×

हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की हत्या का यहां जानें पूरा मामला

सुराग की तलाश व मामले की छानबीन करने मौके पर फोरेंसिक टीम और एसएसपी पहुंचे, जहां एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आपसी रंजिश के तहत घटना को अंजाम दिया गया है। मामले की छानबीन में 10 टीमें लगाई गई हैं।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 18 Oct 2019 4:54 PM GMT

हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की हत्या का यहां जानें पूरा मामला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

  • भगवा पहने बदमाशों ने की हिन्दू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की हत्या
  • नाका थाना क्षेत्र के खुर्शीद बाग कॉलोनी में बदमाशों ने दिनदहाड़े दिया वारदात को अंजाम
  • मिठाई के डिब्बे में छिपा के लाये थे पिस्टल और चाकू, जिससे की हत्या
  • समर्थकों ने देर शाम तक किया हत्यारों के गिरफ़्तारी के लिए प्रदर्शन
  • आपसी रंजिश में हत्या किये जाने की आशंका
  • जलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने आरोपितों पर रासुका लगाने के दिये निर्देश

लखनऊ: राजधानी के नाका थाना क्षेत्र के खुर्शीद बाग कॉलोनी में हिंदू समाज पार्टी के नेता और हिंदू महासभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी को भगवा पहनकर हाथ में मिठाई का डिब्बा लिये आये बदमाशों ने दिनदहाड़े गोली मारकर घायल कर दिया, फिर चाकुओं से कई वार कर उन्हे मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गये। गोलियों की आवाज सुनते ही क्षेत्र में अफरा- तफरी का माहौल बन गया। पुलिस को सूचना के बाद उन्हें तत्काल ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया।

सुराग की तलाश व मामले की छानबीन करने मौके पर फोरेंसिक टीम और एसएसपी पहुंचे, जहां एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आपसी रंजिश के तहत घटना को अंजाम दिया गया है। मामले की छानबीन में 10 टीमें लगाई गई हैं। मौके पर एक पिस्टल और एक चाकू बरामद हुई है, उसकी जांच की जा रही है। साथ ही इलाके के आसपास लगे सभी सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं और लोगों से पूछताछ भी की जा रही है। उधर, मामले में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने आरोपितों पर रासुका लगाने के निर्देश जारी कर दिए हैं।

ये भी देखें : हिंदू नेता हत्याकांड: बहुत बड़ा खुलासा, ISIS के निशाने पर थे कमलेश तिवारी

उधर, दिनदहाड़े हमले से लोगों के बीच आक्रोश बना हुआ है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के समर्थकों ने हत्या के विरोध में हमलावरों पर कार्रवाई को लेकर देर शाम तक प्रदर्शन करते रहे। तनाव के कारण इलाके की दुकानें बंद कराई गई। मामला नाका थानाक्षेत्र का है। यहां खुर्शीद बाग कॉलोनी स्थित हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी के घर पर ही बने कार्यालय में उनकी हत्या कर दी गई। पुलिस के मुताबिक, दो बदमाश हाथ में मिठाई का डिब्बा लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी से मिलने उनके घर में बने कार्यालय पहुंचे थे।

उनके नौकर स्वराष्ट्रजीत सिंह ने बताया कि आज सुबह कमलेश तिवारी के पास कुछ लोगों का फोन आया और मिलने के लिए आने को कहा। तिवारी को नाका थाने से एक सिपाही और पुलिस लाईन से एक गनर मिला था, गनर की ड्यूटी दो बजे से थी और सिपाही घटना के समय एक डंडा लेकर भूतल पर सोया हुआ था। फोन आने के 10 मिनट बाद तिवारी से मिलने के लिए बाइक से दो लोग आये। यह दोनों मिठाई का डिब्बा लिए हुए थे जिसमें चाकू और असलहा था। इनके साथ एक गार्ड भी आया था जो ग्राउंड लोर पर रुक गया था और यह दोनों पहली मंजिल पर स्थित कार्यालय में आ गए थे। चूंकि कमलेश तिवारी दोनों से पहले से परिचित थे, इसलिए दोनों को बिठाकर बातचीत करने लगे। उसने बताया कि कमलेश तिवारी के कहने पर उसने आगंतुकों को दही बड़ा खिलाया और चाय पिलाई। इस दौरान इन लोगों के बीच चल रही बात सुनी थी।

इनमें किसी मुस्लिम लड़की और हिन्दू लड़के की शादी को लेकर चर्चा चल रही थी। नौकर ने बताया कि बातचीत के दौरान कमलेश तिवारी से मिलने आये दोनों लोगों ने उसे सौ रुपये का नोट देकर सिगरेट लाने के लिए भेज दिया। जब वह सिगरेट लेकर लौटा तो तिवारी जी ने गुटखा लाने भेज दिया। जब वह गुटखा लेकर लौटा तो कमलेश तिवारी मेज के नीचे घायलावस्था में पड़े थे और आसपास खून फैला पड़ा था। पास ही में एक पिस्टल पड़ी थी जो मिठाई के डिब्बे में रखकर लाये थे।

ये भी देखें : ऐसे पढ़ेगा तो कैसे आगे बढ़ेगा इंडिया, पढ़ें क्या है ये पूरा मामला

पैगंबर मोह मद साहब के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने के मामले में लगा था रासुका

बता दें, हिंदू महासभा के अध्यक्ष रहे कमलेश तिवारी को पैगंबर मोह मद साहब के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने के मामले में रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत गिर तार कर जेल भेजा गया था। इसके बाद 2017 विधानसभा चुनाव से पहले उन्होंने हिंदू समाज पार्टी का गठन किया था।

