अनुच्छेद 370 और 35 ए समाप्त होने से सिर्फ पाकिस्तान परेशान: मुख्तार अब्बास नकवी

रामपुर: केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35 ए समाप्त किए जाने पर कहा कि अभी यह शुरुआत है, अभी पाकिस्तान के कब्जे में कश्मीर को भी आजाद कराया जाएगा। आतंकवाद और पाकिस्तान में आतंकवाद समर्थन पर कहा कि याचना नहीं अब रण होगा, संग्राम अब भीषण होगा।

भारतीय जनता पार्टी की ओर से जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और 35 ए समाप्त किए जाने पर राष्ट्रीय एकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अनुच्छेद 370 के समाप्त होने पर पूरा देश गौरव और फर्क महसूस कर रहा है।

यह भी पढ़ें.  झुमका गिरा रे…. सुलझेगी कड़ी या बन जायेगी पहेली?

कहा कि अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के लिए पिछली सरकार में ही काम शुरू कर दिया गया था, दोबारा जनादेश मिलने पर इसे क्रियान्वित किया गया। इस मुद्दे को लेकर कहा जाता था कि ऐसा होगा तो देश में आग लग जाएगी, जबकि हर राष्ट्रवादी भारतीय इसे समाप्त करना चाहता था।\

यह भी पढ़ें. असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

अनुच्छेद 370 और 35 ए समाप्त होने से सिर्फ पाकिस्तान, पाकिस्तान समर्थित अलगाववादियों और अलगाववादियों के कुछ राग दरबारियों को ही दिक्कत हुई है, बाकी पूरे देश की जनता ने इसका स्वागत किया है। कहा कि आतंकवाद की फैक्टरी चला रहे पाकिस्तान ने अपनी बर्बादी की इबारत लिखनी शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें.  अय्याशियों का रेलवे स्टेशन! मसाज के साथ ऐसी सुविधा, चौंक जायेंगे आप

कहा कि पाकिस्तान इसे इस्लाम धर्म को खतरे में बताकर दुष्प्रचार कर रहा है जबकि इससे इस्लाम नहीं बल्कि आतंकवादी और आतंकवाद खतरे में है। कहा कि भारत के राष्ट्रवादी मुसलमानों की वजह से ही अल कायदा और आईएसआईएस भारत में पैर नहीं जमा सका। पूरे विश्व के इस्लामिक देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान दे रहे हैं, यह प्रधानमंत्री की विश्व में स्वीकार्यता और विश्वसनीयता को दर्शाता है।

 

यह भी पढ़ें. लड़की का प्यार! सुधरना है तो लड़के फालो करें ये फार्मूला

कहा कि अब अगली बारी पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को आजाद कराने की है। अनुच्छेद 370 समाप्त होने के कारण ही पहली बार लाल चौक से लेकर जम्मू-कश्मीर के घरों तक में तिरंगा फहराया गया जबकि इससे पहले पाकिस्तान का झंडा फहराकर तिरंगे को जलाया जाता था। कहा कि चार लोगों को नजरबंद 40 लाख लोगों की हिफाजत के लिए किया गया है।