Top

राजधानी में मचा बवाल: सड़कों पर दिखे अखिलेश बनाम योगी के होर्डिंग, लिखी ये बात

लखनऊ की सड़कों पर एक पोस्टर लगा है, जिसमें एक ओर अखिलेश यादव की फोटो है तो वहीं दूसरी ओर सीएम योगी आदित्यनाथ की तस्वीर है। इस पोस्टर के जरिए सपा ने बीजेपी पर निशाना साधा है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 15 March 2021 5:56 AM GMT

राजधानी में मचा बवाल: सड़कों पर दिखे अखिलेश बनाम योगी के होर्डिंग, लिखी ये बात
X
राजधानी में मचा बवाल: सड़कों पर दिखे अखिलेश बनाम योगी के होर्डिंग, लिखी ये बात
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में मीडिया से हुई हाथापाई के मामले में अखिलेश यादव पर नामजद एफआईआर दर्ज होने के बाद सपा और भाजपा आमने सामने हैं। मामले में समाजवादी पार्टी की ओर से राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ केस दर्ज होने को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा जा रहा है। इस बीच राजधानी की सड़कों पर एक ऐसा पोस्टर दिखा, जिससे लेकर बवाल मचा हुआ है।

क्या है इस पोस्टर में?

दरअसल, लखनऊ की सड़कों पर एक पोस्टर लगा है, जिसमें एक ओर अखिलेश यादव की फोटो है तो वहीं दूसरी ओर सीएम योगी आदित्यनाथ की तस्वीर है। इस पोस्टर के जरिए सपा ने बीजेपी पर निशाना साधा है। दरअसल, राजधानी के लखनऊ लगे इस होर्डिंग को सपा लीडर अखिलेश पर दर्ज हुई एफआईआर के बाद लगाया गया है। इस होर्डिंग में अखिलेश पर मुकदमे लिखवाने और सीएम योगी पर मुकदमे हटाने की बात का जिक्र है।

यह भी पढ़ें: वाराणसी: बेखौफ बदमाश ने छात्र को सरेराह मारी गोली, कसूर था सिर्फ इतना

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कही ये बात

इस बीच यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में सपा सरकार बनने पर फर्जी एनकाउंटर की जांच होगी। उन्होंने यह भी कहा फर्जी एनकाउंटर के साथ ही हिरासत में हुई मौतों की भी जांच होगी। मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट और पीड़ित परिवारों की शिकायत पर जांच होगी।

यह भी पढ़ें: गोरखपुर: कवि संस्कृतिकर्मी देवेन्द्र आर्य के पुत्र की मृत्यु, हार्ट अटैक से तोड़ा दम

उन्होंने ट्वीट करते हुए ये भी कहा कि आज जिस प्रकार संविधान पर हमले हो रहे हैं, नेताओं पर झूठे मुक़दमों व जाँच एजेंसियों के छापे के बाद अब शारीरिक हमले तक हो रहे हैं, वो भाजपा की हिंसक राजनीतिक सोच का कुपरिणाम है। दूसरों पर सिंडीकेट से संचालित होने का आरोप लगानेवाले लोग वास्तव में स्वयं ‘संघीकेट’ से संचालित हैं।



इन धाराओं में दर्ज हुआ मुकदमा

बता दें कि मुरादाबाद में अखिलेश की प्रेस वार्ता में सुरक्षाकर्मियों द्वारा मीडियाकर्मियों से की गयी मारपीट के मामले में सपा प्रमुख समेत 20 लोगों के खिलाफ मामले में मुकदमा दर्ज हुआ है। अखिलेश के खिलाफ धारा 147, 342 और 323 के तहत FIR दर्ज हुई है। अखिलेश यादव व अन्य के बाद अब पत्रकारों पर भी मामला दर्ज कराया गया है।

यह भी पढ़ें: कौशल किशोर की बहु ने काटी नस, सांसद के घर के बाहर आत्महत्या की कोशिश

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story