वीडियो कांफेंसिग के जरिए विधानसभा अध्यक्षों के साथ बैठक, इस विषय पर हुई चर्चा

देश की विधानसभाओं में होने वाले हंगामे के कारण समय बर्बादी को रोकने के लिए गठित की गयी समिति की एक बैठक वीडियो कांफेंसिंग के माध्यम से आज सम्पन्न हुई।

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: देश की विधानसभाओं में होने वाले हंगामे के कारण समय बर्बादी को रोकने के लिए गठित की गयी समिति की एक बैठक वीडियो कांफेंसिंग के माध्यम से आज सम्पन्न हुई। कोरोना महामारी के दौरान उत्तर प्रदेश से वीडियों कान्फ्रेसिंग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर की यह पहली बैठक है।

ये भी पढ़ें: दो समुदायों के बीच बवाल, विवाद सुलझाने गई पुलिस पर हमला, दो सिपाही घायल

गौरतलब है कि इस समिति का अध्यक्ष लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने यूपी विधानसभा अध्यक्ष हदयनारायण दीक्षित को बनाया है। इसके सदस्य के रूप में गुजरात, पंजाब, मध्यप्रदेश, त्रिपुरा, छत्तीसगढ़ एव तमिलनाडु के अध्यक्षों को मनोनीत किया गया था। इसकी एक बैठक नवम्बर, 2019 को लोक सभा में सम्पन्न हुई थी।

हदयनारायण दीक्षित ने कही ये बात

विधानसभा अध्यक्ष हदयनारायण दीक्षित ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि विगत दो माह से कोरोना महामारी की विषम परिस्थिति के कारण बैठक सम्पन्न नहीं हो सकी। कोविड-19 के कारण विधायिका के समक्ष एक नई चुनौती है। ऐसे माहौल में जिन सदनों में छह माह की अवधि व्यतीत हो रही है, उनकी बैठक संवैधानिक अपरिहार्यता के कारण बुलायी जानी है। उन सदनों की बैठकें किस प्रकार आहूत की जाय। यह विचारणीय प्रश्न है।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में बेरोजगार हुए लोगों के लिए यहां नौकरी, सरकार ने दिया मौका

संसदीय व्यवस्था से जुडे़ कतिपय देशों जैसे यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, जापान एवं आस्ट्रेलिया द्वारा वर्तमान माहौल में भी संसद की बैठके आहूत की गयी है। वहां पर इसको ‘वर्चुअल पार्लियामेन्ट’ की संज्ञा दी गयी है। भारत जैसे विशाल आबादी एवं आकार की दृष्टि से बड़े राष्ट्र होने के कारण संवैधानिक अपरिहार्यता के बावजूद सदनों की बैठक बुलाये जाने में कठिनाई है। उन्होंने इस संभावना पर विचार किये जाने की आवश्यकता पर बल दिया।

ये भी पढ़ें: RBI पूर्व गवर्नर ने की मोदी सरकार की तारीफ, अर्थव्यवस्था पर थपथपाई पीठ

वीडियो कांफ्रेंसिंग में समिति में मनोनीत सात सदस्यों में से छह सदस्य, राजेन्द्र सूर्यप्रसाद त्रिवेदी, अध्यक्ष, गुजरात विधान सभा, जगदीश देवड़ा, अध्यक्ष, मध्य प्रदेश विधान सभा, राणा के0पी0 सिंह, अध्यक्ष, पंजाब विधान सभा, थीरू पी0 धनपाल, अध्यक्ष, तमिलनाडु विधान सभा, रेबती मोहन दास, अध्यक्ष, त्रिपुरा विधान सभा ने भाग लिया और अपने-अपने विचार रखे। छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ॰ चरणदास महंत, अपरिहार्य कारणों से उपस्थित नहीं हो सकें।

सदन के दिनों की संख्या बढ़ायी जाए…

समिति के सदस्यों ने कहा कि सदन की बैठकों के दिनों की संख्या कम होने के कारण नये सदस्यों को सदन में अपनी बात रखने का अवसर नहीं मिल पाता है। अतः सदन के दिनों की संख्या बढ़ायी जाए। सदन में इस प्रकार की व्यवस्था बनायी जाए जिससे अधिकांश विधायकों को अपनी बात कहने का अवसर मिल सके। जीरो आवर पर महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाने के लिए पर्याप्त समय की जरूरत पर बल दिया गया। नियमों में जरूरी संशोधन के सुझाव भी दिए गए।

ये भी पढ़ें: तिलमिलाया अमेरिका: चीन ने ठुकरा दिया ये प्रस्ताव, खुद ही हल करेगा मसला

सत्ता एवं प्रतिपक्ष के बीच सामंजस्य बढ़ाए जाने की आवश्यकता पर भी बल दिया गया। प्रक्रिया एवं नियमावली के बारे में विशेष प्रशिक्षण की जरूरत बताई गई। दलों द्वारा अपने स्तर पर माननीय सदस्यों को प्रबोधन कार्यक्रम चलाए जाने की आवश्यकता पर भी बल दिया गया। कोरोना महामारी के बीच फिजिकल डिस्टेंशिंग को बनाए रखते हुए सदन की बैठकों को सम्पन्न करने के लिए नियमों में व्यवस्था किये जाने की आवश्यकता बतायी गयी।

यूपी विधानसभा अध्यक्ष हदयनारायण दीक्षित ने राजनीतिक दलों से आग्रह किया कि वे अपने विधायकों को इस प्रकार का प्रशिक्षण दें कि उन्हें सदन में निर्धारित प्रक्रिया और अध्यक्ष पीठ से दिये जाने वाले निर्देशों का अनुशासनबद्ध होकर पालन करें।

दीक्षित ने कहा कि सदन को व्यवधान रहित सुचारू रूप से चलाये जाने व कोरोना महामारी के मध्य सदन कैसे संचालित किये जाय के विषय में बहुत ही बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हुए।

ये भी पढ़ें: अभी-अभी प्रसिद्ध ज्‍योतिषी बेजान दारूवाला का निधन, इस बीमारी से थे पीड़ित