प्रेम-प्रसंग ने ली पिता की जान: इस हालत में मिला शव, कांप जाएगी रूह

सोमवार की सुबह बडागांव में उस समय अफरा-तफरी मच गयी, जब तीन दिन से लापता रविन्द्रसिंह का शव हटवारा मुहल्ले के सरपाटे में झाड़ियों के बीच रक्तरंजित बैठे हुये हालत में मिला।

झाड़ियों में मिली युवक की लाश

झाड़ियों में मिली युवक की लाश

झाँसी। सोमवार की सुबह बडागांव में उस समय अफरा-तफरी मच गयी, जब तीन दिन से लापता रविन्द्रसिंह का शव हटवारा मुहल्ले के सरपाटे में झाड़ियों के बीच रक्तरंजित बैठे हुये हालत में मिला। उठी दुर्गंध के चलते जब ग्रामीणों ने मौके पर देखा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गयी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची। हत्या का आरोप आधा दर्जन लोगों पर लगाया गया। जिसमें मप्र पुलिस की संलिप्तता भी बतायी गयी।

ये भी पढ़ें: 25 करोड़ स्मार्ट मीटर: ठेके के लिए हो रही बड़ी साजिश, उपभोक्ता परिषद का आरोप

मृतक का पुत्र हत्यारोपियों की युवती को भगा ले गया था। इसी रंजिश के चलते रविन्द्रसिंह की हत्या करने का आरोप लगाया गया। पुलिस ने आधा दर्जन लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया। इसी दौरान एक पखवाडे से गायब युवक-युवती अचानक कोतवाली जा पहुंचे।

बडागांव निवासी मांनकुंवर पत्नी भवानी सिंह ने बताया कि 8 अगस्त को करीब 12 बजे दिन पुरूषोत्तमपुरा थाना बम्हौरीकलां टीकंमगढ मप्र निवासी राजसिंह गौर पुत्र अर्जुन सिंह गौर, अर्जुनसिंह गौर पुत्र मुन्नासिंह, ग्राम वरगुवां थाना मऊरानीपुर निवासी शत्रुघन ङ्क्षसह तथा उसका पत्र साहिल सिंह, बडागांव मऊरानीपुर निवासी उदयसिंह गौर, अनन्तसिंह गौर पुत्रगण मुन्नूसिंह, थाना बम्हौरीकलां के उपनिरीक्षक राजेनद्र रावत के साथ पहुंचे, आरोप लगाया कि उक्त लोगों ने धमकी दी थी कि वह रविन्द्र को जिन्दा नहीं छोडेंगे, सिर काट कर लायेगें।

10 अगस्त की सुबह 7 बजे जानकारी मिली कि उसके पुत्र रविन्द्रसिंह की लाश रज्जनसिंह के बेडा में पडी है। वहां जाकर देखा तो रविन्द्रसिंह की लाश पडी मिली। अर्जुनसिंह, राजसिंह, शत्रुघन सिंह, साहिल सिंह, अनन्त गौर, उदय सिंह गौर पर हत्या का अरोप लगाया। पुलिस ने यह मामला धारा 147, 302, 201, 506 के तहत दर्ज किया।

ये भी पढ़ें: भारत छोड़ो की तर्ज पर चलाएं ‘गंदगी कानपुर छोड़ो’ अभियान: केशव प्रसाद मौर्य

बड़ागांव में मातम छाया

इस घटना के चलते बडागांव में मातम का माहौल बना हुआ है। प्रधान प्रतिनिधि राजेन्द्रसिंह परिहार, पदमसिंह, नरेशसिंह सेंगर, बिहारीसिंह, आनन्द सिंह परिहार, रघुवीर सिंह, बबलू सिंह, महेन्द्रसिंह सेंगर, भगवानसिंह सेंगर, करतसिंह सेंगर, ओमकार सिंह , गजराज सिंह, रमेश मिश्रा, लखनलाल श्रीवास, दयाराम श्रीवास,जगदीश वर्मा, हरीदास वर्मा, ग्यादीन वर्मा, अजुददी वर्मा आदि ग्रामीणों ने बताया कि 8 अगस्त को जब आरोपी मप्र पुलिस के साथ युवक-युवती को तलाश ने रविन्द्रसिंह के घर पहुंचे थे, उस समय वह अपनी बडी पुत्री को ससुराल भेजने की तैयारी कर रहा था।

जब उसे धमकाया गया, तो वह मकान के पीछे बेडा में कूंद गया था। इसके बाद से उसका पता नहीं चला था। रविन्द्रसिंह को परिवार व गांव वालों ने तलाश लेकिन वह नही मिला था। आरोप लगाया कि युवती को तलाशने आये लोगों ने पूरे गांव में नाकेबंदी कर रखी थी। जिसके चलते जब वह पीछे बेडा में कूंदा, उसी समय नाकेबंदी कर रहे लोगों की वह गिरफत में आ गया। जिसे यह लोग अपने साथ ले गये। हत्या करके शव को यहां पर फेंक दिया गया।

 

रविन्द्र सिंह के परिवार में 4 लडकियां है इनमें से तीन की शादी हो चुकी है। छोटी पुत्री पढ़ रही है। उसका इकलौता पुत्र राघवेन्द्रसिंह है। जिस पर ग्राम पुरूषोत्तमपुरा मप्र निवासी अर्जुनसिंह की पुत्री को भगा ले जाने का आरोप है।

एमपी पुलिस ले गई प्रेमी युगल को

जिस समय कोतवाली में मृतक का पंचायतनामा भरा जा रहा था, उसी दौरान एक पखवाडे से लापता प्रेमी युगल जिसमें मृतक का इकलौता पुत्र था, वह युवती के साथ अचानक कोतवाली पहुंचा। उसके साथ मृतक की मां भी थी। जिसकी सूचना पर बम्हौरीकलां (टीकंमगढ़) मप्र थाने की पुलिस मऊरानीपुर आयी। प्रेमी युगल को अपने साथ ले गयी।

ये भी पढ़ें: दिल्ली में 90 फीसदी कोरोना संक्रमित हुए ठीक, अब 7 फीसदी एक्टिव केसः CM केजरीवाल

मुकदमा की जांच कर होगी कार्रवाई: एसपी ग्रामीण

सूचना पाकर उपजिलाधिकारी अंकुर श्रीवास्तव, पुलिस उपाधीक्षक अभिषेक राहुल, कोतवाल संजय गुप्ता सहित भारी पुलिस बल मौके पर पहुंचा। गांव में पीएसी बल तैनात किया गया। अपर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण राहुल मिठास का कहना था कि पोस्टमार्टम आने के बाद दर्ज मुकदमे की जांच कर कार्यवाही की जायेगी।

शरीर पर खून के निशान

बडागांव के मुहल्ले के झाडियों के बीच मृतक शौच करने की हालत में बैठा हुआ मिला। पूरे शरीर पर खून के निशान थे। फफोले पडे हुये थे। चेहरा भी अदजला सा था। हल्की सी जीव निकली हुयी थी। हर कोई इस मामले को हत्या का बता रहा है। बताया गया कि मृतक रविन्द्रसिंह के पुत्र राघवेन्द्रसिंह पर 24 जुलाई को युवती को भगा ले जाने का आरोप लगा, जिसका मुकदमा बम्हौरीकलां मप्र में दर्ज हुआ था।

रिपोर्ट: बी.के. कुशवाहा

ये भी पढ़ें: वेंटिलेटर सपोर्ट पर प्रणब मुखर्जी, कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद हुआ ये ऑपरेशन

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App