मायावती ने की PM मोदी से देश में कोरोना नीति बनाने की अपील

मायावती ने कहा कि इस नीति को पूरे देश में सख्ती से लागू किया जाए। वरना कोरोना पीड़ितों की यह तादाद् लगातार और भी ज्यादा बढ़ती ही चली जायेगी

Mayawati

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कोरोना महामारी के लगातार बढ़ने पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसकी प्रभावी रोकथाम के लिए एक कोरोना नीति बना कर पूरे देश में लागू करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि इस नीति को पूरे देश में सख्ती से लागू किया जाए। वरना कोरोना पीड़ितों की यह तादाद् लगातार और भी ज्यादा बढ़ती ही चली जायेगी और देश में सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त बना रहेगा। इसके साथ ही बसपा सुप्रीमों ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि विभिन्न राज्यों में बाढ़ की विपदा से पीड़ित लाखों परिवारों की सहायता के लिए राज्यों से सहयोग करने के साथ-साथ केन्द्र सरकार को भी मुस्तैदी से आगे आना चाहिए।

भाजपा सरकार परशुराम जयंती पर घोषित करे छुट्टी- मायावती

मायावती ने मंगलवार को देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएं दीं और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कोरोना और बाढ़ के संबंध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ की गई बैठक की सराहना करते हुए कहा कि मीडिया की खबरों के मुताबिक भाजपा ने कहा है कि जरूरत पड़ी तो यूपी में उनकी सरकार ही वहां ब्राह्मण समाज की आस्था व स्वाभिमान के खास प्रतीक परशुराम की भव्य प्रतिमा लगायेगी। बसपा सुप्रीमों ने कहा कि अगर ऐसा हो जाता है तो इसका बसपा विरोध नहीं बल्कि पूरा स्वागत करेगी।

ये भी पढ़ें-   राजस्थान में वसुंधरा फैक्टर ने भी दिखाया असर, सचिन इसलिए हुए सुलह पर मजबूर

Mayawati
Mayawati

लेकिन इसके साथ-साथ भाजपा सरकार को परशुरामजी के जन्मदिन की छुट्टी भी जरूर घोषित करनी चाहिये। ऐसी इनके अनुयाईयों की जबर्दस्त मांग है। उन्होंने कहा कि अगर यूपी की भाजपा सरकार केवल हवा-हवाई बातें न करके अपना वादा पूरा करती है तो यह अच्छी बात है। वरना फिर आगे चलकर हमारी पार्टी की बनी सरकार इन दोनों ही कार्यो को जरूर करेगी।

मायावती ने दी गहलोत को सुप्रीम कोर्ट ले जाने की धमकी

Mayawati
Mayawati

ये भी पढ़ें-   जिलाधिकारी ने की कोविड-19 स्थिति की समीक्षा, अधिकारियों को दिए निर्देश

इसके अलावा बसपा प्रमुख ने राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार के बचने पर कहा कि राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच का ड्रामा फिर कब शुरू हो जाए यह कहा नहीं जा सकता है। उन्होंने राजस्थान के राज्यपाल से अनुरोध किया है कि राजस्थान को अस्थिरता के जंजाल से मुक्ति दिलाने के लिए पूरे घटनाक्रम का संज्ञान लेकर अपने संवैधानिक दायित्व को निभाना चाहिए।

Mayawati
Mayawati

ये भी पढ़ें-   लड़के खुद से अधिक उम्र की लड़कियों से करते हैं प्यार, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत ने लगातार दूसरी बार दगाबाजी करके व दलबदल कानून का खुला उल्लंघन करके जिस प्रकार से बसपा के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया है, तो इस बार बसपा कांग्रेस को छोड़ेगी नहीं। बल्कि हाईकोर्ट में समुचित न्याय न मिलने पर, इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में भी ले जाएगी।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App