×

कमलेश मर्डर-मिस्ट्री: सावधान, इन हजारों में कहीं आप तो नहीं...

जैमिन ने राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश से संपर्क कर रोहित कुमार सोलंकी उर्फ शेख अशफाक हुसैन को सूरत शहर की आईटी सेल का प्रचारक के पद पर बैठा दिया। इसके बाद सूरत शहर का आईटी सेल का प्रचार बनते ही शेख अशफाक हुसैन ने वॉट्सएप पर एक ग्रुप बनाया। 

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 23 Oct 2019 8:26 AM GMT

कमलेश मर्डर-मिस्ट्री: सावधान, इन हजारों में कहीं आप तो नहीं...
X
कमलेश मर्डर-मिस्ट्री: सावधान, इन हजारों में कहीं आप तो नहीं...
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : कमलेश तिवारी हत्याकांड में रोजाना नए किस्से खुलेकर सामने आ रहे हैं। ताजा मिली जानकारी के मुताबिक, कमलेश तिवारी तक पहुंचने के लिए शेख अशफाक हुसैन ने हिंदू समाज पार्टी के गुजरात के प्रदेश अध्यक्ष जैमिन दवे बापु का सहारा लिया था। उसने पहले फेसबुक पर रोहित कुमार सोलंकी के नाम से फर्जी आईडी व फर्जी आधारकार्ड बनवाया।

यह भी देखें... बाढ का प्रचंड रूप: ये राज्य तबाही की कगार में, खतरे में जन-जीवन

खुद को कट्टर हिंदू साबित करने के लिए

अपनी इन तमाम कोशिशों के बाद उसने जैमिन से बातचीत करके पार्टी में सम्मलित हो गया। जैमिन ने राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश से संपर्क कर रोहित कुमार सोलंकी उर्फ शेख अशफाक हुसैन को सूरत शहर की आईटी सेल का प्रचारक के पद पर बैठा दिया।

इसके बाद सूरत शहर का आईटी सेल का प्रचार बनते ही शेख अशफाक हुसैन ने वॉट्सएप पर एक ग्रुप बनाया। जिसमें कमलेश के साथ ही पार्टी के यूपी अध्यक्ष पुष्कर राय मोनू, पश्चिमी यूपी के प्रभारी गौरव सोलंकी समेत अन्य पदाधिकारियों को जोड़ा। पुलिस सूत्रों ने बताया कि वॉट्सएप ग्रुप पर ही वह सूरत में पार्टी की गतिविधियों के बारे में सूचनाएं और खबरें शेयर करता था।

पार्टी में उसकी सक्रियता देखकर ही कमलेश और यूपी के अन्य पदाधिकारी प्रभावित हुए व उससे बातचीत करने लगे। उसने पार्टी के नाम से एक फेसबुक अकाउंट भी शुरू किया,जिसमें हजारों लोग जुड़े थे।

इन सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म फेसबुक और वॉट्सएप पर वह खुद को कट्टर हिंदू साबित करने के लिए ज्यादातर रामचरित मानस की चौपाइयां व संस्कृत के श्लोक पोस्ट करता था।

यह भी देखें... ये खूंखार आतंकी मारा गया: अब है इनकी बारी, सेना से डरा पाकिस्तान

बता देंं, कि शेख अशफाक हुसैन की फर्जी पहचान का खुलासा होने के बाद गुजरात एटीएस ने वहां के प्रदेश अध्यक्ष जैमिन से पूछताछ की।

एटीएस द्वारा की गई इस पूछताछ में उन्होंने कई महत्वपूर्ण जानकारियां दीं। उन्होंने यह भी बताया कि अशफाक सूरत से लखनऊ के निकला तो उन्हें जानकारी दी थी। उसने लखनऊ में आयोजित पार्टी की बैठक में शामिल होने के बारे में भी कहा था।

प्रदेश अध्यक्ष की भी हत्या की साजिश

इसी मामले में हिंदू समाज पार्टी के पश्चिमी यूपी प्रभारी गौरव सोलंकी का कहना है कि रोहित कुमार सोलंकी उर्फ अशफाक ने कमलेश तिवारी के साथ ही प्रदेश अध्यक्ष की हत्या की भी साजिश की थी।

उन्होंने लखनऊ आने से पहले प्रदेश अध्यक्ष को फोन कर मिलने की इच्छा जाहिर की। हालांकि, प्रदेश अध्यक्ष ने किसी काम में व्यस्त होने की बात कहते हुए मुलाकात में असमर्थता जता दी। इस पर हत्यारों ने उन पर मनोवैज्ञानिक दबाव भी डाला। प्रदेश अध्यक्ष ने हत्यारों से दोबारा लखनऊ आने पर मिलने की बात कही थी।

यह भी देखें... आज सरकार का बड़ा फैसला! इस दिवाली मौजा-ही-मौजा, यहां जाने पूरी डीटेल

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story