असल मर्द हो या नहीं! ये 10 तरीके देंगे आपके सारे सवालों के सही जवाब

रोचक लगेगा लेकिन आपको बता दें कि कुछ लोग तो प्रजनन क्षमता को मर्दानगी की पहचान समझते हैं, लेकिन भारतीय परम्परा के अनुसार जहां तक रिश्‍तों की बात है उसमें असली मर्द उसे ही माना जाता है जो सभी की कद्र करना जानता है। आइये आपको बताते हैं कि असली मर्द की पहचान कैसे करें।

नई दिल्ली: मर्द को दर्द नहीं होता, बुढ्ढा होगा तेरा बाप, जैसे कई अनोखे डॉयलाग तो आप फिल्मों में सुने ही होंगे। आपके बता दें कि मर्द और मर्दानगी को लेकर लोगों की अपनी सोच रही है। कोई इसे फिजिकली रिलेशन से जोड़ता है तो कोई ताकत से।

रोचक लगेगा लेकिन आपको बता दें कि कुछ लोग तो प्रजनन क्षमता को मर्दानगी की पहचान समझते हैं, लेकिन भारतीय परम्परा के अनुसार जहां तक रिश्‍तों की बात है उसमें असली मर्द उसे ही माना जाता है जो सभी की कद्र करना जानता है। आइये आपको बताते हैं कि असली मर्द की पहचान कैसे करें।

1. परिवार की चिन्ता…

यह भी पढ़ें. अजगर की तरह सुस्त हुआ मसूद, भाई बना आतंक का सरगना

असली मर्द वही होते हैं, जो व्यक्ति आपकी खरीददारी (मॉल, शापिंग, बाजार आदि) पर परेशान नहीं होता है, साथ ही साथ मनचाही शॉपिंग में मदद करता है।

उसे इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि उसने कैशियर को कितना पेमेंट किया, असली मर्द वही होता है जिसको इस बात की चिन्ता रहती है उसके परिवार की मुस्कराहट तो कम नहीं हुई।

2. पार्टनर की पसंद का रखे ध्यान…

एक पुरूष के लिए अपने प्यार को जताने का सबसे अच्छा तरीका अपनी पार्टनर से संबंध बनाना है, आपके मर्दानगी की यही पहचान होनी चाहिए कि प्यार करते और संबंध बनाते वक्त अपनी पार्टनर की पसंद नापसंद का ख्याल रखे।

यह भी पढ़ें. एटम बम मतलब “परमाणु बम”, तो ऐसे दुनिया हो जायेगी खाक!

बता दें कि शारीरिक रिश्तों में जिसे अपनी साथी की मर्जी का महत्व मालूम है वो होते हैं असली मर्द। जिसके लिए ये उसका हक नहीं बल्कि प्यार जताने का सबसे खूबसूरत तरीका है।

3. रखें भरोसा…

असली मर्द वही होते हैं, जो पार्टनर पर पूरा भरोसा रखें, कभी भी अपने पार्टनर का फोन या उनके बैग को नहीं चेक करना चाहिए।
कभी भी आपके पार्टनर को ऐसा फील नहीं होना चाहिए कि वो आप कुछ गलत कर रहे हैं।

4. नहीं चेक करते कंपनी…

यह भी पढ़ें:   मारी गई पाकिस्तानी सेना! इमरान को आज नहीं आएगी नींद

असली मर्द की पहचान इस तरह से होती है जो, जो पार्टनर के उसके दोस्तों के साथ घूमने जाने और मस्ती करने के दौरान बार बार फोन करके उसकी लोकेशन और कंपनी चेक नहीं करता है।

जो बार बार ये जानने की कोशिश नहीं करता कि वो किसके साथ थी। साथ ही उसे अपने पार्टनर को पूर्ण विश्वास रहता है कि वो उसकी है, और लौट कर उसके पास ही आने वाली है।

5. नहीं करनी चाहिए तुलना…

जो अपनी पार्टनर के पूराने साथी से तुलना करने पर शिकायत नहीं करता और जब वो बताती है कि वो कितना बुरा था तो धैर्य से उसकी बात सुन कर सांत्वना देता है और ये नहीं कहता कि वो दोनों की तुलना करना बंद कर दे।

वो आपके घर के काम निपटाने के तरीकों पर सवाल नहीं खड़ा करता। वो इसे लिंग भेद का मसला नहीं बनाता।

6. बच्चों के लिए बन जाये बच्चा…

जो बच्चों से प्यार जताये और उनके साथ दोस्ती कर ले। जो मर्द छोटे बच्चों के साथ उनकी तरह बच्चा बन कर खेल सके वो सचमुच असली मर्द है।

यह भी पढ़ें.  मोदी का मिशन Apple! अब दुनिया चखेगी कश्मीरी सेब का स्वाद

7. न करे कोई फर्क…

असली मर्द की पहचान कुछ ऐसे भी होती है जो वो औरत या मर्द के फर्क से ऊपर उठ कर महिलाओं का सम्मान करता है। फिर वाहे महिला उसकी मां हो या पत्नी वो सबको बाराबर महत्व देता है।

8. पसंदीदा चीजों का रखें ख्याल…

असली मर्द अपनी पार्टनर की ही नहीं उसके अपनों और उसकी पसंदीदा चीजों की भी परवाह करता है। सिर्फ आपसे मतलब रख कर वो आपके माहौल और क्लोज लोगों को नजर अंदाज नहीं करता।

9. रखें सभी का ख्याल…

भागीदारी हर स्तर पर करना उसकी प्राथमिकता होती है। यहां तक कि वो बिस्तर पर भी इस बात का ख्याल रखता है कि सिर्फ बेड ही नहीं रजाई या कंबल भी आप दोनो को शेयर करना है। ऐसा नहीं है कि वो पूरी रजाई खींच कर ओढ़ ले और आपको ठंडक में छोड़ दे।

यह भी पढ़ें: अफवाह या हकीकत, भारत का चंद्रयान उठायेगा इस झूठ से पर्दा

10. एक्स को न करें बदनाम…

अपनी पूर्व प्रेमिका पर कींचड़ नहीं उछालता है। जी हां आप को प्रभावित करने या अपनी भड़ांस निकालने के लिए एक असली मर्द कभी भी अपनी पूर्व प्रेमिका पर गंदे आरोप नहीं लगायेगा।

वो अपनी साथी से ईमानदारी से कहेगा कि उसकी पिछली रिलेशनशिप नहीं चल सकी और अब वो अलग हैं, पर वो उसके बारे में कोई खराब कमेंट नहीं करना चाहता क्योंकि कभी उसने उसी को प्यार किया था।