त करने को भी कहा है।

ये भी पढ़ें: इमरजेंसी की हालत देख नाराज हुए मंत्री, अधिकारियों को लगाई जमकर फटकार

10 हजार टेस्ट प्रतिदिन किया जाए

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि सभी जनपदों में पल्स ऑक्सीमीटर तथा इन्फ्रारेड थर्मामीटर की उपलब्धता पर सन्तोष व्यक्त किया। माइक्रोप्लानिंग करते हुए टेस्टिंग लैब व्यवस्था को और बेहतर बनाया जाए। टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाते हुए 10 हजार टेस्ट प्रतिदिन किया जाए। उन्होंने वेंटीलेटरों के सुचारु संचालन के लिए एनेस्थेसीओलाॅजिस्ट तथा तकनीकी कर्मियों के प्रशिक्षण की प्रगति की जानकारी भी प्राप्त की।

अपर मुख्य सचिव ने कही ये बात

अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के 1200 हाॅट स्पाॅट के 588 थानान्तर्गत 9,58,270 मकानों के 51,17,169 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजिटिव लोगों की संख्या 2,664 है।

ये भी पढ़ें: UP में स्वास्थ विभाग पर घोटाले की आंच! मंत्री ने CM योगी को लिखा पत्र

इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाईन किये गये लोगों की संख्या 8,297 है। प्रदेश की 89,197 औद्योगिक इकाइयों में से 83,698 इकाइयों द्वारा रु0 1681.58 करोड़ के वेतन का वितरण किया जा चुका है। निर्माण कार्यों से जुडे़ 17.80 लाख श्रमिकों, नगरीय क्षेत्र के 8.80 लाख श्रमिकों तथा ग्रामीण क्षेत्रों के 6.57 लाख निराश्रित व्यक्तियों को रु0 1,000-1,000ध्- के आधार पर कुल 33.17 लाख लोगों को 331.68 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।

ये भी पढ़ें: वीडियो कांफेंसिग के जरिए विधानसभा अध्यक्षों के साथ बैठक, इस विषय पर हुई चर्चा

प्रदेश की पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेन्ट एवं मास्क सहित कुल 70 इकाईयां क्रियाशील हैं। प्रदेश में 1099 फ्लोर मिल, 499 तेल मिल एवं 312 दाल मिल संचालित की जा रही है। कोविड-19 के सम्बंध में राहत आयुक्त कार्यालय में राज्य स्तर पर स्थापित एकीकृत आपदा नियंत्रण केन्द्र के टोल फ्री हेल्पलाईन 1070 पर प्राप्त 1,04,756 काॅल्स में से 95,982 का निस्तारण किया गया।

ये भी पढ़ें: दो समुदायों के बीच बवाल, विवाद सुलझाने गई पुलिस पर हमला, दो सिपाही घायल