36 मिनट रुके थे हत्यारे

लखनऊ के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि हत्यारों ने करीब 36 मिनट रुकने के बाद तिवारी को गोली मारी थी। किसी परिचित व्यक्ति ने ही तिवारी को गोली मारी है। उन्होंने बताया कि सीसीटीवी से पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं। जल्द ही पुलिस मामले का खुलासा कर देगी।

आपसी रंजिश में हत्या की आशंका

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आपसी रंजिश के तहत घटना को अंजाम दिया गया है। मामले की छानबीन में 10 टीमें लगाई गई हैं। मौके पर एक पिस्टल और एक चाकू बरामद हुई है, उसकी जांच की जा रही है।

हत्या के विरोध में लोगों ने किया प्रदर्शन

हिंदु महासभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी की हत्या से गुस्साए पार्टी कार्यकर्ता और उनके समर्थकों ने सड़क पर आकर प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने पूरा अमीनाबाद मार्केट बंद करा दिया। वहीं कुछ समर्थकों ने लखनऊ पोस्टमार्टम हाउस के सामने प्रदर्शन किया और यहां से गुजर रही एक रोडवेज बस के शीशे तोड़ दिए। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह समर्थकों को समझाकर शांत कराया और जल्द से जल्द अपराधियों को पकडऩे का आश्वासन दिया।

बाक्स- सीसीटीवी में दिखे हमलावर

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी कैमरे खंगाले। इसमें पुलिस को हत्यारोपी भगवा वस्त्र पहने उनके कार्यालय की ओर जाते दिखाई दे रहे हैं। फुटेज में दिखे आरोपियों को पकडऩे के लिए एसएसपी कलानिधी नैथानी ने टीमें गठित कर दी हैं।

ये भी देखें : भाजपा ने महाराष्ट्र में झोंकी पूरी ताकत

सूरत से लिया गया था मिठाई का डिब्बा

भगवा कपड़े पहने हमलावर मिठाई के डिब्बे में चाकू, कट्टा लेकर आए खुर्शीद बाग इलाके में स्थित तिवारी के द तर में मिलने आए थे. जांच में पता चला कि कमलेश तिवारी हत्याकांड में इस्तेमाल मिठाई का डिब्बा 16 अक्टूबर को सूरत की मिठाई के दुकान से खरीदा गया था पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है

बाक्स- सीसीटीवी में कैद हुए हत्यारे, एटीएस समेत कई एजेंसिया सतर्क

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। इस बात की जानकारी मिली है कि कमलेश तिवारी आतंकियों के निशाने पर भी थे। 2017 में गुजरात एटीएस ने आईएसआईएस के उबैद मिर्जा और कासिम को गिर तार किया था। गुजरात एटीएस के अलावा सेंट्रल एजेंसी ने भी आतंकियों से पूछताछ की थी। दोनों आतंकियों ने पूछताछ में कमलेश तिवारी का नाम लिया था। उबैद और कासिम को उनके हैंडलर ने वीडियो दिखाकर कमलेश तिवारी को मारने के लिए कहा था। बता दें कि गुजरात एटीएस ने चार्जशीट दाखिल की थी जिसमें कमलेश तिवारी की हत्या की साजिश के बारे में भी खुलासा किया था। गुजरात एटीएस के पास कमलेश तिवारी से संबंधित आतंकियों की चैटिंग और सबूत मौजूद हैं। गुजरात एटीएस ने आतंकियों से पूछताछ में कमलेश तिवारी को लेकर हुए खुलासे की जानकारी सेंट्रल एजेंसी को भी दी थी।

सभी दुकानों और बाजार कराया बंद, बस और आटो में की तोडफ़ोड़, पीएसी तैनात

नाका थाना क्षेत्र में शुक्रवार को हिन्दू महासभा के नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े हत्या के बाद उनके समर्थकों ने रोड जाम कर दिया। बस व आसपास के वाहनों में तोडफ़ोड़ कर दी। बवाल को शांत कराने के लिए पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी पहुंचे। समर्थकों ने दुकानें बंद कराकर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन शुरु कर दिया। मांग है कि जब तक मु यमंत्री नहीं आते है उनका प्रदर्शन ऐसे ही चलता रहेगा। पुलिस कार्रवाई का भरोसा देकर आक्रोशितों को शांत कराया। ऐतिहातन तौर पर भारी पुलिस, पीएसी को लगा दिया है।

ये भी देखें :विपक्ष के खिलाफ सीएम योगी ने ऐसी बात कह सभी को चौका दिया

अक्टूबर माह में चार नेताओं की हत्या

वहीं इससे पहले सहारनपुर जिले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकर्ता की इसी तरह गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।भाजपा के पार्षद 47 वर्षीय धारा सिंह जब देवबंद से सहारनपुर नौकरी पर जा रहे थे तो रास्ते में रेलवे क्रॉसिंग पर दो बाइक सवारों ने उन्हें रोककर फायरिंग कर दी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई। धारा सिंह सहारनपुर की एक स्थानीय चीनी मिल में सेक्टर प्रभारी के रूप में कार्यरत थे। इसके बाद 8 अक्टूबर को देवबंद में ही भाजपा के एक दूसरे नेता चौधरी यशपाल सिंह को इसी तरह से गोली मार दी गई थी। इसके दो दिन बाद एक अन्य भाजपा नेता कबीर तिवारी की बस्ती में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। कबीर तिवारी पूर्व छात्र नेता थे। उनकी हत्या के बाद छात्रों के एक समूह ने सड़क पर प्रदर्शन किया था।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story